scriptCinema cannot be tied in any language | किसी भाषा में नहीं बांधा जा सकता सिनेमा को | Patrika News

किसी भाषा में नहीं बांधा जा सकता सिनेमा को

वास्तव में सिनेमा तो तब भी था जब सिनेमा के पास शब्द ही नहीं थे।'राजा हरिश्चंद्र' किस भाषा की फिल्म थी? 'पुष्पक' जैसे प्रयोग भी तो हुए हैं सिनेमा में, इसीलिए आज जब सिनेमा के लोगों द्वारा सिनेमा और भाषा को एक दूसरे के पर्याय के रूप में देखने की कोशिश हो रही तो आश्चर्य होता है

Published: May 16, 2022 08:25:37 pm

विनोद अनुपम
राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार प्राप्त कला समीक्षक

भाई और बहन के बीच एक ही घिसा हुआ जूता है, बहन की चप्पल भाई खो चुका है। मॉर्निंग शिफ्ट में बहन, भाई का जूता पहन कर स्कूल जाती है और सात साल की वह लड़की छुट्टी होते ही घर के लिए दौड़ लगाती है, ताकि भाई वही जूता पहन स्कूल जा सके। बावजूद इसके भाई रोज स्कूल में लेट होता, मार खाता, लेकिन न तो बहन से शिकायत करता, न ही पिता से अपनी जरूरत बताता। उसे अहसास है ऐसा करने पर बहन और पिता को तकलीफ होगी। एक दिन बहन एक बच्ची के पांव में अपनी चप्पल देख लेती है। वह उसका पीछा कर उसके घर तक पहुंच जाती है और दूसरे दिन अपने भाई को लेकर जाती है, इस आक्रामकता के साथ कि आज उससे चप्पल छीन ही लेना है। दोनों छिप कर उसके बाहर निकलने की प्रतीक्षा करते हैं। लेकिन, जब वह अपने अंधे पिता के कंधे पर हाथ रखे छोटे से खोमचे में कुछ सामान साथ लेकर फेरी के लिए निकल रही होती है, तो दोनों भाई बहन किंकर्तव्यविमूढ़ हो जाते हैं। एक दूसरे के चेहरे को देखते दोनों वापस लौट जाते हैं।
माजिद माजिदी की एक पुरानी फिल्म 'चिल्ड्रन ऑफ हेवन' की यह आरम्भिक कथा है। इन बच्चों की संवेदना समझने के लिए किस भाषा की जरूरत है? बच्चों का स्वाभाविक विकास उन्हें आसपास के प्रति अधिक संवेदनशील और अधिक ईमानदार बनाता है। यही सिनेमा है, जिसकी अपनी एक अलग समृद्ध संप्रेष्य भाषा है, जिसे हमारे शब्द और लिपि की आवश्यकता नहीं। सत्यजीत रे ने किसी बातचीत में कहा था,यदि वे हिंदी जानते तो 'शतरंज के खिलाड़ी' और भी बेहतर बन सकती थी। सत्यजीत रे मानते होंगे, 'सद्गतिÓ में जिस तरह वे प्रेमचंद की आत्मा में प्रवेश करते हैं, कौन कह सकता है कि उन्हें हिंदी जानने समझने की जरूरत थी। 'पथेर पांचालीÓ में वे सुदूर बंगाल के किसी गांव के किसी विपन्न ब्राह्मण की स्थिति चित्रित करते हैं और पूरी दुनिया उसके दर्द को महसूस कर रो देती है। ऑस्कर उनके घर तक आता है। बीते वर्ष इंडियन पैनोरमा के उद्घाटन फिल्म के रूप में उत्तरपूर्व की अनजान सी भाषा दिमिसा में बनी 'सेमखोर' दिखाई जाती है और विश्व के सिनेमा प्रेमी दिमासा जनजाति की लोकरीतियों और उनकी समस्याओं से रू- ब-रू होते हैं।
वास्तव में सिनेमा तो तब भी था जब सिनेमा के पास शब्द ही नहीं थे।'राजा हरिश्चंद्र' किस भाषा की फिल्म थी? 'पुष्पक' जैसे प्रयोग भी तो हुए हैं सिनेमा में, इसीलिए आज जब सिनेमा के लोगों द्वारा सिनेमा और भाषा को एक दूसरे के पर्याय के रूप में देखने की कोशिश हो रही तो आश्चर्य होता है। महेश बाबू जब कहते हैं कि बालिवुड उन्हें अफोर्ड नहीं कर सकता, वे अपने सपने को सच होते देख बहुत संतुष्ट हैं कि तेलुगु सिनेमा आगे बढ़ रहा है, तो इसमें गलत क्या है, इसमें हिंदी भाषा पर सवाल कहां? किच्चा सुदीप जब कहते हैं कि पैन इंडियन सिनेमा तो कन्नड़ में बन रहा है, तो गलत नहीं कहते, अपने आपको पैन इंडियन बनाने पर उन्होंने मेहनत की है। लेकिन, जब हिंदी सिनेमा की हालिया असफलता को किच्चा हिंदी से जोड़ कर देखते हैं, तो बात गले नहीं उतरती। हिंदी फिल्मों की विफलता से न तो हिंदी कमतर हो जाती है, न ही दक्षिण भारतीय फिल्मों की सफलता से तेलुगु -कन्नड़ महान।
किसी भाषा में नहीं बांधा जा सकता सिनेमा को
किसी भाषा में नहीं बांधा जा सकता सिनेमा को

