scriptAre diseases increasing due to wrong lifestyle? | आपकी बात, क्या गलत जीवनशैली से बीमारियां बढ़ रही हैंं ? | Patrika News

आपकी बात, क्या गलत जीवनशैली से बीमारियां बढ़ रही हैंं ?

पत्रिकायन में सवाल पूछा गया था। पाठकों की मिलीजुली प्रतिक्रियाएं आईं, पेश हैं चुनिंदा प्रतिक्रियाएं।

Published: May 27, 2022 03:22:50 pm

जीवनशैली में बदलाव जरूरी
दोषपूर्ण जीवनशैली न केवल बीमारियां बढ़ा रही है, अपितु असमय मौत का कारण भी बन रही है। भाग-दौड़ भरी तनावग्रस्त दिनचर्या में हम भारतीय सात्विक जीवन शैली को भूलते जा रहे हैं। देर रात तक जागना, सुबह देर से उठना, व्यायाम का दिनचर्चा मे न होना, खान-पान में फास्ट फूड का इस्तेमाल हमारी अनियमित दिनचर्या को प्रकट करता है। इसी का परिणाम है कि आज हर घर में डायबिटीज और मोटापा जैसी बीमारियां आम हो गई हंै। हमें प्रकृति के अनुरूप खानपान और जीवनशैली में बदलाव की आवश्यकता है।
-अजिता शर्मा, उदयपुर

---------------------
आपकी बात, क्या गलत जीवनशैली से बीमारियां बढ़ रही हैंं ?
आपकी बात, क्या गलत जीवनशैली से बीमारियां बढ़ रही हैंं ?
खराब जीवनशैली बीमारियों की जनक
आज का इंसान भक्ष्य और अभक्ष्य का ध्यान न रखते होते जो भी हाथ लगता है, खा-पी लेता है। पुराने जमाने के लोग ज्यादा पढ़े-लिखे न होने के बावजूद इतने समझदार थे कि अपनी दैनिक दिनचर्या नहीं बिगडऩे देते थे। इसलिए वे कम बीमार पड़ते थे और उन्हें बहुत कम ही चिकित्सा की आवश्यकता पड़ती थी। यदि सुख-शांति से जीवन व्यतीत करना है, तो हमें सेहत की ओर अवश्य ही ध्यान देना होगा। योग और प्राणायाम को अपने जीवन का हिस्सा बनाना होगा। भक्ष्याभक्ष्य का ख्याल रखना होगा और दिनचर्या नियमित रखनी होगी।
-कैलाश चन्द्र मोदी, सादुलपुर, चूूरू
................
नहीं है सोने-जागने का समय
देर रात तक जागना और फिर देर तक सोना जैसे आदतों की वजह से लोग बीमार हो रहे हैं। समय पर नाश्ता न लेना, समय पर खाना न खाना भी बीमारी का कारण है। जंक फूड का अत्यधिक सेवन, बैठे-बैठे कार्य करना, उचित शारीरिक कसरत न करना जैसी आदतों से मोटापा बढ़ रहा है।
-नरेश कानूनगो, देवास, मध्यप्रदेश
.......
जीवनशैली में सुधार जरूरी
गलत जीवनशैली मोटापा, मधुमेह, थायराइड समेत कई बीमारियों का कारण है। इनसे बचने के लिए जीवनशैली में सुधार आवश्यक है। व्यायाम को दिनचर्या में शामिल करना चाहिए।
- प्रियेश भारद्वाज, करौली
..........
कम उम्र में ही हो रही हैं गंभीर बीमारियां
पिछले कुछ सालों में लोगों के रहन-सहन में बहुत बदलाव आया है। पहले सुबह जल्दी उठकर कुछ काम हाथ से करने से शरीर स्वस्थ रहता था। वर्तमान समय में हाथ की जगह मशीन ने ले ली है। लोगों का खान-पान बदल गया है। जंक फूड खाने से मोटापा, हाई ब्लड प्रेशर, हाई कोलेस्ट्रोल और हृदय संबंधी बीमारियां होने का खतरा उत्पन्न हो गया है। मानसिक अवसाद बढऩा और सहनशक्ति कम होना यह सब आधुनिक जीवन शैली के ही परिणाम हंै। कम उम्र में हार्ट अटैक और अन्य गंभीर बीमारियां गलत जीवन शैली की ही देन हैं।
- नीलिमा जैन, उदयपुर
....................
शारीरिक श्रम को महत्त्व दें
गलत जीवनशैली से बीमारियां बढ़ रही हैं। भारत डायबीटिज कैपिटल बन गया है। हार्ट अटैक के मामले बढ़ते जा रहे हैं। मोटापा एक नया रोग बन कर उभर रहा है। लोगों को अपनी जीवनशैली बदलनी होगी। योग और शारीरिक श्रम को महत्त्व देना होगा।
-रूचिका अरोड़ा, चूरू
.............
बढ़ रहा है अवसाद
वर्तमान में लोगों का खर्च उनकी आमदनी से अधिक होता जा रहा है। ऐसी स्थिति में व्यक्ति मानसिकत तनाव में रहता है। वह खानपान और जीवनशैली पर ध्यान नहीं दे पाता। खराब जीवनशैली के कारण वह डिप्रेशन, मानसिक तनाव, ब्लड प्रेशर, हाई शुगर जैसी गंभीर बीमारियों का शिकार बन रहा है।
-विनायक गोयल, रतलाम, मध्यप्रदेश
................
फास्ट फूड से बचें
अक्सर लोग भूख लगे बिना ही कुछ न कुछ खाते रहते हैं। इससे पाचन तंत्र खराब हो जाता है। जब भूख लगे तब ही खाएं, ताकि पाचन तंत्र ठीक प्रकार से काम करता रहे। फास्टफूड खतरनाक है, इससे बचें।
-प्रियव्रत चारण, जोधपुर
...............
गलत खानपान का दुष्प्रभाव
वर्तमान में भागदौड़ की जिंदगी में गलत खानपान और मानसिक तनाव के कारण लोग मधुमेह ,ब्लड प्रेशर जैसी बीमारियों के शिकार होते हैं। फास्ट फूड और मैदा से बनी हुई चीजों के ज्यादा सेवन से भी बीमारियां हो रही हैं।
-भंवर सिंह चौहान, कुचामन सिटी
..........
समय का अभाव
आज के नौजवान के पास समय का अभाव है। शहरों में भागम भाग भरी लाइफ में लोगों के पास घर का बना पौष्टिक खाना खाने का समय नहीं है। बाजारों में बिकने वाले फास्ट फूड का स्वाद उनकी दिनचर्या का हिस्सा बन गया है। इससे लोग बीमारियों के जाल मे फंसा रहे हैं।
-अशोक कुमार शर्मा, जयपुर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मौसम अलर्ट: जल्द दस्तक देगा मानसून, राजस्थान के 7 जिलों में होगी बारिशइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलस्कूलों में तीन दिन की छुट्टी, जानिये क्यों बंद रहेंगे स्कूल, जारी हो गया आदेश1 जुलाई से बदल जाएगा इंदौरी खान-पान का तरीका, जानिये क्यों हो रहा है ये बड़ा बदलावNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयमोदी सरकार ने एलपीजी गैस सिलेण्डर पर दिया चुपके से तगड़ा झटकाजयपुर में रात 8 बजते ही घर में आ जाते है 40-50 सांप, कमरे में दुबक जाता है परिवार

बड़ी खबरें

Maharashtra Crisis: क्या ज्योतिरादित्य सिंधिया के फॉर्मूले जैसा ही एकनाथ शिंदे गुट को लाने की तैयारी में बीजेपी, समझें क्या है पार्टी का प्लान बीMaharashtra Political Crisis: आदित्य को छोड़ शिवसेना के सारे MLA Minister हुए बागी, उद्धव ठाकरे के साथ बचे सिर्फ MLC मंत्रीPresidential Election: यशवंत सिन्हा ने भरा नामांकन, राहुल गांधी-शरद पवार समेत विपक्ष के कई बड़े नेता मौजूदPunjab Budget LIVE Updates: वित्तमंत्री हरपाल चीमा ने कहा- सभी जिलों में बनाए जाएंगे साइबर अपराध क्राइम कंट्रोल रूमपटना विश्वविद्यालय के हॉस्टलों में छापेमारी, मिला बम बनाने का सामानMumbai News Live Updates: मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने बागी मंत्रियों के छीने विभागMaharashtra Political Crisis: महाराष्ट्र में क्या बन रहे हैं नए सियासी समीकरण? बागी एकनाथ शिंदे ने राज ठाकरे से की फोन पर बातचीतयशवंत सिन्हा को समर्थन देगी TRS, क्या BJP के खिलाफ विपक्ष से हाथ मिला रहे KCR?
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.