डिजिटल मीडिया को जिम्मेदार बनाना होगा

- न्यू मीडिया एक तरह से बेलगाम रहा है, क्योंकि जिम्मेदारी जानकारी पोस्ट करने वाले की मानी जाती रही है, कंपनी की नहीं।

By: विकास गुप्ता

Published: 28 May 2021, 07:37 AM IST

देश में नए डिजिटल कानून पर सोशल मीडिया प्लेटफार्म वॉट्सऐप के दिल्ली हाईकोर्ट का रुख करने के बाद एक बार फिर अभिव्यक्ति की आजादी और निजता की रक्षा का प्रश्न चर्चा में आ गया है। दरअसल, डिजिटल मीडिया जिसे न्यू मीडिया भी कहा जाता है, अब तक किसी तरह की जिम्मेदारी से मुक्त रहा है। परंपरागत मीडिया के लिए तो कई तरह के नियम पहले से ही हैं। खासकर प्रिंट मीडिया ने अखबार में छपे हर शब्द के लिए हमेशा जिम्मेदारी का निर्वहन किया है। लेकिन न्यू मीडिया एक तरह से बेलगाम रहा है, क्योंकि जिम्मेदारी जानकारी पोस्ट करने वाले की मानी जाती रही है, कंपनी की नहीं।

अमरीका में, जहां यह शुरू हुआ था, कम्यूनिकेशन डिसेंसी एक्ट के सेक्शन 230 के तहत ऐसे नियम लागू हुए थे जिन्हें पूरी दुनिया अपनाती चली गई। हालांकि, अब अमरीका में भी सवाल उठ रहे हैं और सोशल मीडिया कंपनियों को जिम्मेदार बनाने की पहल शुरू हो गई है। न्यू मीडिया का दुरुपयोग न हो सके, इसी उद्देश्य से भारत सरकार ने इन्फॉर्मेशन टेक्नालॉजी (इंटरमीडिएटरी गाइडलाइंस एंड मीडिया एथिक्स कोड) रूल्स फरवरी महीने में अधिसूचित किया था। डिजिटल कंपनियों को 25 मई तक का समय दिया गया था कि वे कानून के अनुसार अपनी व्यवस्था बनाकर सरकार को सूचित करें। सोशल मीडिया कंपनियों ने इस पर मिश्रित प्रतिक्रिया व्यक्त की। गूगल ने कहा कि वह पहले से ही देश के कानून के अनुसार काम कर रही है तो फेसबुक का जवाब था कि वह भी ऐसा करने के लिए प्रतिबद्ध है लेकिन कुछ मुद्दों पर सरकार से बात चल रही है। वॉट्सऐप ने नियम को निजता की रक्षा के अधिकार के खिलाफ बताते हुए हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटा दिया तो ट्विटर ने भी सरकार की मंशा पर शक पैदा करते हुए बयान दिए।

इस मामले में हाईकोर्ट का निर्णय आने के बाद ही उसका रुख पता चलेगा। लेकिन केंद्र सरकार ने साफ कर दिया है, इन कंपनियों को यहां के नियम मानने ही होंगे। सरकार का कहना है कि भारत में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और लोकतंत्र का एक गौरवशाली इतिहास रहा है। डिजिटल मीडिया कंपनियां निजी फायदे के लिए अपनी शर्तें थोपना चाहती हैं। देखा जाए तो सरकार की बात में दम है, लेकिन डिजिटल मीडिया भी जिस अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की आड़ में अपने हितों को छिपाना चाह रहा है, वह भी बेवजह नहीं है। हालिया टूलकिट विवाद इसका उदाहरण है कि किस तरह राजनीतिक दल भी अपने हित साधने के लिए सोशल मीडिया का गलत इस्तेमाल कर सकते हैं। इसलिए जरूरी है कि दोनों आशंकाओं का समाधान करते हुए कोई रास्ता निकाला जाए।

विकास गुप्ता
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned