scriptDoctors' strike: Playing with the patients lives must stop | प्रसंगवश: रुकना चाहिए मरीजों की जान से खिलवाड़ | Patrika News

प्रसंगवश: रुकना चाहिए मरीजों की जान से खिलवाड़

चिकित्सकों का यह आंदोलन एक तरह से अमानवीय कृत्य की श्रेणी में ही आएगा। आंदोलन के तरीके और भी हो सकते हैं। वे अतिरिक्त ड्यूटी देकर मानवीयता दर्शा सकते हैं और सरकारी कार्यक्रमों का बहिष्कार कर समाज में एक अच्छा संदेश दे सकते हैं। सरकार को भी उनकी मांगों पर सकारात्मक रवैया अपनाना चाहिए।

नई दिल्ली

Published: December 08, 2021 10:44:31 pm

राजस्थान में रेजिडेंट डॉक्टर कई दिनों से अपनी मांगों को लेकर आंदोलनरत हैं। उनका आंदोलन पहली बार नहीं हो रहा है। हर वर्ष वे किसी न किसी मुद्दे को लेकर मरीजों को भगवान के भरोसे छोड़ कर सड़कों पर आ जाते हैं। सबको पता है कि खासतौर पर मेडिकल कॉलेजों से जुड़े अस्पतालों में मरीजों का इलाज उनके भरोसे ही होता है। अब जब वे आंदोलन कर रहे हैं, तो मरीजों की देखभाल में दिक्कत आएगी ही। प्रदेश में डेंगू का भयंकर प्रकोप है। बड़ी संख्या में लोगों की मौत भी हो चुकी है। इस बीच कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन के मरीज भी सामने आए हैं, जो खतरे की घंटी है।
doc.jpg
कार्य बहिष्कार पर जाने वाले रेजिडेंट कोरोना की भयावहता से ज्यादा अच्छी तरह से परिचित हैं। कोविड की पहली और दूसरी लहर के दौरान अस्पतालों की जो हालत हुई, वह उनसे छिपी हुई नहीं है। अस्पताल मरीजों से भरे पड़े थे। सारे संसाधन कम पड़ गए थे। रेजिडेंट डॉक्टरों ने भी चौबीस घंटे मरीजों की सेवा की थी। इस दौरान कई चिकित्सकों की जान भी चली गई थी।
चिकित्सकों के सेवा भाव की हर किसी ने प्रशंसा की। उनको समाज ने कोरोना वॉरियर्स मानकर सम्मान भी दिया था। अब भी लोगों के दिल में उनके प्रति सम्मान में कमी नहीं आई है। इसे विडंबना ही माना जाएगा कि इस संकटकाल में चिकित्सक अपनी मांगों को मनवाने के लिए कार्य बहिष्कार करके मरीजों की जान से खिलवाड़ कर रहे हैं। अगर मरीजों के रक्षक चिकित्सक ही उनको छोड़कर चले जाएंगे, तो वे कैसे बच पाएंगे?
रेजिडेंट डॉक्टर जिन मांगों को लेकर आंदोलनरत हैं, वे वाजिब हो सकती हैं।
अपनी मांगों के लिए संघर्ष करने का चिकित्सकों को भी अधिकार है, लेकिन यह अधिकार मरीजों के जीवन से बड़ा नहीं हो सकता। फिर कार्य बहिष्कार करके चिकित्सक अपने पेशे की शपथ का भी उल्लंघन कर रहे हैं। चिकित्सकों का यह आंदोलन एक तरह से अमानवीय कृत्य की श्रेणी में ही आएगा। आंदोलन के तरीके और भी हो सकते हैं। वे अतिरिक्त ड्यूटी देकर मानवीयता दर्शा सकते हैं और सरकारी कार्यक्रमों का बहिष्कार कर समाज में एक अच्छा संदेश दे सकते हैं।
सरकार को भी उनकी मांगों पर सकारात्मक रवैया अपनाना चाहिए। चिकित्सकों और सरकार के बीच लड़ाई का खमियाजा मरीज को ही झेलना पड़ता है। सरकार की भी जिम्मेदारी है कि वह समय रहते रेजिडेंट डॉक्टरों की समस्याओं का समाधान करे, जिससे उनको आंदोलन न करना पड़े।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

Corona Update: कोरोना ने बनाया नया रिकॉर्ड, 24 घंटे में 3 लाख 47 हजार नए केस, 2.51 लाख रिकवरGhana: विनाशकारी विस्फोट में 17 लोगों की मौत, 59 घायलभारत ने जानवरों के लिए विकसित किया पहला कोरोना वैक्सीन,अब शेर और तेंदुए पर ट्रायल की योजना50 साल से जल रही ‘अमर जवान ज्योति’ आज से इंडिया गेट पर नहीं, राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पर जलेगीT20 World Cup 2022: ICC ने जारी किया शेड्यूल, इस दिन होगी भारत-पाकिस्तान की टक्कर'कुछ लोग देशप्रेम व बलिदान नहीं समझ सकते', अमर जवान ज्योति के वॉर मेमोरियल में विलय पर राहुल गांधीUP Weather News Update : ठंड ने ताेड़ा 13 साल का रिकॉर्ड, अगले तीन दिन बारिश का अलर्ट, 10 किमी की रफ्तार से चलेंगी हवाएंबड़ी खबर- सरकार ने माफ किया पुराना बिल, अब महंगी होगी बिजली
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.