scriptFinancial management : focus on business dont worry for recovery | Financial management : वसूली की चिंता छोड़ व्यवसाय पर दें ध्यान | Patrika News

Financial management : वसूली की चिंता छोड़ व्यवसाय पर दें ध्यान

Financial management : रीकोर्स व नॉन-रीकोर्स फैक्टरिंग non-banking financial companies के विकल्पों से व्यापारियों को मिल सकती है राहत

नई दिल्ली

Updated: August 04, 2021 11:41:20 am

असीम त्रिवेदी

(लेखक सीए, ऑडिटिंग एंड अकाउंटिंग स्टैंडर्ड और कंपनी मामलों के जानकार हैं)

Financial management : पिछले हफ्ते ऑफिस में खंडेलवाल जी, जो एक लघु उद्योग चलाते हैं, का आना हुआ। कोरोनाकाल के बाद सामान्य वित्तीय प्रबंधन की समस्याओं से जूझ रहे थे। उनका कहना था कोरोना की पहली लहर के बाद माल जम कर बिका, पर सारा उधारी पर और उधारी आने का समय आया तो दूसरी लहर आ गई, सारी कार्यशील पूंजी ग्राहकों के पास फंसी है, बैंक ने पहले से ही यथासंभव सुविधाएं दे दी हैं लेकिन अब भी कार्यशील पूंजी की तंगी है। ग्राहक पैसे देंगे जरूर लेकिन रुला- रुला कर देंगे। मालूम नहीं भविष्य में व्यवसाय कैसे करेंगे?

Financial management  : वसूली की चिंता छोड़ व्यवसाय पर दें ध्यान
Financial management : वसूली की चिंता छोड़ व्यवसाय पर दें ध्यान

मैंने कहा - निराश न हों, सरकार ने हाल ही फैक्टरिंग बिल factoring bill में संशोधन कर लोकसभा से पास करवा लिया है। लागू होते ही करीब साढ़े नौ हजार नॉन-बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनियों non-banking financial companies को लघु और मध्यम व्यापारिक संस्थानों को फैक्टरिंग सेवाएं देने की अनुमति होगी। इसमें व्यवसायी के पास विकल्प होगा कि वह अपने विक्रय के बिल लेकर एनबीएफसी के पास जाएगा और एनबीएफसी से बिल का 80 प्रतिशत तक प्राप्त कर सकेगा। एनबीएफसी ही ग्राहकों से व्यवसायी की राशि संग्रहित करेगी और सारा भुगतान प्राप्त होने पर शेष 20 प्रतिशत भी व्यवसायी को दे देंगी।

खंडेलवाल जी की आंखों में चमक आ गई। उन्होंने अगला प्रश्न दागा - यदि मेरे ग्राहक ने फैक्टरिंग एनबीएफसी को पैसे नहीं दिए तो? मेरा जवाब था - एनबीएफसी को कानूनी कार्यवाही का हक होगा, ऊपर से ग्राहक की क्रेडिट रेटिंग अलग खराब होगी। खंडेलवाल जी बोले - तब हम तो तनाव मुक्त ही हो जाएंगे। मैंने कहा - बिल्कुल सही, आपका ग्राहक भावनात्मक रूप से आपको टाल सकता है, लेकिन फैक्टरिंग सर्विस देने वाली कंपनियों के सामने उसकी एक न चलेगी। खंडेलवाल जी ने जिज्ञासापूर्वक पूछा - ये फैक्टरिंग सर्विस वाले लोग तो मनमाना ब्याज लेंगे? मैंने कहा - ये कंपनियां आरबीआइ के नियमों से बंधी हैं, वही शुल्क लेंगी जो आरबीआइ कहेगी। हालांकि जोखिम ज्यादा है तो ब्याज दर भी ज्यादा होना स्वाभाविक है। एक बात और, फैक्टरिंग दो तरह से हो सकती है - रीकोर्स फैक्टरिंग, यानी ग्राहक ने पैसे नहीं दिए तो आप देंगे; और नॉन-रीकोर्स फैक्टरिंग, यानी पैसा डूबा तो एनबीएफसी जाने। अब आप अपने ग्राहक की तासीर देख कर विकल्प चुनिए और डूबत खातों से मुक्ति पाइए।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

School Holidays in February 2022: जनवरी में खुले नहीं और फरवरी में इतने दिन की है छुट्टी, जानिए कितनी छुट्टियां हैं पूरे सालCash Limit in Bank: बैंक में ज्यादा पैसा रखें या नहीं, जानिए क्या हो सकती है दिक्कतरणवीर सिंह के बेडरूम सीक्रेट आए सामने,दीपिका को नहीं करने देते ये कामइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमीइस एक्ट्रेस को किस करने पर घबरा जाते थे इमरान हाशमी, सीन के बात पूछते थे ये सवालSharp Brain- दिमाग से बहुत तेज होते हैं इन राशियों की लड़कियां और लड़के, जीवन भर रहता है इस चीज का प्रभावधनु, मकर और कुंभ वालों को कब मिलेगी शनि साढ़े साती से मुक्ति, जानिए सही डेटदेश में धूम मचाने आ रही हैं Maruti की ये शानदार CNG कारें, हैचबैक से लेकर SUV जैसी गाड़ियां शामिल

बड़ी खबरें

RRB-NTPC Results: प्रेस कॉन्फ्रेंस में बोले रेल मंत्री, रेलवे आपकी संपत्ति है, इसको संभालकर रखेंRepublic Day 2022 LIVE updates: राजपथ पर दिखी संस्कृति और नारी शक्ति की झलक, 7 राफेल, 17 जगुआर और मिग-29 ने दिखाया जलवानहीं चाहिए अवार्ड! इन्होंने ठुकरा दिया पद्म सम्मान, जानिए क्या है वजहजिनका नाम सुनते ही थर-थर कांपते थे आतंकी, जानें कौन थे शहीद ASI बाबू राम जिन्हें मिला अशोक चक्रRepublic Day 2022: 'अमृत महोत्सव' के आलोक में सशक्त बने भारतीय गणतंत्रUP Election 2022: यूपी में सात चरणों में कब-कब और कहाँ-कहाँ होने हैं चुनाव, देखिये पूरी लिस्टकोरोना ने राजस्थान में 21 लोगों की जान ली, 13 हजार नए रोगी मिलेUP Election 2022: यूपी में 3 मार्च को है छठवें चरण का चुनाव, 10 जिलों की 58 सीटों पर होगा मतदान
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.