बड़ा सवाल, क्या कोरोना की वजह से दूसरे मरीजों की अनदेखी हो रही है

पत्रिकायन में सवाल पूछा गया था कि क्या कोरोना की वजह से दूसरे मरीजों की अनदेखी हो रही है। पाठकों की मिलीजुली प्रतिक्रियाएं आईं, पेश हैं चुनिंदा प्रतिक्रिया...

By: shailendra tiwari

Updated: 09 Sep 2020, 05:06 PM IST

जा रही है जान
कोरोना की वजह से अन्य मरीजों की अनदेखी हो रही है। कई अन्य गंभीर बीमारियों से पीडि़त मरीजों को समय पर उपचार नहीं मिल रहा है, क्योंकि अस्पताल, वहां का स्टाफ और डॉक्टर कोरोना मरीजों को संभालने में व्यस्त हैं। इसी वजह से कई लोगों की जान गई है। बड़े-बड़े शहरों में अत्यधिक कोरोना मरीजों की संख्या के कारण अन्य मरीजों को अस्पतालों में भर्ती नहीं किया जा रहा है, क्योंकि वहां के भर्ती करने के लिए पर्याप्त कमरे और बिस्तर उपलब्ध नहीं हैं। इसकी वजह से मरीजों की जान जा रही है। कई मरीजों को एक अस्पताल से दूसरे अस्पतालों के चक्कर लगाने पड़ रहें है। इसके बावजूद उन्हें समय पर उपचार नहीं मिल पा रहा है। कोरोना के कारण अस्पतालों की व्यवस्थाएं गड़बड़ा गई हैं, जिसमें जल्द सुधार करना आवश्यक है।
-सुदर्शन सोलंकी, मनावर, मप्र
.............................

नहीं मिल रहा इलाज
कोरोना की वजह से दूसरी बीमारियों पर अस्पतालों में ध्यान नही दिया जा रहा है। कोरोनाकाल में बड़े-बड़े अस्पतालों को कोविड सेन्टर बनाने के कारण दूसरी गंभीर बीमारियों के मरीजों को इलाज नही मिल पा रहा है। इन मरीजों को इलाज के लिए दर-दर भटकना पड़ रहा है। भारत में कैंसर, टीबी, बीपी और शुगर के मरीजों की बड़ी संख्या है। बेशक स्वास्थ्य विभाग ने मोबाइल टीमें बनाई हैं, जो लोगों को घर बैठे परामर्श, ओपीडी और दवा संबंधी सेवाएं दे रही हैं। ये केवल शहरों तक सीमित हैं। देहाती इलाके इससे अछूते रह जाते हैं।
-अशोक कुमार शमा, झोटवाड़ा, जयपुर
...........

इलाज में देरी
कोरोना मरीजों का आंकड़ा लगातार बढ़ता ही जा रहा है। सावधानी हटी तो वह दिन दूर नहीं, जब कोरोना मरीजों की संख्या की दृष्टि से हम विश्व में प्रथम स्थान पर होंगे। कोरोना के मरीजों की बढ़ती संख्या के कारण अस्पतालों में गंभीर और मौसमी बीमारियों से पीडि़त मरीजों की अनदेखी हो रही है। चिकित्सकों के कोरोना जांच कार्य में व्यस्त होने के कारण दूसरे मरीजों को इलाज के लिए काफी इंतजार करना पड़ता है। समय पर इलाज न मिल पाने के कारण मरीजों की असमय ही मृत्यु हो रही है। सभी मरीजों को समय पर उचित इलाज मिलना चाहिए।
-डॉ. अजिता शर्मा, उदयपुर
........................

मिल रही है राहत
अचानक से कोरोना महामारी ने दस्तक दी, तो इससे लडऩे के लिए हमारे पास कोई पूर्ववर्ती प्रभावी योजना नहीं थी। इसीलिए देश की स्वास्थ्य व्यवस्थाएं चरमरा गईं। इस कारण कई दूसरी गंभीर बीमारी से पीडि़त लोगों को समय पर उपचार नहीं मिल पा रहा है। फिर गंभीर बीमारियों से पीडि़त लोगों के मन में कोरोना के प्रति भय भी व्याप्त है जिस कारण वे अस्पताल जाकर इलाज करवाने से बच रहे हैं। अब धीरे-धीरे स्वास्थ्य सुविधाएं मजबूत हो रही हैं और अन्य बीमारियों से पीडि़त लोगों को भी उपचार मिलने लगा है। हम सबके लिए यह राहत की बात है
-शुभम वैष्णव, सवाई माधोपुर
..............

परेशान हैं मरीज
कोरोना महामारी की वजह से दूसरे मरीजों को बहुत ज्यादा परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। इस महामारी की वजह से आम आदमी परेशान है। डॉक्टर मरीज को देखने से कतरा रहे हैं और देख भी रहे हैं तो दूर से देख रहे हैं। दूर से ही दवाई लिख देते हंै। पहले कोरोना की जांच करवाने के लिए भी कहा जाता है। समय पर इलाज नहीं मिलने के कारण मरीज की मौत तक हो जाती है। इस समय सारी बीमारियों को भूलकर बस कोरोना पर ही ध्यान दिया जा रहा है। इससे मरीजों की जान तक जा रही है।
-मुकेश जैन चेलावत, पिड़ावा, झालावाड़
..................

बढ़ते मरीजों के कारण व्यवस्था प्रभावित
माना कुछ शिकायतें आ रही हैं कि मरीज के प्रति संवेदना नहीं दिखाई जा रही है। सोचने की बात है की कोई भी प्राकृतिक आपदा लंबे समय तक रहती है, तो हालात बिगड़ जाते हैं। इसी कारण कहीं-कहीं उपेक्षा नजर आ रही है। सरकारी अस्पतालों में कोरोना मरीजों के लिए सरकार की ओर से अनेक सुविधाएं उपलब्ध करवाई गई हैं। डॉक्टर मरीजों का दिन रात इलाज कर रहे हैं, परंतु बढ़ते मरीजों के कारण सुविधाएं कम पड़ रही हैं। ज्यादा सुविधाओं की दरकार हैं, जो समयानुसार पूरी की जाएंगी, यही सरकार से आशा है।
-नरेंद्र रलिया,भोपालगढ़ए जोधपुर
.......................

मरीजों से बनाई दूरी
ऐसा लगता है कि सरकार ने यह मान लिया है कि अब सिर्फ कोरोना ही एक बीमारी है। बाकी सब बीमािरयां खत्म हो गई हैं। पूरे लॉकडाउन के दौरान तो निजी अस्पतालों ने दूसरी बीमारियों से पीडि़त मरीजों से दूरी बना ली थी। आज भी इन मरीज़ों का उचित उपचार नहीं हो पा रहा। इन मरीजों को डॉक्ट बहुत दूर से देखते हैं। कुछ बीमार तो इन सब को देखते हुए और कोरोना के भयानक रूप को देख कर ज्यादा बीमार हो जाते हैं।
-कल्याण नीमा, उज्जैन, मध्यप्रदेश
.....................

इलाज को लेकर गंभीरता नहीं
कोरोना के कारण मरीजों की मौत कम हो रही है। कोरोना के डर, अस्पतालों की अव्यवस्था और दूसरी बीमारियों से मौतें ज्यादा हो रही हैं। कोरोना से इतर बीमारी के इलाज को लेकर गंभीरता नहीं है। मरीजों की ठीक तरह से जांच तक नहीं हो रही। डॉक्टर मरीज को दूर से ही देखकर दवा देते हैं।
-प्रदीप कुमार कच्छावा,,अजमेर

...............
बचाव पर ध्यान
कोरोना संमणण का खतरा इतना है कि इससे बचाव के लिए विशेष ध्यान देना होता है, मगर इसका मतलब ये नहीं कि दूसरे मरीजों पर ध्यन नहीं दिया जा रहा है। कोरोना तेजी से फैल रहा है। इसके बाद भी दूसरे मरीज अस्पतालों में काफी संख्या में इलाज के लिए आ रहे हैं और उनको भी अच्छा इलाज मिल रहा है।
-शैलेंद्र गुनगुना, झालावाड़

.................

नहीं हो रही देखभाल
कोरोना की वजह से अन्य मरीजों की पूर्ण रूप से देखभाल नहीं की जा रही। जब वे डॉक्टर से राय लेने जाते हैं, तो उन्हें पूर्ण रूप से देखा नहीं जाता। अत: यह स्पष्ट है कि कोरोना के कारण अन्य मरीजों का इलाज प्रभावित हो रहा है।
- बिहारी लाल बालान, लक्ष्मणगढ़, सीकर
..............

