तेजी से बढ़ रहे कोरोना के मामले, लोगों को समय पर नहीं मिल रही वैक्सीन

निर्धारित 10 हजार टीकाकरण के लक्ष्य को 30 फीसद तक कम किया गया। कार्ड में लिखी तिथि के अनुसार दूसरी डोज नहीं दे पा रहा है स्वास्थ्य विभाग।

By: Rahul Chauhan

Published: 09 Apr 2021, 12:00 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

नोएडा। कोरोना वायरस के तेजी से बढ़ते मामलों के बाद लोगों में वैक्सीन लगाने को लेकर उतावली देखी जा सकती है। लेकिन लोग जब टीकाकरण कराने सेंटर पर पहुंच रहे हैं तो वहां पर रजिस्ट्रेशन होने के बावजूद टीकाकरण नहीं हो पा रहा है। इसका कारण मेरठ से वैक्सीन के नोएडा ना पहुंचना बताया जा रहा है। जिसके कारण दूर-दूर से आए लोगों को परेशान होकर वापस जाना पड़ रहा है। वहीं नोएडा के ईएसआई अस्पताल में कोरोना की वैक्सीन न पहुँच पाने के कारण बोर्ड लगा दिया गया कि आठ तारीख को टीकाकरण नहीं होगा और टीका लगाने आए लोगों को वापस घर भेज दिया गया।

यह भी पढ़ें: Coronavirus खात्मे के लिए लगातार 14 हफ्ते से किया जा रहा हवन यज्ञ और भंडारा

दरअसल, नोएडा के सेक्टर 24 स्थित ईएसआई अस्पताल में बोर्ड लगा दिया गया की 8 अप्रैल को टीकाकारण नहीं होगा। लोग दूर –दूर से आ रहे है और बोर्ड को देख कर निराश हो कर लौट गए। ग्रेटर नोएडा से टीका लगाने आए एक शख्स का कहना था कि टीकाकारण नहीं होगा का लगा बोर्ड देख कर वह वापस लौट रहे हैं। अगर पहले सूचना मिल जाती तो समय और पैसा दोनों बच जाता। खोडा कालोनी से महिला को उनके ऑफिस वालों ने टीका लगाने को कहा था। वह ऑफिस से छुट्टी लेकर आई थीं, पर टीका नहीं लग पाया। सरकार विदेशों में टीका भेज रही है, लेकिन देश के लोगों के लिए टीका उपलब्ध नहीं करा पा रही है।

उधर, ईएसआई अस्पताल में कोविड सेंटर के नोडल अधिकारी डॉ प्रवीण सतारा का कहना है कि सुबह सीएमओ ऑफिस से सूचना आई थी कि एक दिन के लिए टीकाकरण नहीं होगा। सूचना को बोर्ड पर लगा दिया गया। कितने लोगों को टीका लगना था, इसकी भी जानकारी नहीं है, ये जानकारी सीएमओ ऑफिस को है। लेकिन जिनका रजिस्टेशन हुआ है, उनको दोबारा रजिस्टेशन करने की जरूरत नहीं है। वैक्सीन उपलब्ध होते ही लगा दी जाएगी।

यह भी पढ़ें: रात दस बजते सड़क पर उतरी पुलिस फोर्स, प्रमुख चौराहों पर बैरिकेडिंग

वहीं स्वास्थ्य विभाग के सूत्र बताते हैं कि लगातार पिछले चार दिनों से जिले में कोरोना वैक्सीन का गंभीर संकट है। टीकाकरण के लिए स्वास्थ्य विभाग को नाम मात्र के लिए डोज मिल रही है। हालात यह हो गए हैं कि विभाग ने फजीहत से बचने के लिए प्रतिदिन के लिए निर्धारित 10 हजार टीकाकरण के लक्ष्य को 30 फीसद तक कम कर दिया है। जिले में कोविशील्ड व को-वैक्सीन दोनों ही टीकों का अभाव है। तीसरे चरण के तहत बुजुर्गों व बीमारों को कार्ड में लिखी तिथि के अनुसार दूसरी डोज नहीं दिया जा रहा है। एक मार्च को जिले में तीसरे चरण की शुरुआत हुई। माह भर में 66 हजार 424 से अधिक लोगों को टीका लगा। बताया जा रहा है किमेरठ मंडल में शासन से मंगलवार को 30 हजार डोज आईं, जहां से जिले को सिर्फ 5,500 मिलीं। वैक्सीन की कमी का कारण क्या है, इस बारे में अधिकारी कुछ भी कहने से बच रहे हैं।

coronavirus
Rahul Chauhan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned