सोशल मीडिया से डरी सरकार के हथकंडे

- सोशल मीडिया सरकार के लिए नई चुनौती खड़ी कर रही है।
- जनता सोशल मीडिया को अभिव्यक्ति के लिए जमकर इस्तेमाल कर रही है।

By: विकास गुप्ता

Published: 23 Jan 2021, 08:11 AM IST

सूचना क्रांति ने जहां आम लोगों को नए तरह के हथियार दिए हैं, वहीं अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के समक्ष नए तरह के खतरे भी पैदा कर दिए हैं। इसमें कोई संदेह नहीं कि तकनीक के घोड़े पर सवार होकर सोशल मीडिया पोस्ट बिजली की रफ्तार से एक स्थान से दूसरे स्थान तक पहुंच रही हैं। साधारण जनता के लिए सोशल मीडिया एक ऐसा हथियार बन गया है, जिससे वह ताकतवर जमात को नई तरह से चुनौती दे सकती है। सबसे ज्यादा चुनौती सरकारों को मिलने लगी है। खासकर उन सरकारों को जिनके व्यवहार में लोकतांत्रिक उसूलों का सम्मान नहीं दिखता है।

हालांकि, यह भी सच है कि आम आदमी के हाथ से तकनीक का यह घोड़ा कब बेलगाम हो जाए, कहना मुश्किल है। इसी की आड़ में सरकारों को ऐसे मौके मिल रहे हैं, जिनकी बिना पर सोशल मीडिया को नियंत्रित करने के प्रयास किए जा रहे हैं। ताजा मामला बिहार सरकार का है, जिसने आदेश जारी कर सरकार, अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों के खिलाफ लिखे गए सोशल मीडिया पोस्ट को साइबर अपराध के दायरे में रख दिया है। उनके खिलाफ अब मानहानि के मुकदमे की कार्रवाई की जाएगी। यानी, जो सरकार जनता के लिए बनी है, अधिकारी जो जनता की सेवा के लिए तैनात हैं और जिनकी हस्ती जनता के प्रतिनिधि होने के कारण ही है, उन पर यदि जनता कोई ऐसा कमेंट करती है जो उन्हें नागवार गुजरे, तो उन पर मानहानि का मुकदमा किया जाएगा। दूसरी तरह से ऐसा भी कहा जा सकता है कि सरकारों ने अपनी जनता का चुनाव शुरू कर दिया है। यदि आप उसके साथ नहीं हैं तो 'शत्रु' हैं। जबकि, लोकतंत्र में चुने गए प्रतिनिधि उनके लिए भी उतने ही उत्तरदायी होते हैं, जिन्होंने उन्हें नहीं चुना हो।

मानहानि का मुकदमा करना कोई नया प्रावधान नहीं है। गुलामी के दौर में अंग्रेज सरकार और अधिकारियों ने जनता की अभिव्यक्ति को दबाए रखने के रास्ते के तौर पर ऐसा कानून बनाया था। आजादी के बाद जब-तब इस कानून को हटाने की मांग भी उठती रही है। लेकिन, बिहार सरकार का यह खास आदेश सोशल मीडिया पोस्ट के लिए आया है, क्योंकि सरकारों को सबसे ज्यादा खतरा अब इसी से महसूस हो रहा है। बिहार में यह आदेश भले ही अब आया हो, पर कई राज्य सरकारों ने सोशल मीडिया पोस्ट करने वालों को जेल की हवा खिलाना पहले ही शुरू कर दिया है। दो दिन पहले अमरीका के नए राष्ट्रपति बनने के बाद जो बाइडन का भाषण गौरतलब है कि 'मेरी बात ध्यान से सुनों और अगर असहमत रहो तो समझो लोकतंत्र है।'

विकास गुप्ता
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned