पर्दे के पीछे कुछ इस तरह चल रही थी अखिलेश की तैैयारी

पर्दे के पीछे कुछ इस तरह चल रही थी अखिलेश की तैैयारी
Akhilesh Yadav

sandeep tomar | Publish: Dec, 31 2016 03:59:00 PM (IST) Noida, Uttar Pradesh, India

पूरे घटनाक्रम के पीछे अखिलेश की ओर से एक नई तैयारी चल रही थी

नोएडा: पिछले तीन चार दिनों से सपा परिवार जो कुछ भी चल रहा था उसमें अखिलेश, शिवपाल और मुलायम सिंह यादव को अपने-अपने तरीके से कार्रवाई कर रहे थे। मुलायम और शिवपाल ने प्रेस कांफ्रेंस कर अपनी सारी स्थिति स्पष्ट कर दी थी। वहीं शिवपाल यादव मीडिया में बयान दे रहे थे। लेकिन अखिलेश का मीडिया में कोई बयान नहीं आया। इस पूरे घटनाक्रम के पीछे अखिलेश की ओर से एक नई तैयारी चल रही थी। आखिर क्या थी वो तैयारी आइये आपको भी बताते हैं।

राहुल और जयंत के साथ गठबंधन की तैयारी

अखिलेश यादव इस पूरे घटनाक्रम के दौरान बैकडोर से भी तैयारी करने में जुटे हुए थे। मुस्लिम वोटों के धु्रवीकरण को रोकने के लिए उन्होंने कांग्रेस के साथ गठबंधन की तैयारी कर ली थी। प्रियंका के अलावा राहुल गांधी के साथ पूरी बात हो चुकी थी। वहीं दूसरी वेस्ट यूपी की जाट बेल्ट को अपने फेवर में करने के लिए जयंत चौधरी से वार्ता हो चुकी थी। अखिलेश-जयंत-राहुल तीनों के बीच गठबंधन होने आधिकारिक घोषणा की भी तैयारी हो चुकी थी। ताकि अखिलेश को अलग से चुनाव लड़ना भी पड़े तो उन्हें जीतने में कोई परेशानी ना हो।

नीरज शेखर के साथ पार्टी सिंबल को लेकर बात

वहीं अखिलेश सपा से अलग हटकर चुनाव लड़ते तो कौन से सिंबल के साथ पब्लिक के बीच जाते। इसके लिए उनके सबसे करीबी मित्रों में से एक नीरज शेखर (चंद्रशेखर के बेटे) की पार्टी का नाम और सिंबल लेने की बात हो चुकी थी। अगर आज मुलायम और अखिलेश के बीच समझौता नहीं होता तो शाम तक पार्टी और सिंबल की घोषणा हो जाती। कहा तो ये भी जा रहा था कि रामगोपाल यादव नई पार्टी के नाम का रजिस्ट्रेशन और सिंबल की तैयारी कर रहे हैं। लेकिन स्थिति अब थोड़ी साफ हो गई है।

प्रदेश के यूथ कर रहे थे संपर्क

वहीं अखिलेश यादव और उनकी कोर टीम के मेंबर्स ने प्रदेश के युवाओं से संपर्क करने की कोशिश शुरू कर दी थी। युवाओं का फीडबैक जानने के लिए उन्होंने कॉल करने के लिए संपर्क भी करना शुरू कर दिया था। साथ अखिलेश ने अपने घोषित उम्मीदवारों से अपने-अपने विधानसभा क्षेत्रों में युवाओं को एकजुट करने को कह दिया था। जिसके लिए विधानसभा वार टीम भी गठित कर दी गई थी।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned