scriptApki baat : Why are people still hesitant about electric vehicles? | आपकी बात : इलेक्ट्रिक वाहनों के प्रति लोगों में अब भी हिचक क्यों है ? | Patrika News

आपकी बात : इलेक्ट्रिक वाहनों के प्रति लोगों में अब भी हिचक क्यों है ?

पत्रिकायन में सवाल पूछा गया था। पाठकों की मिलीजुली प्रतिक्रिया आईं। पेश हैं चुनिंदा प्रतिक्रियाएं।

Published: April 03, 2022 03:38:24 pm

भ्रांतियों की भरमार

भूमंडलीय ऊष्मीकरण में वृद्धि, पर्यावरण संरक्षण की ओर बढ़ते रुझान व सरकार की ओर से सब्सिडी प्रदान करने के बाद भी कहीं न कहीं लोग अभी भी इलेक्ट्रिक वाहनों को खरीदने में संकोच करते हैं। इसके पीछे कहीं न कहीं लोगों के मन में इनको लेकर मौजूद भ्रांतियां हैं, जैसे ये वाहन मानसून व पहाड़ी क्षेत्रों में सुचारू रूप से नहीं चलते, इनके इस्तेमाल से बिजली का बिल बढ़ जाता है, इनका रखरखाव महंगा होता है। इन भ्रांतियों का निवारण कर भी दें तो इनके चार्जिंग स्टेशन अभी केवल महानगरों में मौजूद हैं और इन वाहनों की कीमत भी काफी अधिक हैं।
electric vehicle
आपकी बात : इलेक्ट्रिक वाहनों के प्रति लोगों में अब भी हिचक क्यों है ?
- डेमिरा बृज, जोधपुर, राजस्थान

......................

इलेक्ट्रिक वाहनों की सीमाएं

इलेक्ट्रिक वाहन एक नियत दूरी तक सीमित होती है। इनमें बैटरी खराब होने का भी डर होता है। अभी तक रास्ते में चार्जिंग स्टेशन की भी सुविधा नहीं है। इसमें एक लिमिट तक ही भार ढोया जा सकता है।
मोहित सोलंकी, जोधपुर, राजस्थान

.........................

वाहनों की कीमत अधिक

पेट्रोल वाहन में लंबी दूरी की यात्रा की संभव है, वहीं इलेक्ट्रिक वाहनों की अपनी सीमा है। इनका अधिक महंगा होना भी मुख्य वजह है। लोगों में इलेक्ट्रिक वाहनों के प्रति रूचि कम है। भारत में कुछ जगहों पर ही इलेक्ट्रिक वाहनों के चार्ज करने के साधन उपलब्ध हैं, जिसके कारण लोग इलेक्ट्रिक वाहन खरीदने में हिचकते हैं।
शिवपाल सिंह, मेड़ता सिटी, राजस्थान

...................


लोगों में हिचकिचाहट

सबसे बड़ा सवाल यही है कि क्या देश इलेक्ट्रिक वाहनों को अपनाने के लिए पूरी तरह से तैयार है? बेसिक प्लेटफॉर्म और अवसंरचना, चार्जिंग स्टेशनों की कमी, ज्यादा चलने वाली बैटरी, टॉप स्पीड में कमी, अधिक कीमत इत्यादि चुनौतियों के कारण इलेक्ट्रिक वाहनों के प्रति लोगों में अब भी हिचक है।
पारसमल बोस, गुढ़ामालानी (बाड़मेर), राजस्थान

...........................

कुछ व्यावहारिक समस्याएं

भारत समेत पूरी दुनिया में इलेक्ट्रिक वाहनों को लेकर आकर्षण बढ़ रहा है लेकिन कई बुनियादी और व्यावहारिक समस्याएं हैं, जिनकी वजह से इन वाहनों को लेकर लोगों में हिचक बरकरार है। एक सर्वे में उत्तरदाताओं ने इलेक्ट्रिक वाहनों को बार बार चार्ज करने की जरूरत को लेकर आशंकाएं जाहिर की। इसके अलावा उनकी रीसेल वैल्यू और पिकअप पावर को लेकर सवाल उठाए। लंबी दूरी तय करने के मामले में मूलभूत ढांचे की कमी और उसके गैर भरोसेमंद होने की बातें भी सामने आईं। बहरहाल, सर्वे में इलेक्ट्रिक वाहन के मालिकों ने अपने चार्जिंग अनुभव पर गहरा संतोष व्यक्त किया, जो इलेक्ट्रिक वाहनों की चार्जिंग को लेकर उभरने वाले सामान्य भ्रम को तोडऩे के लिए एक अच्छा प्रमाण है।
सुभाष सिद्ध बाना, श्रीडूंगरगढ़ (बीकानेर), राजस्थान

...................

इलेक्ट्रिक में विकल्प सीमित

भारतीय ग्राहक इलेक्ट्रिक वाहनों को इसलिए तरजीह नहीं दे रहे हैं क्योंकि इन वाहनों की कीमतें अभी सबकी पहुंच में नहीं आई हैं। साथ ही, इनके विकल्प काफी सीमित हैं। ग्राहकों की चिंता इससे जुड़े बुनियादी ढांचे की कमी को लेकर भी है।
-प्रदीप सिंह सोलंकी, कोटा, राजस्थान

..................

