UP Board Exam: 12 हजार से घटकर साढ़े 7 हज़ार ही रह जाएंगे परीक्षा केंद्र

  • परीक्षा केन्द्र को लेकर यूपी के उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने की बड़ी घोषणा
  • पारदर्शी परीक्षा के लिए केंद्रों में लगाए जाएंगे सीसीटीवी कैमरा
  • वॉइस रिकॉर्डिंग और इंटरनेट की सुविधा से होगा लैस
  • नए सत्र से माध्यमिक शिक्षा में ऑनलाइन होगा शिक्षण कार्य

By: Iftekhar

Published: 08 Dec 2019, 01:50 PM IST

 

नोएडा. उत्तर प्रदेश में बोर्ड कि परीक्षाएं (up board Exam-2020) 17 फरवरी से शुरू होंगी। यह परीक्षा 14 दिनों तक चलेंगी। पारदर्शी परीक्षा कराने वाले के लिए 7 हजार परीक्षा केंद्र (UP BOard Examination centre) बनाए गए है। परीक्षा केंद्रों में सीसीटीवी कैमरा (CC tv Cameras), वॉइस रिकॉर्डिंग के साथ-साथ इंटरनेट का कनेक्शन से भी लैस होगा। परीक्षा केंद्रों पर 11 स्टैटिक मजिस्ट्रेट नियुक्त किए जाएंगे। स्टैटिक मजिस्ट्रेट के साथ-साथ सेंट्रलाइज कंट्रोल रूम बनाये जा रहे हैं। ये बाते उत्तर प्रदेश के उप-मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने मीडिया से बातचीत के दौरान कही। उन्होने कहा कि नए सत्र से माध्यमिक शिक्षा में ऑनलाइन शिक्षण कार्य होगा।

यह भी पढ़ें: मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना में शादी रचाने के बाद फिर से बुलाई बारात, फिर कमरे में बंद कर बारातियों को पीटा

उन्होंने कहा कि नकल विहीन परीक्षा हो इसके लिए हमने तेजी से तैयारी शुरू की है। इस वर्ष नकल विहीन परीक्षा हो, इसके लिए परीक्षा केंद्रों में सीसीटीवी कैमरा, वॉइस रिकॉर्डिंग के साथ-साथ राउटर के लिए इंटरनेट का कनेक्शन भी लगाया गया है। परीक्षा केंद्रों पर 11 स्टैटिक मजिस्ट्रेट नियुक्त किए जाएंगे। स्टैटिक मजिस्ट्रेट के साथ-साथ सेंट्रलाइज कंट्रोल रूम बनाये जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि जब हमने सत्ता संभाली थी तो उस वक्त 12 हजार से ऊपर परीक्षा केंद्र थे। जब मार्च में दूसरी बार परीक्षा हुई तभी 11500 रह गए थे। उसके बाद अगले वर्ष 8500 के आसपास रह गए। वहीं, पिछले साल 8354 परीक्षा केंद्र बनाए गए थे। इस बार इसे घटाकर साढ़े 7 हज़ार के आसपास परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं । हमने पारदर्शिता के साथ काम किया है, जिसके कारण परीक्षा केंद्र निरंतर कम हुए हैं। उसका मूल कारण यह है कि हमने नकल विहीन परीक्षा कराने के लिए कृतसंकल्प हैं।

यह भी पढ़ें: मंदी की मार: टेक्सटाइल कंपनी ने 400 कर्मचारियों को निकाला

डॉ. शर्मा ने कहा कि परीक्षा समाप्त होने के बाद, सीसीटीवी कैमरा और राउटर लगा रहने दिया जाएगा। इसका इस्तेमाल ऑनलाइन शिक्षण कार्य होगा। इसके लिए प्रत्येक जिले में 5-5 अध्यापक जो अपने सब्जेक्ट में अच्छे-अच्छे हो, उनके लेक्चर के खाली समय में कोई अगर टीचर स्कूल में नहीं आया है या पीरियड खाली है उस समय ऑनलाइन उनकी क्लास लगाई जाएगी।

Iftekhar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned