जमा पूंजी: नई संहिता बदलेगी वेतन का ढांचा

- नए नियमों के तहत वेतन के अधिकतम 50 प्रतिशत ही होंगे भत्ते, रिटायरमेंट फंड बढ़ेगा

By: विकास गुप्ता

Published: 17 Mar 2021, 12:35 PM IST

असीम त्रिवेदी

कल ममेरे भाई तुषार के घर जाना हुआ, डबल बेड पर फाइलें फैलाए बैठा था, मुझे देखते ही बोला द्ग ये मेरी वेतन पर्ची है, ये बीमा रसीदें हैं, ये मेरी टैक्स प्लानिंग हो रही है। मैंने उत्सुकता से पूछा भाई अगला वित्तीय वर्ष तो आने दे, तो बोला द्ग नहीं भैया, मार्च में ताबड़तोड़ इन्वेस्टमेंट करके कर बचाने से अच्छा मैं आज ही प्लानिंग कर लूं। मैंने कहा द्ग बात तो सही है, पर क्या तुमने नई वेतन संहिता 2019 पढ़ ली है? तुम्हें पता है तुम्हारा वेतन बदल रहा है? तुषार ने फाइल एक तरफ रखते हुए कहा द्ग मतलब? मैंने कहा द्ग मतलब समझाता हूं, पहले अपनी सैलरी स्लिप मुझे दो। मैंने देखा द्ग तुषार की बेसिक सैलरी, कॉस्ट टु कम्पनी का मात्र 35त्न है, उसे 65त्न भत्ते मिलते हैं। यानी 100 रुपए में से 35 रुपए वेतन, 65 रुपए भत्ते। मैंने उसे समझाया कि अब से तुम्हारी बेसिक सैलरी को कुल कॉस्ट टु कम्पनी का कम से कम 50त्न माना जाएगा जब प्रॉविडेंट फंड और ग्रेच्युटी की गणना होगी। यानी अब तक अगर तुम्हारे प्रॉविडेंट फंड में 35 रुपए का 12त्न यानी 4.20 रुपए जा रहे थे तो अब 6 रुपए जाएंगे, तुम्हारे नियोक्ता और तुम पर 1.80 रुपए का अतिरिक्त भार बढ़ेगा। तुम्हारे नियोक्ता पर तो ग्रेच्यूटी का भार भी बढ़ेगा।

कौन नियोक्ता अपना भार बढ़ाना चाहेगा, निश्चित ही भत्ते कम किए जाएंगे, अन्य समायोजन कर नया सैलरी स्ट्रक्चर बनाया जाएगा। तुषार भावशून्य होकर बोला द्ग आपकी बात का मतलब कि मेरी टेक-होम सैलरी कम हो जाएगी। मैंने कहा द्ग टेक-होम हर महीने कम हो जाएगी लेकिन रिटायरमेंट फंड बढ़ जाएगा। पास ही खड़ी मामीजी हंसते हुए बोली द्ग चलो अच्छा है, कुछ तो बचाएगा। अगला प्रश्न तुषार की पत्नी मिहिका का था द्ग भैया सरकार को हमारी बचत की क्यों पड़ी है? मैंने कहा द्ग सरकार को महत्त्वाकांक्षी योजनाओं के लिए धन चाहिए, तुम्हारे प्रॉविडेंट फंड के पैसे को सरकार उपक्रमों में लगा कर ही तो बैंक ब्याज दर से ज्यादा पैसा दे पाती है। अब तुम सरकार के थोड़े और ज्यादा भागीदार बन जाओगे। दोनों पति-पत्नी समझ नहीं पा रहे हैं कि इस वेतन संहिता का स्वागत करें या नहीं, कमोबेश हर भारतीय वेतनभोगी इसी पसोपेश में है। देखिए मई में आपको कितने वेतन का चेक मिलता है।

(लेखक सीए, ऑडिटिंग एंड अकाउंटिंग स्टैंडर्ड, कानूनी मामलों के जानकार हैं)

विकास गुप्ता
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned