प्रधानमंत्री आवास योजना को लेकर RTI का मंत्रालय ने दिया जवाब, जानकर चेहरे पर आ जाएगी मुस्कान

Highlights:

-समाजसेवी रंजन तोमर द्वारा एक पत्र आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय को लिखा गया था

-उन्होंने शिकायत की थी कि 2017-18 व 2018-19 में ग्रह निर्माण की गति तेज थी, वह 2019-20 में कम हो गई

-जिस पर मंत्रालय द्वारा जवाब भेजा है

By: Rahul Chauhan

Updated: 12 Mar 2020, 01:15 PM IST

नोएडा। दुनिया भर में मंदी, कोरोना वायरस का प्रकोप एवं दिल्ली दंगों की घटनाओं बाद कुछ अच्छी और समावेशी खबर आई है। दरअसल, समाजसेवी रंजन तोमर द्वारा एक पत्र आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय को लिखा था। जिसमें प्रधानमंत्री आवास योजना द्वारा किये गए कार्यों पर रोशनी डालते हुए यह शिकायत की गई थी कि 2017-18 एवं 2018-19 में जहां ग्रह निर्माण की गति बेहद तेज थी, वहीं वह 2019-20 में काफी कम हुई है। ऐसे में तोमर ने मंत्रालय को आगाह किया कि जल्द से जल्द इस गति को फिरसे बढ़ाया जाए।

यह भी पढ़ें : यूपी के इस शहर में 2 घंटे तक होती रही ताबड़तोड़ फायरिंग, इलाके में मची अफरातफरी

इस बाबत उन्हें मंत्रालय के निदेशक आर.के गौतम का जवाब प्राप्त हुआ। जिसमें कहा गया है कि 112.24 लाख घरों की मांग में से 103.22 लाख घरों को स्वीकृत कर लिया गया है। जिसमें से तकरीबन 60 लाख निर्माणाधीन हैं। 32 लाख पूर्ण कर लिए गए हैं, जबकि तकरीबन 29 लाख घरों में लोग रहने लगे हैं। इसके बाद निदेशक कहते हैं कि मिशन की समयसीमा अर्थात 2022 तक बाकी बचे सभी मकान बना लिए जायेंगे।

यह भी पढ़ें : तेज रफ्तार बाइक पर वीडियो बनाना तीन दोस्तों को पड़ा भारी, एक की मौके, दो गंभीर

रंजन तोमर ने बताया कि यह देश के लिए बहुत ख़ुशी की बात है कि करोड़ों लोगों को अपना खुद का घर सरकार द्वारा प्रदान करना लोकतंत्र के लिए बड़े गौरव की बात है। जहां देश में धर्म के नाम पर लोगों को बांटा जा रहा है। ऐसे में सभी धर्मों को प्रधानमंत्री आवास योजना में घर मिलना, देश विरोधी शक्तियों के मुंह पर एक तमाचे का काम करेगा और दुनिया में एक समावेशी पैगाम भी देश के प्रति जाना तय है कि किस प्रकार सरकार सभी के लिए घर बनाकर दे रही है।

Rahul Chauhan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned