वादे के पक्के हैं मोदी, निभाएंगे राम मन्दिर निर्माण का वादा: विहिप

वादे के पक्के हैं मोदी, निभाएंगे राम मन्दिर निर्माण का वादा: विहिप
pm narendra modi

sandeep tomar | Publish: Dec, 06 2016 07:10:00 PM (IST) Noida, Uttar Pradesh, India

विहिप के प्रवक्ता विनोद बंसल का कहना है कि राम मंदिर के लिए संसद को प्रस्ताव पारित करना चाहिए

नई दिल्ली/नोएडा. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपनी बात के पक्के व्यक्ति हैं और अगर उन्होंने राममंदिर निर्माण का वायदा किया है तो वह इसे अवश्य निभाएंगे. देश का हिन्दू बहुल समाज आज भी मन्दिर निर्माण के लिए उनकी तरफ देख रहा है. यह बात विश्व हिन्दू परिषद ने बाबरी ढांचा गिराए जाने के दिन 6 दिसम्बर पर यह बात कही.

राममन्दिर निर्माण के लिए कब और किस तरह प्रयास शुरू होगा, इस सवाल पर विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) के राष्ट्रीय प्रवक्ता विनोद बंसल ने कहा कि हिन्दू समाज बहुत सहनशील होता है, वह कानून को मानने वाला होता है. यही कारण है कि इस देश में सौ करोड़ हिंदुओं के होते हुए भी अपने एक अधिकार के लिए वह देश के कानून और देश की संसद की तरफ आशापूर्ण नजरों से देख रहा है. उन्होंने कहा कि उन्हें विश्वास है कि देश की सर्वोच्च अदालत जल्दी ही हिंदुओं की भावनाओं का सम्मान करते हुए सैकड़ों सालों से वंचित उसके अधिकार को बहाल करेगी.

सांसद से पारित हो प्रस्ताव

उन्होंने कहा कि इसके आलावा उनका विश्वास आज की सत्ताधारी पार्टी से भी है. प्रधानमंत्री मोदी ने लोकसभा चुनाव के दौरान देश की हिन्दू जनता से इस बात का वायदा किया है कि वे सत्ता में आने पर राममंदिर निर्माण करेंगे. अब जब कि देश की जनता उन पर विश्वास करके उन्हें चुन चुकी है तो वे भी अपना वायदा अवश्य निभाएंगे.

उन्होंने कहा कि इस तरह के विवादित विषय पर पहले भी हमारी संसद फैसला ले चुकी है. सोमनाथ मन्दिर का निर्माण संसद के एक प्रस्ताव के बाद ही किया गया था. इसलिए आज राममंदिर के निर्माण के लिए भी देश की संसद को आगे आना चाहिए. उन्होंने कहा कि जरूरी नहीं कि संसद में राममंदिर के निर्माण का प्रस्ताव सरकार ही लाये, चूंकि राम सबके हैं, इसलिए इसका प्रस्ताव किसी भी दल का कोई भी सदस्य कर सकता है.

राम मंदिर पूरे देश का सवाल


विहिप नेता ने कहा कि बाबरी ढांचा एक आततायी की पहचान थी जिसे हिंदुओं के स्वाभिमान को ठेस पहुंचाने के लिए बनाया गया था. उन्होंने कहा कि आज कोई भी हिंदुस्तानी, वह चाहे जिस भी धर्म का हो, वह ऐसे लुटेरे आतंकी से अपना सम्बन्ध नहीं स्थापित करना चाहेगा. इसलिए आज पूरे देश के हर समाज को एक होकर मन्दिर निर्माण का रास्ता आगे बढ़ाना चाहिए, क्योंकि राम और राममंदिर सिर्फ हिंदुओं की आस्था का प्रश्न नहीं है, यह समूचे हिन्दुस्तान का प्रश्न है.

राममंदिर आंदोलन चलाने वाले प्रमुख संगठन विहिप ने कहा कि वे आज भी अपने उस स्टैंड पर कायम हैं और अंत तक उसी स्टैंड पर कायम बने रहेंगे जब तक कि अयोध्या में भगवान राम का मन्दिर बन नहीं जाता. उन्होंने कहा 'मन्दिर वहीं, मस्जिद नहीं और बाबरी मस्जिद कहीं नहीं' यही हमारा उद्घोष रहा है और वे इससे कभी पीछे नहीं हटेंगे.
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned