scriptBig crisis in front of cattle farmers amidst the heat | गर्मी की मार के बीच पशुपालकों के सामने बड़ा संकट | Patrika News

गर्मी की मार के बीच पशुपालकों के सामने बड़ा संकट

दरअसल, सरकार को चारे के इस संकट से निजात पाने के लिए तात्कालिक और दूरगामी दोनों ही उपाय करने चाहिए। तात्कालिक उपायों के तहत पड़ोसी राज्यों में चारे के निकास पर लगी रोक को हटवाना चाहिए।

Published: May 24, 2022 05:52:21 pm

भीषण गर्मी के दौर में पशुपालकों के सामने नई मुसीबत खड़ी हो गई है। प्रदेश के अधिकांश हिस्सों में पशुओं के लिए चारे की कमी ने पशुपालकों को रोजगार बदलने तक को मजबूर कर दिया है। आम तौर पर गेहूं की फसल से पर्याप्त मात्रा में चारा मिलता रहा है, लेकिन पिछले कुछ वर्षों में पानी की कमी के कारण गेहूं का रकबा कम होता जा रहा है। इससे न सिर्फ गेहूं और जौ के भाव तेज हुए हैं, बल्कि चारा भी महंगा हुआ है। हरियाणा, पंजाब और मध्यप्रदेश से राजस्थान में चारे की आवक होती रही है। इस बार चारे की कमी को देखते हुए इन तीनों राज्यों ने अपने यहां से चारे के निकास और परिवहन पर रोक लगा दी है, जिससे राज्य में चारे के भाव आसमान छू रहे हैं। दूरदराज के राज्यों से चारा मंगवाया जाए, तो डीजल-पेट्रोल की कीमतों का असर साफ नअर आता है। परिवहन लागत बढऩे से दूर से आने वाला चारा काफी महंगा पड़ता है।
दरअसल, सरकार को चारे के इस संकट से निजात पाने के लिए तात्कालिक और दूरगामी दोनों ही उपाय करने चाहिए। तात्कालिक उपायों के तहत पड़ोसी राज्यों में चारे के निकास पर लगी रोक को हटवाना चाहिए। ऐसा नहीं है कि चारे की समस्या कोई पहली बार हुई है। हर बार गर्मियों में चारे का संकट पैदा होता है। सरकार चूंकि दूरगामी उपायों पर काम नहीं करती, इसलिए यह समस्या साल दर साल विकराल होने लगी है। चारे के संकट से पार पाने के लिए फसल चक्रों में हुए बदलाव पर भी ध्यान देना होगा। ऐसे में एक मात्र उपाय यह है कि परम्परागत फसलों जैसे बाजरा, ज्वार और मक्का को प्रोत्साहन दिया जाए। पानी वाले इलाकों में सरसों और तारामीरा की खेती पर भी पाबंदी लगाई जा सकती है, क्योंकि सरसों और तारामीरा दोनों ही फसलें किसानों को तो मुनाफा देती हंै, लेकिन इनसे चारा नहीं मिलता।
बीकानेर संभाग में नहरी तंत्र को भी ठीक करने की जरूरत है। दूध पाउडर के आयात को भी नियंत्रित करने की आवश्यकता है, ताकि किसानों को दूध का उचित मूल्य मिल सके। राजस्थान की अर्थव्यवस्था में पशुपालन महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है, लिहाजा राज्य सरकार को इस दिशा में ठोस कदम उठाने चाहिए। दुधारू पशुओं के लिए ही जब चारे की किल्लत है तो आवारा पशुओं की हालत कितनी खराब होगी, इसका सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है। (ह.सिं.ब.)
गर्मी की मार के बीच पशुपालकों के सामने बड़ा संकट
गर्मी की मार के बीच पशुपालकों के सामने बड़ा संकट

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather. राजस्थान में आज 18 जिलों में होगी बरसात, येलो अलर्ट जारीसंस्कारी बहू साबित होती हैं इन राशियों की लड़कियां, ससुराल वालों का तुरंत जीत लेती हैं दिलशुक्र ग्रह जल्द मिथुन राशि में करेगा प्रवेश, इन राशि वालों का चमकेगा करियरउदयपुर से निकले कन्हैया के हत्या आरोपी तो प्रशासन ने शहर को दी ये खुश खबरी... झूम उठी झीलों की नगरीजयपुर संभाग के तीन जिलों मे बंद रहेगा इंटरनेट, यहां हुआ शुरूज्योतिष: धन और करियर की हर समस्या को दूर कर सकते हैं रोटी के ये 4 आसान उपायछात्र बनकर कक्षा में बैठ गए कलक्टर, शिक्षक से कहा- अब आप मुझे कोई भी एक विषय पढ़ाइएUdaipur Murder: जयपुर में एक लाख से ज्यादा हिन्दू करेंगे प्रदर्शन, यह रहेगा जुलूस का रूट

बड़ी खबरें

Mumbai News Live Updates: मुंबई में भारी बारिश के चलते मध्य रेलवे ने लंबी दूरी की कुछ ट्रेनों का समय बदलाCoronavirus News Live Updates in India : महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा संक्रमणWeather Update : केरल-उत्तराखंड सहित कई राज्यों में होगी भारी बारिश, गुजरात में NDRF की टीमें तैनातNupur Sharma Update: अब अजमेर दरगाह के History Sheeter ने दी नूपुर शर्मा का सिर कलम करने की धमकी, Video Viral; मचा हड़कंपइमरान खान बिना कोकीन के दो घंटे भी नहीं रह सकते, पाक के मंत्री ने किया बड़ा दावाENG vs IND: इंग्लिश फैंस ने भारतीय दर्शकों पर की नस्लवादी टिप्पणी, हुआ विवाद, ECB करेगा जांचदिल्ली से दुबई जा रही Spicejet की फ्लाइट की कराची में हुई इमरजेंसी लैंडिंग, कंपनी ने दी ये सफाईENG vs IND Edgbaston Test Day 5 Live: जो रूट ने जड़ा साल का 5वां और टेस्ट करियर का 28वां शतक, इंग्लैंड जीत के करीब
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.