मायावती पर विवादित बयान देने वाली भाजपा विधायक को नहीं दिया जाएगा नोटिस, ये है बड़ी वजह

मायावती पर विवादित बयान देने वाली भाजपा विधायक को नहीं दिया जाएगा नोटिस, ये है बड़ी वजह

Nitin Sharma | Publish: Jan, 21 2019 03:38:33 PM (IST) | Updated: Jan, 21 2019 03:38:34 PM (IST) Noida, Gautam Budh Nagar, Uttar Pradesh, India

कार्यक्रम में दौरान भाजपा विधायक ने की थी मायावती पर आपत्तिजनक टिप्पणी

नोएडा।भाजपा की महिला विधायक द्वारा भाषण के दौरान बसपा सुप्रीमो मायावती पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने को लेकर चर्चा बनी हुर्इ है।इतना ही नहीं बसपा से लेकर सपा नेताआें ने इसकी निंदा करते हुए भाजपा विधायक साधना सिंह के कर्इ जगहों पर पुतले जला दिये है।वहीं इसको लेकर राज्य महिला आयोग ने भाजपा महिला विधायक को किसी भी तरह का नोटिस देने से साफ इनकार कर दिया है।इस पर राज्य महिला अायोग ने इसकी वजह भी स्पष्ट की है। वहीं राष्ट्रीय महिला आयोग ने भाजपा विधायक के इस टिप्पणी पर खुद संज्ञान लिया है।

यह भी पढ़ें-Video: थानाध्यक्ष के हटने पर निकाली 'बारात', सड़क पर जमकर नाचे पुलिसकर्मी तो वायरल हुआ एेसा वीडियो

भाजपा विधायक ने मायावती पर की थी एेसी टिप्पणी आैर फिर

मुगलसराय क्षेत्र से भाजपा विधायक साधना सिंह शनिवार को चंदौली जिले के करणपुरा गांव में आयोजित किसान कुंभ कार्यक्रम में पहुंची थी।यहां उन्होंने भाषण देते हुए विपक्ष पर हमला बोलने के साथ ही बसपा सुप्रीमो मायावती का जिक्र करते हुए अशोभनीय टिप्पणी कर दी थी। उनकी इस टिप्पणी पर नाराजगी जताने के साथ ही बहुत ही अशोभनिय बताया।साथ ही बसपा समेत सपा नेताआें ने विधायक के खिलाफ कार्रवार्इ की मांग की।वहीं कुछ घंटे बाद ही भाजपा विधायक साधना सिंह ने मायावती पर टिप्पणी को लेकर माफी मांग ली।इतना ही नहीं उन्होंने एक माफीनामा लिखा।जिसमें उन्होंने कहा कि उनका मकसद किसी को अपमान करना नहीं था।बल्कि मायावती को 2 जून 1995 में गेस्ट हाउस कांड के दौरान भाजपा नेताआें द्वारा उनकी जो मदद की।उसे याद दिलाना था।मेरी मंशा किसी को अपमानित करने की नहीं थी।

राज्य महिला आयोग अध्यक्ष ने नोटिस न देने की बतार्इ ये वजह

वहीं भाजपा विधायक साधना सिंह द्वारा मायावती पर टिप्पणी को लेकर राज्य महिला आयोग अध्यक्ष विमला बाथम ने कहा कि भाजपा विधायक को हमारी तरफ से कोर्इ नोटिस नहीं दिया जाएगा।इसकी वजह उनका बयान के बाद गलती मानना है।अगर वह इस पर गलती नहीं मानती, तब नोटिस भेजने पर विचार किया जाता।वहीं राष्ट्रीय महिला आयोग ने इस पर स्वत: संज्ञान लिया है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned