इस शहर में बनेगी अयोध्या में लगने वाली श्रीराम की सबसे ऊंची मूर्ति, 94 वर्षीय राम सुतार करेंगे निर्माण

Highlights
- नोएडा के मूर्तिकार राम सुतार तैयार किया श्रीराम की मूर्ति का मॉडल
- साहिबाबाद या अयोध्या में किया जाएगा निर्माण
- 50 मीटर के आधार में बनेगा म्यूजियम

नोएडा. अयोध्या फैसले के बाद राम मंदिर निर्माण की कवायद शुरू हो गई है। इसी कड़ी में अयोध्या स्थित सरयू नदी के तट पर भगवान राम की दुनिया की सबसे ऊंची मूर्ति बनाई जाएगी। 251 मीटर ऊंची कांसे की मूर्ति का निर्माण नोएडा के मूर्तिकार राम सुतार करेंगे। राम सुतार इस मूर्ति का मॉडल पहले ही बना चुके हैं। बता दें कि गुजरात में नर्मदा नदी के तट पर सरदार वल्लभ भाई पटेल की 182 फुट ऊंची विशालकाय प्रतिमा का निर्माण चीन में राम सुतार ने ही किया था।

यह भी पढ़ें- अयोध्या फैसले पर ओमान में नौकरी करने वाले युवक ने की ऐसी टिप्पणी, अब लाया जाएगा भारत

नोएडा के प्रसिद्ध मूर्तिकार राम सुतार के पुत्र अनिल सुतार का कहना है कि भगवान श्रीराम की मूर्ति भारत में ही बनाने का निर्णय अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने से पहले ही हो गया था। यह विशालकाय मूर्ति गाजियाबाद जिले के साहिबाबाद या अयोध्या में बनाई जाएगी। सरयू नदी के तट पर मूर्ति की स्थापना के लिए जमीन भी तलाशी जा रही है। जमीन चिंहित होते ही उसी आधार पर मूर्ति के निचले हिस्से का डिजाइन तैयार किया जाएगा। उनका कहना है कि मूर्ति का मॉडल तैयार है, जिसे संस्तुति भी मिल चुकी है। जमीन चिंहित होते ही मूर्ति बनाने का बजट आदि भी तय कर लिया जाएगा।

कयास लगाए जा रहे हैं कि भगवान राम की मूर्ति को बनाने में सरदार वल्लभ भाई पटेल की प्रतिमा के बजट के बराबर या उससे अधिक राशि लग सकती है। अनिल सुतार ने बताया कि जिस तरह सरदार वल्लभ भाई पटेल की मूर्ति निर्माण के लिए एक एजेंसी चयनित की गई थी। उसी प्रकार श्रीराम की मूर्ति बनाने के लिए भी एक एजेंसी का चयन किया जाएगा। राम सुतार उसी एजेंसी के तहत कार्य करेंगे।

अनिल सुतार ने बताया कि मूर्ति के ऊपर भाग में एक 20 मीटर की छतरी भी बनाई जानी है। इसके साथ ही नीचे करीब 50 मीटर का आधार होगा। जहां म्यूजियम समेत कई चीजें होंगी। हालांकि जब तक जमीन चिन्हित नहीं की जाती तब तक मूर्ति के डिजाइन का काम पूरा नहीं हो सकेगा।

94 साल की उम्र में भी गढ़ रहे मूर्तियां

बता दें कि देश के प्रसिद्ध मूर्तिकार राम वानजी सुतार 94 साल के हैं। वे नोएडा में परिवार के साथ रहते हैं। राम सुतार का जन्म 19 फरवरी 1925 को महाराष्ट्र के धूलिया जिले में एक गरीब परिवार में हुआ था। राम सुतार की गिनती ऐसे मूर्तिकार के रूप में होती है, जिनमें पत्थरों से इंसान गढ़ने का अनोखा हुनर है। वह अब तक सैकड़ों मूर्तियों का निर्माण कर चुके हैं।

यह भी पढ़ें- 43 साल बाद गाजियाबाद को यह तमगा क्यों...

Show More
lokesh verma
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned