scriptfull stop on hate speech in the country is a must | Patrika Opinion: देश में हेट स्पीच को रोकना जरूरी | Patrika News

Patrika Opinion: देश में हेट स्पीच को रोकना जरूरी

ध्वनि प्रदूषण के नियमों की पालना की आड़ में एकाएक पूरे देश में लाउडस्पीकर मुद्दा बन गया है। इस पर संविधान और कानून की नहीं, बल्कि धार्मिक भावनाओं और आस्था की बात हो रही है। इन हालात के बीच सुप्रीम कोर्ट का हेट स्पीच पर निर्णय बहुत मायने रखता है।

Published: April 28, 2022 08:26:05 pm

देश में नफरत की बढ़ती राजनीति ने नई बहस को जन्म दिया है। उत्तराखंड के रुड़की की धर्म संसद में हेट स्पीच नहीं हो, इसके लिए सुप्रीम कोर्ट को हस्तक्षेप करना पड़ा। पिछले कुछ सालों में नफरत भरे बयान देकर सुर्खियां बटोरने की प्रवृत्ति बढ़ी है। खास तौर से उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में भड़काऊ भाषण एक परिपाटी बनते जा रहे हैं। बड़े नेता भी आए दिन भड़काऊ भाषा लिखकर, बोलकर, इशारों में या फिर किसी अन्य तरीकों से माहौल बिगाडऩे या हिंसा भड़काने का काम करते ही रहते हैं। हेट स्पीच के माध्यम से दो समुदायों या समूहों के बीच सौहार्द बिगाडऩे की कोशिशें आम हो गई हैं, जो चिंताजनक है।
प्रतीकात्मक चित्र
प्रतीकात्मक चित्र
इससे भी आगे बढ़कर अब तो किसी ऐतिहासिक स्थल, मजार, मस्जिद या पर्यटन स्थल में प्रवेश के नियम-कानूनों की धता बताते हुए जबरन प्रवेश की घटनाएं भी बढ़ रही हैं। ताजा मामला आगरा के ताजमहल से जुड़ा है। यहां लोहे का धर्मदंड लेकर जा रहे अयोध्या की तपस्वी छावनी के महंत परमहंस को पुरातत्व विभाग के कर्मचारियों ने रोक दिया। हालांकि, विवाद बढऩे पर कर्मचारी ने माफी मांग ली। लेकिन, अब इस मामले को अनावश्यक तूल दिया जा रहा है। ध्वनि प्रदूषण के नियमों की पालना की आड़ में एकाएक पूरे देश में लाउडस्पीकर मुद्दा बन गया है। इस पर संविधान और कानून की नहीं, बल्कि धार्मिक भावनाओं और आस्था की बात हो रही है। इन हालात के बीच सुप्रीम कोर्ट का हेट स्पीच पर निर्णय बहुत मायने रखता है। सुप्रीम कोर्ट ने स्पष्ट चेतावनी दी है कि हेट स्पीच नहीं रुकी, तो मुख्य सचिव जिम्मेदार होंगे। आदेश सिर्फ उत्तराखंड के मुख्य सचिव पर ही लागू नहीं होता। देश भर में भी इसका असर दिखना चाहिए। दरअसल, शीर्ष अदालत को इस तरह का निर्देश इसलिए देना पड़ा कि नियम-कानूनों के होते हुए भी अफसरों की ढिलाई के कारण कानूनों की पालना नहीं हो पाती। नेशनल क्राइम रेकॉर्ड ब्यूरो के आंकड़ों के अनुसार 2014 में देश में हेट स्पीच के 336 मामले दर्ज हुए थे, जो 2020 में 1,804 हो गए। ज्यादातर मामलों में आरोपी बरी हो जाते हैं। इसकी बड़ी वजह यह भी है कि इन तमाम मामलों में पुलिस अफसर सबूत जुटाने में नाकाम रहे।
हेट स्पीच से लोकतंत्र, बेजोड़ सामाजिक ताना-बाना और अहिंसा की विरासत दांव पर है। नफरत और समाज में दुराव पैदा होने से रोकना है, तो सरकार को हेट स्पीच के मामले में कड़े कानून बनाने ही होंगे। इसमें सभी पक्षों की जिम्मेदारी और जवाबदेही तय करना जरूरी है। संसार को अहिंसा और सद्भाव का संदेश देने वाले देश में हेट स्पीच हर हालत में रुकनी चाहिए।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ज्योतिष: ऊंची किस्मत लेकर जन्मी होती हैं इन नाम की लड़कियां, लाइफ में खूब कमाती हैं पैसाशनि देव जल्द कर्क, वृश्चिक और मीन वालों को देने वाले हैं बड़ी राहत, ये है वजहताजमहल बनाने वाले कारीगर के वंशज ने खोले कई राजपापी ग्रह राहु 2023 तक 3 राशियों पर रहेगा मेहरबान, हर काम में मिलेगी सफलताजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथJaya Kishori: शादी को लेकर जया किशोरी को इस बात का है डर, रखी है ये शर्तखुशखबरी: LPG घरेलू गैस सिलेंडर का रेट कम करने का फैसला, जानें कितनी मिलेगी राहतनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

बड़ा हादसाः 21 बारातियों से भरे तेज रफ्तार वाहन ने पेड़ में मारी टक्कर, 7 की मौत, 10 जख्मीअब तक 11 देशों में मंकीपॉक्स : 21 मई को WHO की इमरजेंसी मीटिंग, भारत में अलर्ट, अफ्रीकी वैज्ञानिक हैरानभीषण सडक़ हादसा: पूर्व सांसद के भतीजे समेत 4 की मौत, गैसकटर से काटकर निकाले गए शवWeather Update: दिल्ली सहित इन राज्यों में बदला मौसम ​का मिजाज, आंधी-बारिश की संभावनाMP में ओबीसी आरक्षण: जिला पंचायत 30, जनपद 20 और सरपंचों को 26 फीसदी आरक्षणपटियाला जेल में बंद Navjot Singh Sidhu ने पहली रात नहीं खाया जेल का खाना, नहीं मिला कोई VIP ट्रीटमेंटRajiv Gandhi Death Anniversary: भावुक हुए राहुल गांधी, पिता को याद कर कही दिल की बातभारतीय की शान Veer Mahaan का एक फिर खौला खून, कहा- पूरे WWE लॉकर रूम का बुरा हाल करूंगा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.