कुंभ और चुनाव में उमड़ रही भीड़ रोकने के लिए सुप्रीम कोर्ट में जनहित याचिका दायर

नोएडा के रहने वाले एक व्यक्ति ने दायर की याचिका में कहा है कि कुंभ में आने वाले लोग कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन नहीं कर रहे और चुनाव में भी नियमाें की धज्जिां उड़ रही हैं।

By: shivmani tyagi

Updated: 17 Apr 2021, 05:25 PM IST

पत्रिका न्यूज़ नेटवर्क

नोएडा noida हरिद्वार में चल रहे कुंभ Kumbh में उमड़ रही भीड़ को रोकने के लिए सुप्रीम कोर्ट Supreme Court में एक जनहित याचिका दायर की गई है । इस पीआईएल PIL में कहा गया है कि कुंभ में पहुंचने वाले लोग कोविड-19 प्रोटोकॉल का उल्लंघन कर रहे हैं और इससे कोरोना के स्प्रैड होने का खतरा बढ़ रहा है।

यह भी पढ़ें: यूपी में कोरोनावायरस संक्रमण से 120 की मौत

यह पीआईएल नोएडा के रहने वाले संजय कुमार पाठक की ओर से दायर की गई है। याचिका में उन्होंने कहा है कि वर्तमान समय में महामारी एक बड़ा खतरा है। कुंभ मेले जैसा आयोजन इस खतरे को बढ़ावा दे रहा है। इसके पीछे उन्होंने वजह बताई है कि कुंभ में जो लोग पहुंच रहे हैं वह कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन नहीं कर रहे। अगर वह हरिद्वार कुंभ में संक्रमित होकर यह लोग देश भर के अलग-अलग हिस्सों में वापस लौटेंगे तो वहां भी कोरोनावायरस फैलेगा।

यह भी पढ़ें: आगर चाहते हैं धन तो नवरात्र में ऐसे करें मां की पूजा, जीवन में कभी नहीं आएगी दरिद्रता बरसेगा धन

पीआईएल में उन्होंने कहा है कि जो तस्वीरें मेले की सामने आ रही है उसमें मास्क तक दिखाई नहीं दे रहा और लोग सोशल डिस्टेंसिंग का भी पालन नहीं कर रहे हैं। बावजूद इसके कोई कार्यवाही नहीं की जा रही। याचिकाकर्ता ने कहा है कि भले ही यह बीमारी पूरे देश में फैल रही है लेकिन रेलवे लोगों के हरिद्वार में इकट्ठा होने के लिए विशेष ट्रेनें चला रहा है। भारत सरकार और उत्तराखंड राज्य और राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने भी हरिद्वार में उमड़ रही भीड़ को रोकने के लिए कोई कदम नहीं उठाए हैं और इससे कोरोनावायरस की स्थिति और अधिक भयावह बन सकती है।

यह भी पढ़ें: आपातकाल में संजय गांंधी और एनडी तिवारी ने 45 साल पहले बसाया था ये शहर, आज दुनियाभर में है फेमस

सुप्रीम कोर्ट में दायर इस जनहित याचिका में याची ने यह भी कहा है कि उत्तराखंड सरकार इस मामले को गंभीरता से नहीं ले रही और स्वयं उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत लोगों को इस आयोजन में पहुंचने के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं। अपनी याचिका में उन्होंने आगे लिखा है कि एक ही देश में दो अलग-अलग तरह की तस्वीरें सामने आ रही हैं। एक और सड़क पर गरीब और आम आदमी को परेशान किया जा रहा है और दूसरी और कुंभ वह चुनाव जैसे आयोजनों में भारी भीड़ उमड़ रही है यह बिल्कुल गलत है।

यह भी पढ़ें: निरंजनी अखाड़ा ने किया कुंभ समाप्ति का ऐलान, बढ़ते संक्रमण को बताया वजह, देखें वीडियो

याचिका में सुप्रीम कोर्ट से मांग की गई है कि उत्तराखंड मेले में पहुंचने वाले सभी विज्ञापन वापस कराये जाएं उत्तराखंड सरकार को यह निर्देश दिए जाएं कि वह उत्तराखंड में उमड़ने वाली भीड़ को रोकने और कोविड-19 प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन कराने के प्रयास करे। याचिका में याची ने यह भी कहा है कि सुप्रीम कोर्ट चुनाव आयोग Election Commission को भी निर्देशित करे कि चुनाव आयोग को उन स्थानों पर भी कोविड-19 के प्रोटोकॉल का पालन कराना चाहिए जहां पर चुनाव हो रहे हैं और भीड़ उमड़ रही है।

यह भी पढ़ें निर्वाणी अखाड़ा के महामंडलेश्वर की कोरोना से मौत, कुंभ मेले में हुए थे शामिल, कुंभ मेले में 72 घंटों में मिले 1500 से अधिक कोरोना पॉजिटिव

Show More
shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned