लूट की शिकायत पर शुरू हुई जांच तो सामने आया समलैंगिक देह व्यापार का ऐसा खेल- देखें वीडियो

Nitin Sharma | Updated: 16 Sep 2019, 02:07:44 PM (IST) Noida, Gautam Budh Nagar, Uttar Pradesh, India

Highlights

  • इस ऐप के माध्यम से समलैंगिक देह व्यापार से जोड़ते थे आराेपी
  • संबंध बनाने के बाद लूटपाट की वारदात को देते थे अंजाम
  • पुलिस ने तीन बदमाशों को गिरफ्तार कर भेजा जेल

नोएडा। हाईटेक शहर के फेज टू थाने में लूट की शिकायत पर पुलिस ने लुटेरों को दबोचा तो समलैंगिक देह व्यापार का भाड़ाफोड़ हो गया। जिसमें पता चला कि आरोपी समलैंगिक ग्रेंडर नाम के एक ऐप के माध्यम से जुड़े थे। इसी ऐप से फंसाकर आरोपी लुटेरों ने पीडि़त से लूट की वारदात को अंजाम दिया। पुलिस ने आरोपियों के कब्जे से लूट का सामान भी बरामद किया है।

ऐप डाउनलोड कर ग्रुप में हो गये थे शामिल

पुलिस की गिरफ्त में आए तीनों आरोपी विशाल, शहजाद और राहुल समलैंगिक सेक्स रैकेट से ग्रेंडर नाम के एक ऐप से जुड़े हुए है। विशाल ने पूछताछ में स्वीकार किया की वह समलैंगिक संबंधों का शौकीन है। अपने शौक को पूरा करने के लिए एक वर्ष पहले उसने अपने मोबाइल फोन में ऐप डाउनलोड किया था। इस पर रजिस्टर्ड व्यक्तियों के दो प्रकार के प्रोफाइल होते हैं। इनमें से कुछ संबंध बनाने के पैसे देते हैं और कुछ संबंध बनाने पर पैसे लेते हैं।

इसी ग्रेंडर ऐप से आरोपियों की पीडि़त से हुई थी पहचान

ग्रेंडर ऐप के जरिये करीब पांच माह पहले स्टोर मैनेजर से आरोपियों का संपर्क हुआ था और सहमति से संबंध बनाए थे। 4सितंबर को पीडि़त को फोन करके आरोपियों ने एक बार फिर बुलाया। उस समय शहजाद, राहुल और अंकुर भी मौजूद थे। इस दौरान दोनों के बीच कुछ लेनदेन की बात बिगड़ी और चारों ने मारपीट कर पीडि़त का एटीएम कार्ड छीन लिया। इलेक्ट्रॉनिक टॉर्च से करेंट लगा कर पिन पूछ कर उससे पैसे निकाल लिये। इसके बाद आरोपी मौके से मोबाइल फोन छिनकर फरार हो गये। इस मामले में थाना फेज 2 पुलिस ने तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। इसके साथ ही लूटा गया सामान भी बरामद कर लिया है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned