scriptDigital media has to be made responsible | डिजिटल मीडिया को जिम्मेदार बनाना होगा | Patrika News

डिजिटल मीडिया को जिम्मेदार बनाना होगा

locationनई दिल्लीPublished: May 28, 2021 07:37:16 am

- न्यू मीडिया एक तरह से बेलगाम रहा है, क्योंकि जिम्मेदारी जानकारी पोस्ट करने वाले की मानी जाती रही है, कंपनी की नहीं।

डिजिटल मीडिया को जिम्मेदार बनाना होगा
डिजिटल मीडिया को जिम्मेदार बनाना होगा

देश में नए डिजिटल कानून पर सोशल मीडिया प्लेटफार्म वॉट्सऐप के दिल्ली हाईकोर्ट का रुख करने के बाद एक बार फिर अभिव्यक्ति की आजादी और निजता की रक्षा का प्रश्न चर्चा में आ गया है। दरअसल, डिजिटल मीडिया जिसे न्यू मीडिया भी कहा जाता है, अब तक किसी तरह की जिम्मेदारी से मुक्त रहा है। परंपरागत मीडिया के लिए तो कई तरह के नियम पहले से ही हैं। खासकर प्रिंट मीडिया ने अखबार में छपे हर शब्द के लिए हमेशा जिम्मेदारी का निर्वहन किया है। लेकिन न्यू मीडिया एक तरह से बेलगाम रहा है, क्योंकि जिम्मेदारी जानकारी पोस्ट करने वाले की मानी जाती रही है, कंपनी की नहीं।

अमरीका में, जहां यह शुरू हुआ था, कम्यूनिकेशन डिसेंसी एक्ट के सेक्शन 230 के तहत ऐसे नियम लागू हुए थे जिन्हें पूरी दुनिया अपनाती चली गई। हालांकि, अब अमरीका में भी सवाल उठ रहे हैं और सोशल मीडिया कंपनियों को जिम्मेदार बनाने की पहल शुरू हो गई है। न्यू मीडिया का दुरुपयोग न हो सके, इसी उद्देश्य से भारत सरकार ने इन्फॉर्मेशन टेक्नालॉजी (इंटरमीडिएटरी गाइडलाइंस एंड मीडिया एथिक्स कोड) रूल्स फरवरी महीने में अधिसूचित किया था। डिजिटल कंपनियों को 25 मई तक का समय दिया गया था कि वे कानून के अनुसार अपनी व्यवस्था बनाकर सरकार को सूचित करें। सोशल मीडिया कंपनियों ने इस पर मिश्रित प्रतिक्रिया व्यक्त की। गूगल ने कहा कि वह पहले से ही देश के कानून के अनुसार काम कर रही है तो फेसबुक का जवाब था कि वह भी ऐसा करने के लिए प्रतिबद्ध है लेकिन कुछ मुद्दों पर सरकार से बात चल रही है। वॉट्सऐप ने नियम को निजता की रक्षा के अधिकार के खिलाफ बताते हुए हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटा दिया तो ट्विटर ने भी सरकार की मंशा पर शक पैदा करते हुए बयान दिए।

इस मामले में हाईकोर्ट का निर्णय आने के बाद ही उसका रुख पता चलेगा। लेकिन केंद्र सरकार ने साफ कर दिया है, इन कंपनियों को यहां के नियम मानने ही होंगे। सरकार का कहना है कि भारत में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और लोकतंत्र का एक गौरवशाली इतिहास रहा है। डिजिटल मीडिया कंपनियां निजी फायदे के लिए अपनी शर्तें थोपना चाहती हैं। देखा जाए तो सरकार की बात में दम है, लेकिन डिजिटल मीडिया भी जिस अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की आड़ में अपने हितों को छिपाना चाह रहा है, वह भी बेवजह नहीं है। हालिया टूलकिट विवाद इसका उदाहरण है कि किस तरह राजनीतिक दल भी अपने हित साधने के लिए सोशल मीडिया का गलत इस्तेमाल कर सकते हैं। इसलिए जरूरी है कि दोनों आशंकाओं का समाधान करते हुए कोई रास्ता निकाला जाए।

सम्बधित खबरे

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.