मोदी दें जवाब, अगर 50 दिन में दिक्कतें कम नहीं हुईं तो कौन सी सजा दें

मोदी दें जवाब, अगर 50 दिन में दिक्कतें कम नहीं हुईं तो कौन सी सजा दें
Rahul Gandhi

sandeep tomar | Publish: Dec, 27 2016 08:01:00 PM (IST) Noida, Uttar Pradesh, India

नोटबंदी के मुद्दे पर राहुल गांधी ने मोदी पर साधा निशाना

नई दिल्ली/नोएडा. नोटबन्दी के फैसले के पचास दिन पूरे होने में तीन दिन बाकी रहने के बीच कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने मोदी से पूछा कि उनके वायदे के मुताबिक अगर पचास दिन में लोगों की मुश्किलें ख़त्म नहीं हुईं तो लोग उन्हें कौन सी सजा दें.

यूपी के अमेठी से सांसद राहुल गांधी ने कहा कि नोटबन्दी का फैसला पूरी तरह पीएम मोदी का अपना था, उन्होंने इतना बड़ा कदम उठाने के पहले किसी से भी सलाह नहीं ली, पीएम ने यह समझने की कोशिश नहीं की कि इस फैसले का इतने बड़े देश पर क्या असर पड़ेगा. इसलिए अब पीएम को यह बताना चाहिए कि अगर उनके हिसाब से लोगों की दिक्कतें ख़त्म नहीं हुईं तो इस देश की जनता उनके साथ कैसा व्यवहार करे.

आडवाणी ने भी दिया था इस्तीफा

कांग्रेस उपध्यक्ष राहुल गांधी ने सहारा की डायरी के माध्यम से एक बार फिर मोदी पर हमला बोला. उन्होंने कहा कि इसी तरह का एक मामला पहले भी हुआ था. तब जैन डायरी के मामले में कांग्रेस के कई नेताओं सहित खुद भाजपा से आडवाणी ने भी इस्तीफा दे दिया था और जब मामला साफ़ हो गया तब वापसी की. राहुल ने सवाल किया कि जब सहारा डायरी के ही मामले में कांग्रेसी नेता शीला दीक्षित को जांच से कोई परेशानी नहीं है तो पीएम को सहारा मामले पर जांच से क्यों भागना चाहिए, आखिर वे हमेशा एक साफ़-स्वच्छ सरकार देने का वायदा करते आये हैं. आज जब अपना मामला आया तो वे अपने ही वायदे से मुकर गए.

पूरा विपक्ष एक साथ


नोटबन्दी के फैसले पर पूरे विपक्ष को साथ लेने की कोशिश में असफल रहे राहुल के साथ मंच पर टीएमसी, डीएमके, आरजेडी और कुछ अन्य छोटे दल ही उपस्थित हुए. वामपंथी दलों, जेडीयू, बहुजनसमाज पार्टी और समाजवादी पार्टी जैसे बड़े दलों से कोई भी साथ नहीं आया. विपक्षी खेमे से ये प्रमुख दल क्यों उपस्थित नहीं हुए, यह सवाल करने पर राहुल ने कहा कि नोटबन्दी के फैसले पर पूरा विपक्ष एक साथ खड़ा है, लेकिन अपनी क्षेत्रीय जरूरतों और मजबूरियों के कारण अनेक दल वार्ता में उपस्थित नहीं हो सके.
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned