आपकी बात, क्या नाइट कर्फ्यू से कोरोना नियंत्रण में मदद मिलती है?

पत्रिकायन में सवाल पूछा गया था। पाठकों की मिलीजुली प्रतिक्रियाएं आईं, पेश हैं चुनिंदा प्रतिक्रियाएं।

By: Gyan Chand Patni

Published: 11 Apr 2021, 07:01 PM IST

समस्या बढ़ाएगा नाइट कर्फ्यू
नाइट कर्फ्यू लगाना कोरोना के बचाव में खास मददगार नहीं। रात को सामान्यतया बाजार वैसे भी बंद हो जाते हैं। लोगों का आना-जाना वैसे भी रात में कम ही होता है। जो कोई अगर इस समय बाहर निकलता है, तो वह किसी अति-आवश्यक कार्य से से ही निकलता है। वैसे भी कोरोना से बचाव के लिए परस्पर दो गज दूरी जरूरी है, जो रात में लोगों के कम मूवमेंट से सहज स्वाभाविक है। नाइट कर्फ्यू की वजह से घर जाने की जल्दबाजी के चलते मुख्य मार्गों पर ट्रैफिक की अधिक आवाजाही होती है। भीड़ सी उमड़ आती है। कोरोना से बचने के लिए दो गज की दूरी होनी चाहिए, लेकिन घर पहुंचने की जद्दोजहद में किसी को इसका ध्यान नहीं रहता। कोरोना से बचाव के लिए हमें ही जागरूक होना होगा।
-कुलदीप सिंह भाटी, जोधपुर
.............................

रात्रिकालीन कर्फ्यू का औचित्य नहीं
कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ते जा रहे हैं। बावजूद इसके न तो बाजारों में लापरवाही कम होती दिख रही है, न ही लोगों में वैसा भय और जागरूकता का भाव है, जैसा कोरोना के प्रारंभिक दौर में था। सरकार ने इंदौर, भोपाल सहित कुछ और प्रमुख शहरों में रात्रिकालीन कर्फ्यू घोषित कर दिया है, मगर इससे कुछ खास असर नहीं पड़ेगा। दरअसल, रात्रि 10 बजे तक तो यूं भी 95 फीसदी लोग अपने घरों में चले जाते हैं, सड़कें सूनी हो जाती हैं और बाजार बंद हो जाते हैं। ऐसे में रात्रिकालीन कर्फ्यू का औचित्य क्या है? बेहतर हो कि सरकार उस समय बाजार बंद करने के आदेश जारी करे, जब सर्वाधिक भीड़ भाड़ होती है। वैसे सरकार या प्रशासन से भी अधिक जिम्मेदारी खुद जनता की है। यदि हमें अपनी जान बचानी है तो सतर्क होना ही होगा। सरकार आखिर कहां तक डंडा लेकर पीछे पड़ेगी?
-नितेश मंडवारिया, नीमच, मप्र
..................................

ठोस कदमों की जरूरत
कोरोना को नियंत्रित करने के लिए रात का कर्फ्यू तो ठीक है, पर भीड़ नियंत्रण करने के लिए दिन में ठोस कदम उठाने की जरूरत है। प्रशासन को कठोर कदम उठाने चाहिए। पिछले साल के बनिस्बत इस साल कोरोना बहुत तेजी से फैला हुआ है। यह सब लोगों की लापरवाही का नतीजा है। अगर जनता नहीं मानती है, तो नाइट कर्फ्यू के अलावा दिन में भी एक दिन छोड़कर एक दिन का कर्फ्यू लगा देना चाहिए।
-कल्याण नीमा, उज्जैन, मध्यप्रदेश
..................................

नाइट कर्फ्यू जरूरी
कोरोना के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए नाइट कर्फ्यू लगाया जाना उचित है। जब आम आदमी स्वयं ही गाइडलाइन की अनदेखा कर रहा है, तो सरकार का नाइट कर्फ्यू लगाना पड़ रहा है। इससे बेलगाम संक्रमण पर कुछ सीमा तक तो रोक लगेगी।
-रामेश्वर लाल आमेटा, राजसमन्द
.....................................

जरूरी है सावधानी
कोरोना संक्रमण लगातार बढ़ रहा है। अब कई स्थानों पर नाइट कर्फ्यू लगाया है। अब लोगों को एहसास हो जाना चाहिए कि अगर अब भी सावधानी नहीं बरती गई, तो आगे स्थिति और खराब हो सकती है। संक्रमित लोगों की संख्या में वृद्धि हो सकती है। इसलिए हम सभी को नियमों का पालन करना होगा और कोरोना से बचने के लिए हमें बहुत सावधानी रखनी होगी।
-प्रिंस कुमार शर्मा, सिंघाना, झुंझुनूं
..................................

जरूरी है जागरूकता
कई राज्य सरकारों ने नाइट कर्फ्यू की घोषणा की है, पर इससे भी कोरोना महामारी में कोई राहत नहीं मिल रही है। सरकारों को चाहिए कि दुकानों, शॉपिंग मॉल और बाजारों के दिन तय कर देने चाहिए। सोशल डिस्टेंसिंग का कड़ाई से पालन करवाना चाहिए और नियमित पुलिस पेट्रोलिंग भी होनी चाहिए और सभी कार्यालयों में 50 प्रतिशत कर्मचारियों से काम लिया जाना चाहिए। हर पंचायत व वार्ड स्तर पर आम लोगों को जागरूक करने का प्रयास किया जाए। लोगों को भी कोरोना महामारी के बढ़ते संक्रमण के प्रति स्वयं जागरूक होना होगा।
-आलोक वालिम्बे, बिलासपुर, छत्तीसगढ़
.........................

भीड़ पर नियंत्रण होगा
नाइट कर्फ्यू से काफी हद तक कोरोना पर नियंत्रण पाया जा सकता है। कुछ लोगों को रात में घूमने की आदत होती हैं। रेस्टोरेंट्स, पब, सिनेमा हॉल, म्यूजिक पार्टियां चलती रहती हैं, जिससे लोगों की भारी भीड़ उमड़ती है। इससे सोशल डिस्टेंस के नियम की पालना नहीं हो पाती। ऐसे में संक्रमण फैलने का खतरा सबसे अधिक होता है। नाइट कर्फ्यू से भीड़ तो नियंत्रण में रहती ही है, साथ ही शोरगुल भी कम होता है।
-योगेश खोबरागड़े, भोपाल
.........................

सक्रियता का दिखावा
कोरोना संक्रमण के नियंत्रण के लिए निर्धारित गाइडलाइन का पालन करना ही सबसे ज्यादा जरुरी है। कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग, टेस्टिंग और ट्रीटमेंट पर ज्यादा से ज्यादा ध्यान देने पर ही कोरोना संक्रमण नियंत्रित किया जा सकता है। प्रशासन अपनी सक्रियता का दिखावा करने के लिए नाइट कर्फ्यू जैसे ढकोसले करता है।
-गिरीश कुमार जैन, इंदौर
..............................

हर व्यक्ति की जिम्मेदारी
व्यक्ति स्वयं अपनी औैर अपने परिवार की सुरक्षा की जिम्मेदारी उठा ले, तो महामारी से बचाव किया जा सकता है। प्रत्येक व्यक्ति यदि मास्क, दो गज की दूरी है और हाथ धोने जैसे सामान्य नियमों की पालना करे तो कोरोना का हराया जा सकता है। कर्फ्यू लगाने की नौबत ही नहीं आनी चाहिए। जनता को स्वयं अपने ऊपर नियंत्रण रख कर गतिविधियों को अंजाम देना होगा।
-चित्रांगदा शर्मा, इंदौर
.........................

रात को बेवजह नहीं घूमेंगे लोग
नाइट कर्फ्यू के भी मुख्यत: कई फायदे हैं। बहुत सारे लोग रात को बाहर घूमते रहते हैं। इस प्रवृत्ति पर लगाम लगेगी। रात को होने वाली पार्टियों और शादी समारोह में जरूरत से ज्यादा लोग नहीं आ पाएंगे।
अन्नू स्वामी, बीकानेर
.......................................

जन सहयोग अपेक्षित
कोरोना की दूसरी लहर लगातार भयानक रूप धारण करती जा रही है। इसे नियंत्रित करने के लिए सरकार लगातार प्रयासरत है। इनमें टीकाकरण का कार्य भी तेजी से किया जा रहा है। रात्रिकालीन कर्फ्यू लगा कर सरकार ने इस पर और भी कठोरता से नियंत्रण स्थापित करने का प्रयास किया है। ऐसी स्थिति में जनता को भी अपना सहयोग देना चाहिए और जागरूकता दिखानी चाहिए। तभी सरकार के प्रयास परिणाम में परिवर्तित हो सकते हैं।
-श्रुति जैन, जयपुर
.....................................

खतरा दिन में ज्यादा
कोरोना नियंत्रण के लिए लगाया गया नाइट कर्फ्यू समस्या का समाधान नहीं है। कोरोना फैलने का खतरा रात की बजाय दिन में ज्यादा है। आवश्यकता इस बात की है कि मास्क की अनिवार्यता तथा समाजिक दूरी के साथ दिन की गतिविधियों पर भी नियंत्रण किया जाए
-आयुषी मीणा, प्रतापगढ़
..................

कोरोना नियंत्रण में मिलेगी मदद
वैसे जिन शहरों में रात को भी आवाजाही ज्यादा रहती है, वहां नाइट कफ्र्यू से कोरोना नियंत्रण में मदद मिल सकती है। लोग दिन में भी जागरूक रहें। मतलब सजग रह कर मास्क बांधे, दूरी रखें, हाथ बार-बार धोएं तो कोरोना और भी जल्दी काबू में आ सकता है।
-शैलेंद्र गुनगुना, झालावाड़

Gyan Chand Patni
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned