scriptBeijing Winter Olympics: Biden administration will boycott diplomatic | द वाशिंगटन पोस्ट से... बीजिंग विंटर ओलंपिक का बाइडन प्रशासन करेगा राजनयिक बहिष्कार | Patrika News

द वाशिंगटन पोस्ट से... बीजिंग विंटर ओलंपिक का बाइडन प्रशासन करेगा राजनयिक बहिष्कार

माना जा रहा है कि अमरीका सहयोगी राष्ट्रों को निर्णय से इस माह के अंत तक अवगत करा देगा। बाइडन प्रशासन इस राजनयिक बहिष्कार को अमरीका-चीन संबंधों के परिप्रेक्ष्य में बारीकियों सहित प्रस्तुत कर सकता है। मई में हाउस स्पीकर नैंसी पेलोसी ने इसे चीन की मानवाधिकार हनन गतिविधियों पर अंतरराष्ट्रीय चिंता जताने का तरीका बताते हुए बिना अमरीकी खिलाडिय़ों को प्रभावित किए बीजिंग ओलंपिक के बहिष्कार का आह्वान किया।

नई दिल्ली

Published: November 18, 2021 09:15:36 am

जोश रोजिन
(स्तम्भकार, ग्लोबल ओपिनियन सेक्शन - द वाशिंगटन पोस्ट)

बीजिंग विंटर ओलंपिक खेल शुरू होने में मात्र तीन महीने का समय है। बाइडन प्रशासन को जल्द ही स्पष्ट करना होगा कि यह कोई आधिकारिक प्रतिनिधिमंडल बीजिंग भेजेगा या नहीं। सूत्रों का कहना है कि वाइट हाउस जल्द ही यह घोषणा करेगा कि न तो राष्ट्रपति जो बाइडन और न ही अमरीकी सरकार का कोई अधिकारी बीजिंग में होने वाले ओलंपिक खेल देखने जाएगा। इसका अमरीकी खिलाडिय़ों पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा। राष्ट्रपति के पास औपचारिक तौर पर सिफारिश भेजी जा चुकी है और माना जा रहा है कि राष्ट्रपति इस माह के अंत तक इसे मंजूर कर लेंगे। इस प्रक्रिया का बाइडन व चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग की वर्चुअल भेंट के कार्यक्रम के साथ कोई सरोकार नहीं है। साढ़े तीन घंटे चली वर्चुअल बैठक में ओलंपिक खेलों का जिक्र नहीं हुआ। अमरीका अपने सहयोगियों को अपने निर्णय से अवगत करवा देगा, लेकिन वे अपना निर्णय लेने के लिए स्वतंत्र होंगे।

बाइडन प्रशासन इस राजनयिक बहिष्कार को अमरीका-चीन संबंधों के परिप्रेक्ष्य में बारीकियों सहित प्रस्तुत कर सकता है। मई में हाउस स्पीकर नैंसी पेलोसी ने इसे चीन की मानवाधिकार हनन गतिविधियों पर अंतरराष्ट्रीय चिंता जताने का तरीका बताते हुए बिना अमरीकी खिलाडिय़ों को प्रभावित किए बीजिंग ओलंपिक के बहिष्कार का आह्वान किया। उन्होंने कहा, 'अगर आप जातिसंहार करने वाली चीन सरकार का सम्मान करते हैं तो दुनिया में कहीं भी मानवाधिकारों के बारे में बोलने का आपको नैतिक अधिकार कहां रहेगा? इसलिए अपने खिलाडिय़ों का सम्मान करें, आओ राजनयिक बहिष्कार करें, इस मामले में चुप रहना अस्वीकार्य है।

पेलोसी के इस वक्तव्य के जवाब में चीन के विदेश मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने उन पर झूठ बोलने व गलत बातें फैलाने का आरोप लगाया था। साथ ही यह भी कहा था कि पेलोसी चीन को बदनाम करने के लिए कथित मानवाधिकार का मुद्दा उठा रही हैं। मार्च में न्यूयॉर्क टाइम्स में छपे लेखों में बीजिंग ओलंपिक के पूर्ण बष्किार की बात कही गई थी। 2007 में जॉर्ज बुश ने तिब्बत विवाद के बावजूद चीनी राष्ट्रपति हु जिन्ताओ का 2008 के समर ओलंपिक खेलों का निमंत्रण स्वीकारा था, परन्तु बुश ने 2007 में दलाई लामा का आतिथ्य कर, उन्हें कॉन्ग्रेशनल गोल्ड मेडल से सम्मानित कर चीन में मानवाधिकारों की रक्षा के समर्थन की पुष्टि की थी। अंतरराष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता पर अमरीकी आयोग की उपाध्यक्ष न्यूरी टर्केल के अनुसार, 2008 ओलम्पिक की मशाल जलाकर भी चीन ने अपने अत्याचारों से दुनिया का ध्यान हटा दिया था। 2022 में भी यही होने जा रहा है। अंतरराष्ट्रीय समुदाय को एकजुट होकर इसके खिलाफ आवाज उठानी होगी।

Beijing Winter Olympics
Beijing Winter Olympics

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Delhi Riots: दिलबर नेगी हत्याकांड में हाईकोर्ट का बड़ा फैसला, 6 आरोपियों को दी जमानतAntrix-Devas deal पर बोली निर्मला सीतारमण, यूपीए सरकार की नाक के नीचे हुआ देश की सुरक्षा से खिलवाड़Delhi: 26 जनवरी पर बड़े आतंकी हमले का खतरा, IB ने जारी किया अलर्टUP Election 2022 : टिकट कटने पर फूट-फूटकर रोये वरिष्ठ नेता ने छोड़ी भाजपा, बोले- सीएम योगी भी जल्द किनारे लगेंगेपंजाबः अवैध खनन मामले में ईडी के ताबड़तोड़ छापे, सीएम चन्नी के भतीजे के ठिकानों पर दबिशले. जनरल मनोज पांडे होंगे नए उप-थलसेना प्रमुख, संभालेंगे ले. जनरल सीपी मोहंती की जगहPKL 8: अनूप कुमार ने बताया कौन है Pro Kabaddi का भविष्य, इन 2 खिलाड़ियों को चुनानीट यूजी 2021: ऑनलाइन आवेदन से चुके विद्यार्थियों को एक और मौका
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.