रखरखाव पर संशय

इलेक्ट्रिक वाहन पेट्रोल-डीजल वाले वाहनों की अपेक्षा महंगे होते हैं। चार्जिंग स्टेशनों की कमी के चलते इनके लंबी दूरी तय करने में भी संशय बना रहता है। चार्जिंग करने में लगने वाला समय, बैटरी की उम्र व कीमत भी एक अहम वजह है। वाहनों की संख्या कम होने से इसकी उम्र व रखरखाव पर संदेह तो है, साथ ही ये शत-प्रतिशत प्रदूषण मुक्त नहीं हैं।
- प्रहलाद यादव, महू, मध्यप्रदेश

............................

चार्जिंग स्टेशनों की कमी

इलेक्ट्रॉनिक वाहनों के प्रति लोगों में हिचक की मुख्य वजह चार्जिंग स्टेशनों

का अभाव मानी जा सकती है। वहीं, वाहनों की स्पीड कम होने, किफायती बैटरी न होने की बातें कोढ़ में खाज बनी हैं। अगर इलेक्ट्रिक वाहनों को लोकप्रिय करना है तो पांच किलोमीटर के भीतर एक चार्जिंग पॉइंट, कम खर्च में ज्यादा चलने वाली बैटरियों का निर्माण तथा वाहनों की स्पीड बढ़ाने की तकनीक अपनानी होगी।
शिवजीलाल मीना, जयपुर, राजस्थान

........................

बड़े बदलाव की जरूरत

जो लोग पुराने पेट्रोल-डीजल वाहन का उपयोग कर रहे हैं और उनके निपटान के लिए कोई उचित व्यवस्था मौजूद नहीं है। इसके अलावा महंगे इलेक्ट्रिक वाहन और सीमित चार्जिंग स्टेशन लोगों को हतोत्साहित करते हैं। सरकार को नई इलेक्ट्रिक वाहन नीति और राजनीतिक मंशा के साथ आना चाहिए, जो आम जनता को हरित ऊर्जा का उपयोग करने के लिए प्रोत्साहित करेगी।
शशांक गहलोत, ब्यावर, राजस्थान

...........................

मध्यम वर्ग की पहुंच से दूर

वर्तमान समय में पेट्रोल और डीजल चालित वाहनों की तुलना में इलेक्ट्रिक वाहनों की कीमत में बहुत ज्यादा अंतर होने से एक मध्यवर्गीय आम भारतीय व्यक्ति उस कीमत को अदा कर पाने में असमर्थ है, इसलिए वह इलेक्ट्रिक वाहनों को मजबूरी में नहीं ले पाता और पेट्रोल या डीजल चालित वाहनों को ले लेता है ।
-निर्मल कुमार शर्मा, गाजियाबाद, उप्र

...............

सुरक्षा पर सवाल

इलेक्ट्रिक वाहन प्रदूषण रहित एक अच्छा विकल्प है लेकिन देश में अभी चार्जिंग पॉइंट भी पर्याप्त नहीं है। उनके लिए प्रशिक्षित मैकेनिक का अभाव है। सरकार को इन सभी चुनौतियों को दूर करना होगा ताकि हम पेट्रोल, डीजल जैसे जीवाश्म ईंधन पर अपनी निर्भरता कम करें और प्रदूषण रहित वातावरण बनाने में सहयोग प्रदान करें।
- एकता शर्मा, गरियाबंद, छत्तीसगढ़

................................

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मीन राशि में वक्री होंगे गुरु, इन राशियों पर धन वर्षा होने के रहेंगे आसारइन राशियों के लोग काफी जल्दी बनते हैं धनवान, मां लक्ष्मी रहती हैं इन पर मेहरबानभाग्यवान होती हैं इन नाम की लड़कियां, मां लक्ष्मी रहती हैं इन पर मेहरबानऊंची किस्मत वाली होती हैं इन बर्थ डेट वाली लड़कियां, करियर में खूब पाती हैं सफलताधन को आकर्षित करती है कछुआ अंगूठी, लेकिन इस तरह से पहनने की न करें गलतीपनीर, चिकन और मटन से भी महंगी बिक रही प्रोटीन से भरपूर ये सब्जी, बढ़ाती है इम्यूनिटीweather update news..मौसम की भविष्यवाणी सटीक, कई जिलों में तूफानी हवा के साथ झमाझमस्कूल में 15 साल के लड़के से बनाए अननेचुरल संबंध, वीडियो भी बनाया

बड़ी खबरें

Udaipur Murder Case: पूरे देश में तनाव का माहौल, दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा- CM Ashok Gehlot, देखें Video...Udaipur : उदयपुर में आगजनी-पत्थरबाजी, इंटरनेट बंद, कर्फ्यू लगाया, पूरे राज्य में अलर्टUdaipur में नूपुर शर्मा के सपोर्ट में पोस्ट करने पर युवक की गला काटकर हत्या, सोशल मीडिया पर जारी किया वीडियोMaharashtra Political Crisis: देवेंद्र फडणवीस ने राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से की मुलाकात, जल्द से जल्द फ्लोर टेस्ट कराने की मांग कीदीपक हुडा ने टी-20 इंटरनेशनल करियर का लगाया पहला शतक, आयरलैंड के गेंदबाजों की उड़ाई धज्जियांPunjab: सीएम भगवंत मान का ऐलान, अग्निपथ के खिलाफ विधानसभा में लाएंगे प्रस्ताव, होगा किसान आंदोलन जैसा विरोध!Maharashtra Political Crisis: पुत्र और प्रवक्ता बालासाहेब के शिवसैनिकों को बोल रहे भैंस-कुत्ता, उद्धव ठाकरे की अपील का एकनाथ शिंदे ने दिया जवाबMaharashtra: ईडी ने शिवसेना नेता संजय राउत को फिर भेजा समन, जमीन घोटाले के मामले में 1 जुलाई को पेश होने के लिए कहा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.