Lockdown के दौरान यूपी पुलिस ने पेश की मिसाल, प्रसव पीड़ा से तड़प रही गर्भवती को पहुंचाया अस्पताल

Highlights
- 'उत्तर प्रदेश पुलिस आपकी सेवा में सदैव तत्पर' नारा लॉकडाउन के दौरान हुआ चरितार्थ
- प्रसव पीड़ा से कराह रही एक गर्भवती महिला को सुरक्षित अस्पताल पहुंचाया
- नोएडावासियों ने की अपनी पुलिस की तारीफ

नोएडा. 'उत्तर प्रदेश पुलिस आपकी सेवा में सदैव तत्पर' यूपी पुलिस का यह नारा लॉकडाउन के दौरान पूरी तरह चरितार्थ होता नजर आ रहा है। लॉकडाउन के कारण मुश्किलों में घिरे लोगों के लिए नोएडा पुलिस मसीहा साबित हो रही है। नोएडा पुलिस न केवल सजगता के साथ अपनी ड्यूटी कर रही है, बल्कि जरुरतमंदों की हर संभव मदद भी कर रही है। ताजा मामला नोएडा के झुंडपुरा का है। जहां पुलिस ने मानवता का परिचय देते हुए प्रसव पीड़ा से कराह रही एक गर्भवती महिला को सुरक्षित अस्पताल पहुंचाया है।

यह भी पढ़ें- Lockdown: पीजी में अकेली फंसी हरियाणा की छात्रा के लिए UP Police बनी मसीहा, परिवार के पास पहुंचाया

पुलिस कमिश्नर गौतमबुद्धनगर आलोक सिंह ने बताया कि कोरोना वायरस को लेकर लॉकडाउन में पुलिसकर्मी पूरी मुस्तैदी के साथ लोगों की सेवा में जुटे हुए हैं। जहां ग्रेटर नोएडा पुलिस ने एक छात्रा की मदद करते हुए उसे हरियाणा के गुरुग्राम में रहने वाले परिवार से मिलाया है। वहीं नोएडा पुलिस ने लॉकडाउन के दौरान प्रसव पीड़ा से कराह रही एक गर्भवती महिला की मदद की है। इसको लेकर नोएडा पुलिस ने वीडियो भी ट्वीट किया है, जिसकों हजारों लोग रिट्वीट कर चुके हैं और खुलकर नोएडा पुलिस की तारीफ कर रहे हैं।

बताया जा रहा है कि नोएडा के झुंडपुरा में एक गर्भवती महिला प्रसव पीड़ा के कारण कराह रही थी। जैसे ही इसकी जानकारी सेक्टर-24 कोतवाली अंर्तगत पुलिस चौकी इंचार्ज हरिर्दशन को मिली तो वे तुरंत पुलिस वाहन से मौके पर पहुंचे और गर्भवती महिला को ईएसआई अस्पताल पहुंचाया। इस संबंध में गौतमबुद्ध नगर पुलिस का कहना है लॉकडाउन के इस कष्टदायक समय में पुलिस पूरी तरह आपके साथ है। अगर इस दौरान कोई भी संकट में है तो वह बेझिझक पुलिस से संपर्क कर सकता है।

यह भी पढ़ें- Lockdown: PM Modi अपील पर लोगों ने घरों के बाहर खींची लक्ष्मण रेखा, हर तरफ हो रही तारीफ

Show More
lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned