scriptdisaster management teams need to remain on high alert | प्रसंगवश: उफनते नदी-नालों के बीच सतर्क रहे आपदा प्रबंधन दल | Patrika News

प्रसंगवश: उफनते नदी-नालों के बीच सतर्क रहे आपदा प्रबंधन दल

उफान पर आती नदियों की रपट पर वाहन समेत नदी पार करना तो लापरवाही भरा दुस्साहस ही है

Published: July 12, 2022 09:25:51 pm

मानसून के सक्रिय होने के साथ ही प्रदेश के कई हिस्सों में भारी वर्षा के बाद नदियां उफान पर आ गई हैं। कई जगह आवागमन भी प्रभावित हुआ है। भीषण गर्मी के दौर के बाद बरसात से निश्चय ही खुशनुमा माहौल बनता है। बांधों पर चादर चलती है, तो इस माहौल का आनंद लेने वाले भी वहां पहुंचने से नहीं चूकते। छोटे-बड़े बांध छलकते ही पिकनिक स्थलों में तब्दील हो जाते हैं। मौसम खुशनुमा हो तो उसका आनंद लेना भी चाहिए, लेकिन उफान पर आती नदियों की रपट पर वाहन समेत नदी पार करने को दुस्साहस ही कहा जाएगा। साथ ही सुरक्षा की परवाह किए बिना बहते झरनों और बांधों की चलती चादर के बीच तेज बहाव में जाना भी बुद्धिमानी नहीं है। टोंक जिले के पीपलू उपखंड में ऐसे ही दुस्साहस के चलते एक डंपर अनियंत्रित होकर सहोदरा नदी में गिर गया और एक बाइक सवार बह गया। ग्रामीणों की मुस्तैदी से जनहानि नहीं हुई, लेकिन ऐसी लापरवाही बताती है कि लोग खुद हादसों को न्योता देते हैं।
प्रतीकात्मक चित्र
प्रतीकात्मक चित्र
इन दिनों प्रदेश के बड़े हिस्से में कहीं तेज और कहीं कम बरसात हो रही है। नदी-नाले जिस तरह से उफनने लगे हैं, उसे देखते हुए प्रशासन को भी सतर्क रहने की जरूरत है। आपदा प्रबंधन के नाम पर जिला मुख्यालयों तक में यों तो बाढ़ नियंत्रण कक्ष कायम हो जाते हैं, लेकिन इनके पास कुछ मिट्टी के भरे हुए कट्टे और गेंती-फावड़े जैसे उपकरणों से ज्यादा कुछ नहीं होता। खास तौर से पानी के तेज बहाव वाले इलाकों व उफान वाली नदियों में ऐसे खतरे वाले स्थानों के आसपास प्रशिक्षित गोताखोर व नौका आदि का इंतजाम रखना जरूरी है। सवाल सिर्फ नदी-नालों में आ रहे उफान का ही नहीं है। सवाल खास तौर से शहरी इलाकों में मामूली बरसात में ही नदियां बनने वाली सड़कों का भी है। वर्षा जल निकास की व्यवस्था की पोल पहली बरसात में ही खुल जाती है। राजधानी मुख्यालय जयपुर हो या फिर कोटा, जोधपुर, उदयपुर, बीकानेर, अलवर व अजमेर सरीखे शहर, सब जगह कमोबेश जलभराव की समस्या आम है। जरूरत निचली बस्तियों में रहने वालों को सतर्क करने की भी है। हर तेज बरसात में पहली मार शहरों में कच्ची बस्तियों में झुग्गी बनाकर रह रहे परिवारों पर पड़ती है। हर बरसात में ये लोग परेशानी झेलते हैं, लेकिन वोटों की राजनीति ही ऐसी है कि जानबूझ कर कच्ची बस्तियां खत्म ही नहीं करना चाहती। चिंता आमजन को ही करनी होगी। (ह.पा.)

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

VP Jagdeep Dhankhar: 'किसान पुत्र' जगदीप धनखड़ ने ली उपराष्ट्रपति पद की शपथ, झुंंझुनू सहित पूरे राजस्थान में जश्न का माहौलMaharashtra: महाराष्ट्र में स्टील कारोबारी पर इनकम टैक्स का छापा, करोड़ों रुपये कैश सहित बेनामी संपत्ति जब्तJammu-Kashmir: उरी जैसे हमले की बड़ी साजिश हुई फेल, Pargal आर्मी कैंप में घुस रहे 3 आतंकी ढेरममता बनर्जी को एक और झटका, अब पशु तस्करी केस में TMC नेता अनुब्रत मंडल को CBI ने किया गिरफ्तारकाले कारनामों को छिपाने के लिए 'काला जादू' जैसे अंधविश्वासी शब्दों का इस्तेमाल करें बंद, राहुल गांधी ने PM मोदी पर साधा निशानाMaharashtra: महाराष्ट्र में मंत्रिमंडल विस्तार के बाद अब विभाग बंटवारे का इंतजार, गृह और वित्त मंत्रालय पर मंथन जारीमुख्यमंत्री अशोक गहलोत आज फिर दिल्ली पहुंचे ,उपराष्ट्रपति के शपथ ग्रहण समारोह में होंगे शामिलमुफ़्त की रेवड़ी पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा- ये एक गंभीर मुद्दा, कमेटी बनाने के दिए निर्देश
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.