इलाज में देरी
कोरोना की वजह से अस्पतालों में दूसरे मरीजों की देखभाल नहीं हो रही है। दूसरी बीमारी से पीडि़त गंभीर मरीज का भी कोरोना की शंका की वजह से तुरंत इलाज शुरू नहीं हो पाता है। इससे उसकी मौत तक हो जाती है। सरकार के आदेश के बावजूद अस्पतालों में मरीजों की अनदेखी की जा रही है, जिसका खमियाजा कोरोना के अलावा दूसरी बीमारी से पीडि़त मरीज भुगत रहे है।
-रामचन्द्र जाट, दावणगेर, कर्नाटक
..............................

उचित व्यवस्था जरूरी
वर्तमान में बढ़ रही कोरोना मरीजों की संख्या के कारण सामान्य रोगियों को भी उपेक्षा का शिकार होना पड़ रहा है। इससे उनके स्वास्थ्य व मानसिकता पर विपरीत प्रभाव पड़ रहा है। सामान्य मरीजों के उपचार की भी उचित व्यवस्था होनी चाहिए। इससे न तो सामान्य रोगी अस्पताल जाने से कतराएंगे और न ही स्वास्थ्य कर्मी सामान्य रोगी की उपेक्षा करेंगे ।
-नेहा बिश्नोई, जोरावरपुरा, हनुमानगढ़
...............

चिकित्सकों की कमी
कोरोना की वजह से अस्पतालों में अन्य बीमारियों से पीडि़त मरीजों के प्रति लापरवाही हो रही है, लेकिन ऐसा जानबूझकर नहीं किया जा रहा। कोरोना से पीडि़त मरीजों के इलाज का दबाव ही डॉक्टरों और अन्य कर्मचारियों पर इतना होता है कि वे चाह कर भी दूसरे मरीजों की पूरी तरह देखभाल नहीं कर पाते हैं। डॉक्टर व दूसरे स्टाफ की कमी है।
-विनोद कटारिया, रतलाम
..................

कोरोना का भय
बुखार होने पर डॉक्टर कोरोना टेस्ट के लिए कहते हैं। भले ही उसको मलेरिया, टाइफाइड या कोई दूसरी बीमारी हो। देश में अब तक जितने भी मरीजों की मौत हुई है, उनमें से कई कोरोना के भय से मरे हैं।
-गोपाल अरोड़ा, जोधपुर
.....................

अनदेखी का प्रश्न ही नहीं
कोरोना की वजह से दूसरे मरीजों की कोई अनदेखी नहीं हो रही है, क्योंकि कोरोना की जांच अलग से हो रही है। उन्हें अलग स्थान पर रखा जा रहा है। उनसे हर किसी को दूर रखने का प्रयास किया जा रहा है, ताकि अन्य पर तनिक भी असर नहीं हो। ऐसी व्यवस्था होने पर दूसरे मरीजों की अनदेखी का प्रश्न ही नहीं।
-छगनलाल व्यास, खंडप, बाड़मेर
..............

कोई सुनने को तैयार नहीं
कोरोना के कारण डाक्टर अन्य मरीजों को देख ही नहीं रहे हंै। कहा जा रहा है कि पहले कोरोना जांच कराओ फिर ऑनलाइन बात करो। मरीज और उनके परिजन परेशान घूम रहे हैं। जिस पर बीत रही है, वही इस पीड़ा को समझ पा रहा है। कोई सुनने को तैयार नहीं है।
-राम नरेश गुप्ता, सोडाला, जयपुर
.....................्र

सारा ध्यान कोरोना पर
वैश्विक महामारी कोविड-19 फैली तो तो सारा ध्यान इसी बीमारी पर केंद्रित हो गया। दूसरी बीमारियों का इलाज टाला जाने लगा।पूरा स्वास्थ्य महकमा सिर्फ कोविड-19 से निपटने में लग जाए, तो अन्य बीमारियों से पीडि़त लोगों की अनदेखी होगी ही। इस बात को समझना होगा कि दूसरी बीमारियों से पीडि़त मरीजों को भी इलाज और देख-रेख की जरूरत है।
-विद्याशकर पाठक, सरोदा, डूंगरपुर
.........

डर है बड़ा कारण
वास्तव में करोड़ों लोग कोरोना से इतर दूसरी गंभीर बीमारियों से भी पीडि़त हैं। वे अस्पताल जाने से डर रहे हैं। अस्पताल वाले भी इलाज करने से डर रहे हैं। दूसरे गंभीर मरीजों के लिए भी तुरंत सुविधाएं और व्यवस्थाएं की जाएं। सामाजिक संस्थाओं और सरकारी तंत्र को मिलकर इस दिशा में काम करना चाहिए।
-हरि सिंह राजपुरोहित बेंगलुरु

shailendra tiwari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned