scriptchanges in military structure on large scale not favourable: Sachin | सेना के शौर्य को मानते हैं पर वर्तमान हालात में व्यापक बदलाव ठीक नहीं: सचिन | Patrika News

सेना के शौर्य को मानते हैं पर वर्तमान हालात में व्यापक बदलाव ठीक नहीं: सचिन

विशेष बातचीत: अग्निपथ योजना से किसे कितना होगा फायदा
...जबकि चीन, पाकिस्तान सीमा, कश्मीर, एलओसी जैसी चुनौतियां हमारे सामने हैं

 

Updated: June 21, 2022 10:28:27 pm

राजस्थान के पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने कहा कि सेना के शौर्य को दुनिया मानती है, पर देश के वर्तमान हालात में बिना किसी अध्ययन के सेना में आमूलचूल बदलाव ठीक नहीं है। खुद फौजी परिवार से होने व टेरीटोरियल आर्मी के कैप्टन होने के नाते पायलट मानते हैं कि अग्निपथ सेना भर्ती योजना ठीक नहीं है। केन्द्र सरकार को इसे भी कृषि कानूनों की तरह वापस लेना पड़ेगा। पायलट ने ये बातें पत्रिका के शादाब अहमद से विशेष बातचीत में कहीं। बातचीत के मुख्य अंश:
प्रतीकात्मक चित्र
प्रतीकात्मक चित्र
सवालः अग्निपथ सेना भर्ती योजना का विरोध क्यों हो रहा है?
जवाबः देश में जो हालात बने हैं, उसकी वजह रेकॉर्ड बेरोजगारी है। सरकार ने हर साल दो करोड़ नौकरी देने का वादा किया था। फïौज में पिछले दो साल से भर्ती हुई नहीं। जिन युवकों ने सुबह जल्दी उठकर तैयारी की थी, उन्हें बड़ी उम्मीद थी। अब चार साल का फौजी बनने की योजना लाकर युवाओं के साथ अन्याय किया गया है। इसके साथ ही फौज नाम, नमक, निशान पर करती है। फौजी अपनी मिट्टी व साथी के लिए गोली खाता है। यह जज्बा दो साल की ट्रेनिंग से पैदा नहीं होता। यदि सरकार को इसे करना भी था तो पहले इसे पायलट प्रोजेक्ट की तरह दो-चार साल परखना चाहिए था, दूरगामी प्रभाव देखने चाहिए थे, फिर जो कमियां होतीं उन्हें दूर कर इसे लागू करते। हम भी चाहते हैं कि फौज में सुधार हों। यह भावनात्मक मुद्दा है।
सवालः भारत की सीमा पर उथल-पुथल के बीच क्या इस तरह की योजना कारगर साबित होगी?
जवाबः देखिए, सेना के शौर्य, बलिदान और क्षमता का लोहा पूरी दुनिया मानती है। हमारी फौज सबसे प्रोफेशनल फौजों में से है। पाकिस्तान अस्थिर है और वहां कुछ भी हो सकता है। उसके पास परमाणु हथियार भी हैं। वहीं चीन हमारी सीमा के अंदर घुस रहा है। हमारे सामने कश्मीर, चीन, पाकिस्तान सीमा, एलओसी जैसी चुनौतियां खड़ी हैं। ऐसे समय में सेना में बिना किसी अध्ययन के आमूलचूल परिवर्तन कर स्थापित ढांचे से छेडख़ानी करना खतरनाक हो सकता है। यही वजह है कि रिटायर्ड कर्नल व जनरल इसे ठीक नहीं मान रहे। साथ ही यह समय भी उचित नहीं।
सवालः भाजपा नेता कांग्रेस पर राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे पर ओछी राजनीति करने का आरोप लगा रहे हैं?
जवाबः भाजपा वाले कांग्रेस पर सवाल खड़े करते हैं, लेकिन वे भूल जाते हैं कि इंदिरा गांधी ने ही एक लाख पाकिस्तानी सैनिकों को बंदी बनाया था। मेरे पिता राजेश पायलट ने 1971 की लड़ाई लड़ी थी। मैं खुद एयरफोर्स स्कूल में पढ़ा और फौज से जुड़ा व्यक्ति हूं। कभी भी एक फीसदी की भी कमी नहीं चाहूंगा। हम एक समय की रोटी छोड़ सकते हैं, लेकिन फौजियों को सब कुछ देने को तैयार रहेंगे। जबकि भाजपा नेताओं की मानसिकता का पता कैलाश विजयवर्गीय के बयान से लग रहा है। रेगिस्तान, बर्फ और जंगलों में हमारे लिए खड़े होने वाले सैनिकों को उनके जैसे नेता भाजपा कार्यालय का गार्ड बनाना चाहते हैं, जबकि एक मंत्री सैनिकों को नाई, टेलर जैसे प्रशिक्षण की बात कर रहे हैं। यह फौज के मान-सम्मान को धक्का पहुंचा रहे हैं।
सवालः आखिर किस तरह लागू होनी चाहिए थी योजना?
जवाबः फौज में करीब 1.10 लाख पद खाली पड़े हुए हैं। इसके बावजूद सरकार ऐसी योजना लेकर आई, जिसकी चर्चा संसद, संसदीय समिति में नहीं हुई। यहां तक कि हितधारकों से कोई संवाद नहीं किया गया। मनमाने तरीके से सारी भर्ती बंद कर एक प्रक्रिया को लागू कर दिया। नोटबंदी और जीएसटी की तरह इसमें भी बार-बार संशोधन करने पड़ रहे हैं। सरकार का यह राजनीतिक फैसला था और इसके बचाव में सेना के अधिकारियों को उतार दिया।
सवालः सरकार ने साफ मना कर दिया है कि वह इस योजना को वापस नहीं लेगी। ऐसे में आप क्या करेंगे?
जवाबः सरकार चलाने वालों को घमंड हो गया है कि उनके पास वोट हैं वे मन मुताबिक निर्णय ले सकते हैं, महंगाई चाहे कितनी हो जाए लेकिन वे भावनात्मक मुद्दों को उठाकर ध्रुवीकरण की आड़ में लोगों के वोट बटोर लेंगे। यह देशहित में नहीं है। सरकार के मंत्री अहंकार में बोलते हुए नौकरी देने को अहसान बता रहे हैं। सरकार और मंत्री, सांसद, विधायक अपने वेतन-भत्ते खुद तय करते हैं, जबकि जो युवा धरती मां के लिए मरने को तैयार है, उसका वेतन और रिटायरमेंट की आयु भी हम तय करेंगे। यह युवाओं के हक मारने जैसा है। जनरल वीके सिंह अपनी सेवा बढ़ाने के लिए कोर्ट तक चले गए थे। पहले भी भाजपा नेता गांव-गांव जाकर कृषि कानून के फायदे गिनाते रहे। माफी मांगकर एक झटके में वापस ले लिया। अब अग्निपथ पर भी यही हो रहा है। इस सरकार की नीति ही आक्रामक रवैया अपनाने की रही है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather. राजस्थान में आज 18 जिलों में होगी बरसात, येलो अलर्ट जारीसंस्कारी बहू साबित होती हैं इन राशियों की लड़कियां, ससुराल वालों का तुरंत जीत लेती हैं दिलशुक्र ग्रह जल्द मिथुन राशि में करेगा प्रवेश, इन राशि वालों का चमकेगा करियरउदयपुर से निकले कन्हैया के हत्या आरोपी तो प्रशासन ने शहर को दी ये खुश खबरी... झूम उठी झीलों की नगरीजयपुर संभाग के तीन जिलों मे बंद रहेगा इंटरनेट, यहां हुआ शुरूज्योतिष: धन और करियर की हर समस्या को दूर कर सकते हैं रोटी के ये 4 आसान उपायछात्र बनकर कक्षा में बैठ गए कलक्टर, शिक्षक से कहा- अब आप मुझे कोई भी एक विषय पढ़ाइएUdaipur Murder: जयपुर में एक लाख से ज्यादा हिन्दू करेंगे प्रदर्शन, यह रहेगा जुलूस का रूट

बड़ी खबरें

पंजाब के सीएम 48 वर्षीय भगवंत मान आज रचाएंगे दूसरी शादी, जानिए कौन हैं उनकी दुल्हनKaali Poster Controversy: फिल्म मेकर लीना ने छेड़ा नया विवाद, अब 'शिव-पार्वती' को सिगरेट पीते दिखायामैं ऐसे भारत में नहीं रहना चाहती...' देवी मां काली विवाद पर महुआ मोइत्रा का ट्वीट- दर्ज कर लो FIR, अदालत में मिलूंगीकांवड़ यात्रा-बकरीद को लेकर CM योगी सख्त, शरारतियों से निपटने को पुलिस को निर्देश जारीMumbai Fire: मुंबई के पवई हीरानंदानी इलाके के शॉपिंग मॉल में लगी भीषण आग, 12 फायर ब्रिगेड की गाडियां मौके पर पहुंचीMS Dhoni Birthday: महेंद्र सिंह धोनी ने इंग्लैंड में मनाया जन्मदिन, ऋषभ पंत हुए शामिल, पत्नी साक्षी ने शेयर किया VIDEOएलन मस्क ने पिछले साल एक बड़ी अधिकारी के साथ जुड़वां बच्चों को दिया जन्म! रिपोर्ट का दावाविधायक पल्लवी पटेल की हालत गंभीर, सिराथू से डिप्टी सीएम केशव मौर्या को हराया था चुनाव
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.