नेतृत्व : सफल लीडर के लिए जरूरी है व्यापक दृष्टिकोण

परिवर्तन लाने के लिए दूसरों के प्रयासों को स्वीकारना और उद्धृत करना चाहिए।

By: Patrika Desk

Published: 06 Sep 2021, 09:13 AM IST

प्रो. हिमांशु राय (निदेशक, आइआइएम इंदौर)

फल नेतृत्व के लिए आवश्यक है कि एक लीडर अपने दृष्टिकोण को व्यापक बनाए। लीडर सुनिश्चित करें कि वे अपने अधीनस्थों और साथियों के बारे में पूर्वानुमान या आकलन न करें - भले ही वे परिवर्तन के प्रति प्रतिरोध उत्पन्न कर रहे हों। इसे भारतीय विश्व दृष्टिकोण में 'दर्शन', 'लीला' और 'दिव्य योजना' की उपमाओं का विश्लेषण करके व्यापक रूप से समझा जा सकता है।

सर्वशक्तिमान त्रिदेव में से एक भगवान विष्णु का हर अवतार भौतिकवादी जगत में न केवल चारों ओर प्रसन्नता और आशा लेकर आता है, बल्कि दूसरों के अनुसरण के लिए उदाहरण प्रस्तुत करता है। एक अवतार के रूप में वे मानवीय चुनौतियों का अनुभव करते हैं और अपनी 'लीला' से ऐसे उदाहरण प्रस्तुत करते हैं जो प्रासंगिक और प्रामाणिक हैं। लीला को अक्सर लोगों के विचार और स्थितियों में हेरफेर करने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले 'नाटकीय' और 'भ्रामक तकनीक' के रूप में गलत समझा जाता है। इसके विपरीत, यह दूसरों को शामिल करने और प्रेरित करने के लिए एक दिव्य प्रक्रिया (दिव्य योजना) है, जिसमें एक व्यापक दृष्टि के साथ, विभिन्न व्यवहार और रणनीतिक भूमिका निभाने वाले उपकरणों के माध्यम से दूसरों का समर्थन और मार्गदर्शन करने के लिए विभिन्न भूमिकाओं का उपयोग किया जाता है। उन्हें दर्शन करने में मदद करने के लिए, अर्थात, अपने दृष्टिकोण को व्यापक बनाने और अपने भय पर विजय पाकर सीमाओं से मुक्त होने के लिए प्रेरित करता है।

नेतृत्व : न्यूरोलीडरशिप और '4-आइ' तंत्र से नई पारिस्थितिकी

उन्होंने अर्जुन को कर्मयोगी बताते हुए गीता का ज्ञान प्रदान किया। उन्होंने स्वयं अपने निर्णयों और कार्यों की जिम्मेदारी लेते हुए, और परिणामों को समझते हुए एक कर्मयोगी के रूप में जीवन व्यतीत किया। उन्होंने गांधारी के शाप का भी सम्मान किया, जबकि वे आसानी से इससे बच सकते थे। लेकिन वे कर्म के नियम के एक भाग के रूप में इसका सम्मान करते हैं, और अपने निर्णयों के लिए स्वयं जिम्मेदारी लेते हैं।

व्यवसाय के संदर्भ में 'लीला' को एक ऐसे हस्तक्षेप के रूप में माना जा सकता है जिसका उद्देश्य परिवर्तन और नेतृत्व विकास की पहल में प्रतिरोधी, भ्रमित या संदेहपूर्ण कर्मचारियों की भागीदारी को प्रभावी ढंग से सुनिश्चित करना है। इसमें विभिन्न प्रकार की तकनीकों का उपयोग शामिल हो सकता है जैसे कि व्यावसायिक कहानी, नाटक और अन्य प्रक्रियाएं। ये कर्मचारियों को चुनौतीपूर्ण व्यावसायिक परिवर्तनों के दीर्घकालिक लाभों को प्रतिबिंबित करने, अनुभव करने, निरीक्षण करने और स्वीकार करने के अवसर प्रदान करती हैं। यह एक लीडर को परिवर्तन के प्रतिरोध को सरल बनाने में मदद कर सकता है। उन्हें परिवर्तन लाने के लिए दूसरों के प्रयासों को स्वीकार करना चाहिए और उद्धृत करना चाहिए अर्थात कहानी कहने और पुरस्कार-आधारित संस्कृति को बढ़ावा देना चाहिए।

Patrika Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned