scriptPolice arrest many people of cyber fraud | निवेश के नाम पर साइबर फ्रॉड करने वाले अंतरराज्यीय गैंग का भंडाफोड़, महिला समेत आठ गिरफ्तार | Patrika News

निवेश के नाम पर साइबर फ्रॉड करने वाले अंतरराज्यीय गैंग का भंडाफोड़, महिला समेत आठ गिरफ्तार

डीसीपी राजेश एस ने बताया कि एनटीपीसी से सेवानिवृत्त जीएम रियाज हसन ने बीमा कराने के नाम पर 1.44 करोड़ रुपये ठगने की शिकायत 2021 में की थी। मामले की जांच के बाद कोतवाली सेक्टर-58 के प्रभारी निरीक्षक विनोद कुमार की टीम ने आरोपियों को डासना से गिरफ्तार किया है।

नोएडा

Published: January 12, 2022 05:31:23 pm

सेक्टर 58 कोतवाली पुलिस ने निवेश के नाम पर साइबर फ्रॉड करने वाले अंतरराज्यीय गैंग का भंडाफोड़ करते हुए एक महिला समेत 8 लोगों को गिरफ्तार किया है। यह गैंग अलग-अलग ग्रुप बना कर अलग-अलग क्षेत्रों में सीनियर सिटीजन और रिटायर ऑफिसर्स का डाटा इकट्ठा करता था और उन्हें ठगी का निशाना बनाता था। इनके कब्जे से 47 लाख 55 हजार रुपये कैश, 4 लग्जरी गाड़ियां, एक हार्ले डेविडसन बाइक, 16 मोबाइल फोन, 6 लैपटॉप और 85 आधार कार्ड समेत अन्य सामान बरामद किया है।
noida_cyber.jpg
पुलिस ने निखिल जाधव उर्फ नीरज कुमार, शंभूनाथ उर्फ अजहर उर्फ अजरुदीन, एके त्रिपाठी उर्फ विकास उर्फ अटल उर्फ रामप्रताप उर्फ अमरपाल, एके गुप्ता उर्फ सोहन उर्फ स्वाति सेठिया और प्रीति त्यागी उर्फ नीतू आर्य, सुनील विहान और शाहरुख खान को गिरफ्तार किया है। आरोपियों पर सीनियर सिटीजन और रिटायर ऑफिसर्स पर निवेश के नाम पर साइबर फ्रॉड कर ठगी करने का आरोप है।
यह भी पढ़ें

एटीएम बूथ में तकनीकी छेड़छाड़ कर बैंकों को लाखों का चूना लगाने वाले तीन ठग गिरफ्तार

डीसीपी नोएडा ने बताया कि इनमें मास्टरमाइंड नीरज ने दिल्ली से एमबीए किया। वह नोएडा में कोलोप्लास्ट कम्पनी में 15 लाख पैकेज में काम करता। वर्तमान में मुम्बई में ईएसएसआईटीवाई इंडस्ट्री प्रा.लि. में लगभग 30 लाख पैकेज पर काम करता था। सहयोगी अमरपाल ने मेरठ एफआईटी से एमसीए किया था उसके बाद कुछ समय कम्पनी में काम किया उसके बाद स्वयं का एनजीओ जीवन छाया चलाता है। जिसके माध्यम से फर्जीवाड़ा भी करता है। गैंग का सगना शम्भूनाथ (फर्जी नाम) उर्फ अजहर उर्फ अजहरउद्दीन है। ये आरोपी पहले बुजुर्गों से बातचीत कर उनका हालचाल लेते थे और फिर आकर्षक ऑफर बनाकर इंश्योरेंस कंपनियों में निवेश करने के लिए तैयार करते थे। इसके बदले उन्हें कंपनी के फर्जी कागज भेजते थे। कुछ पैसे निवेश करने के बाद उन्हें उससे अधिक रकम कुछ समय में ही रिफंड कर देते थे। इससे बुजुर्गों का विश्वास बढ़ जाता था।
पीड़ित रियाज हसन को भी इन आरोपियों ने पहले सात लाख रुपये वापस कर दिए थे। इसके बाद उनका विश्वास इन पर बढ़ गया था और 1.44 करोड़ रुपये निवेश कर दिए। आरोपियों के पकड़े जाने पर रियाज हसन की पत्नी नफीस फातिमा ने नोएडा पुलिस का शुक्रिया अदा किया है। फातिमा ने बताया कि जिंदगी भर की कमाई चली गई थी। नोएडा पुलिस ने उसे वापस दिलाकर हमें जीने का रास्ता दिया है।
यह भी पढ़ें

Corona in Noida: नोएडा में मिले रहे हैं रिकॉर्ड तोड़ कोरोना संक्रमित, सात हजार के पार हुए सक्रिय केस

इस गैंग ने अलग-अलग राज्यों जैसे मुम्बई, जामनगर गुजरात, पुणे व राजस्थान आदि जगह पर रहने वालो ऐसे लगभग 250-300 लोगों के के साथ फ्रॉड किया गया जा चुका है। नीरज, अमरपाल व अहजर के द्बारा सभी लोगों को कस्टमर से बात करने का टार्गेट दिया जाता था, जो पैसा आता था उसको सभी लोगो को बांटा जाता था। हमारे पास कुछ नहीं बचा था। इस खुलासे के बाद कोतवाली सेक्टर-58 के प्रभारी निरीक्षक विनोद कुमार की टीम को संयुक्त पुलिस आयुक्त लव कुमार की तरफ से 50 हजार रुपये और डीसीपी नोएडा राजेश एस की तरफ से 25 हजार रुपये का इनाम घोषित किया गया है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.