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मौसम अलर्ट: जल्द दस्तक देगा मानसून, राजस्थान के 7 जिलों में होगी बारिशइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलस्कूलों में तीन दिन की छुट्टी, जानिये क्यों बंद रहेंगे स्कूल, जारी हो गया आदेश1 जुलाई से बदल जाएगा इंदौरी खान-पान का तरीका, जानिये क्यों हो रहा है ये बड़ा बदलावNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयमोदी सरकार ने एलपीजी गैस सिलेण्डर पर दिया चुपके से तगड़ा झटकाजयपुर में रात 8 बजते ही घर में आ जाते है 40-50 सांप, कमरे में दुबक जाता है परिवार

बड़ी खबरें

Ranji Trophy Final: मध्य प्रदेश ने रचा इतिहास, 41 बार की चैम्पियन मुंबई को 6 विकेट से हरा जीता पहला खिताबBypoll results 2022 LIVE: UP की आजमगढ़ सीट से निरहुआ की हुई जीत, दिल्ली में मिली जीत पर केजरीवाल गदगदMaharashtra Political Crisis: केंद्र ने शिवसेना के बागी 15 विधायकों को दी Y प्लस कैटेगरी की सुरक्षा, शिंदे गुट ने डिप्टी स्पीकर के खिलाफ लिया ये फैसलाMaharashtra Political Crisis: राज्यपाल ने DGP और मुंबई पुलिस कमिश्नर को लिखी चिट्ठी, शिंदे गुट के विधायकों को सुरक्षा देने का दिया निर्देशMaharashtra Political Crisis: महाराष्ट्र में क्या बीजेपी फिर सत्ता में करने जा रही है वापसी? केंद्रीय मंत्री रावसाहेब दानवे ने दिया ये बड़ा बयानMumbai News Live Updates: कलिना, सांताक्रूज में पार्टी कार्यकर्ताओं के कार्यक्रम में शामिल हुए आदित्य ठाकरेMaharashtra Political Crisis: शिवसेना को बीजेपी से दूर क्यों रखना चाहते हैं उद्धव ठाकरे? समझिए पूरा समीकरणसिद्धू मूसेवाला की हत्या के बाद, फिर से सामने आया कनाडाई (पंजाबी) गिरोह
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.