script'Gram Swaraj' can not be achieved without empowering local bodies | प्रसंगवश: कागजी अधिकारों से नहीं आ पाएगा ग्राम स्वराज | Patrika News

प्रसंगवश: कागजी अधिकारों से नहीं आ पाएगा ग्राम स्वराज

जनता के फैसले का सम्मान कर निर्वाचित जनप्रतिनिधियों को ही कमान सौंपनी होगी

Published: May 13, 2022 08:49:51 pm

पंचायतीराज संस्थाओं की स्थापना हुए छह दशक से अधिक का समय बीत चुका है। इतने समय बाद भी इन संस्थाओं के अधिकारों की स्थिति यह है कि अब जा कर गांव के तालाब में मछली पालन और गांव के चरागाह उपज से होने वाली कमाई पर ग्राम पंचायत का अधिकार होगा। कागजों में यह अधिकार लम्बे समय से इनके पास ही था, लेकिन ग्राम पंचायत की बजाय पंचायत समितियों के इस पर कुंडली मार लिए जाने की शिकायतें मिल रही थीं। कागजी अधिकारों का यह एकमात्र उदाहरण नहीं है। पंचायती राज संस्थाओं और स्थानीय निकाय संस्थाओं में ऐसे दर्जनों उदाहरण हैं।
प्रतीकात्मक चित्र
प्रतीकात्मक चित्र
इन संस्थाओं की स्थापना करते समय सपने देखे गए थे ग्राम स्वराज के, विकास में स्थानीय जनता की भागीदारी के। आज हकीकत किसी से छुपी नहीं है। पंचायतीराज संस्थाएं अधिकांश मामलों में सरकार का मुंह ताकती रहती हैं। शिक्षा, स्वास्थ्य जैसे विषयों को पंचायतीराज संस्थाओं के बैनर तले लाने का दावा किया जाता रहा है, पर इन्हें वापस सरकार के अधीन लाने के लिए कई बैकडोर उपाय अपना लिए गए। यही हाल शहरी निकायों का है। वहां भी सरकार ने सीमित विषय ही निकायों को सौंप रखे हैं। जिम्मेदारियों के बोझ से दबे ये निकाय आय के साधनों को तरस रहे हैं। कई बार राज्य सरकार की अन्य एजेंसियां भी इनके समानांतर ही इनके क्षेत्र में सक्रिय रहती हैं।
स्थापना के छह दशक बाद इन संस्थाओं को सशक्त करने के सिर्फ नारों से बात नहीं बनेगी। कोई एक-दो प्रकार की आय वसूली के अधिकार देने से भी इन निकायों की आर्थिक सूरत नहीं बदलेगी। इसके लिए सरकार को पहले स्वयं यह समीक्षा करनी होगी कि वास्तव में इन संस्थाओं को जो अधिकार दिए गए हैं वे भी प्रभावी तौर पर इन्हें सुपुर्द हुए हैं या नहीं। सरकार को जनता के फैसले का सम्मान कर उनके द्वारा निर्वाचित जनप्रतिनिधियों को वास्तविक कमान सौंपनी होगी। उन्हें सरकार आवश्यक तकनीकी, प्रशासनिक मदद मुहैया करवाए, पर यह मदद के रूप में ही होनी चाहिए। संभव है कि शुरुआती दौर में इस प्रकार के सशक्तीकरण के उतने अच्छे परिणाम नहीं आ पाएं, क्योंकि अफसरशाही अपने अधिकारों में कटौती को आसानी से स्वीकार कर पाएगी, इसमें संदेह है। इसके बावजूद लोकतंत्र में जनतांत्रिक संस्थाओं की मजबूती के गंभीर प्रयास जारी रहने चाहिए। (अ.सिं.)

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

त्रिपुरा: डॉ. माणिक साहा आज लेंगे सीएम पद की शपथ, मंत्रिपरिषद का भी होगा गठनWeather Update: उत्तर भारत में भीषण गर्मी और उमस ने किया बेहाल, जानें कब होगी बारिशअसम में लगातार हो रही बारिश, कई इलाकों में बाढ़ जैसे हालात, हाफलोंग में भूस्खलन से 3 लोगों की मौतCongress Chintan Shivir 2022 : आज बनेगा सामूहिक ड्रॉफ्ट, कांग्रेस कार्यसमिति करेगी निर्णयअमरीकाः न्यूयॉर्क के सुपरमार्केंट में गोलीबारी, 10 लोगों की मौत, जानिए पहले कब-कब हुए ऐसे हमलेमंकीगेट, शराब की लत, इन वजह से ववादों में रहे साइमंड्स, कार एक्सीडेंट में हुई मौतकाले हिरण मामले में पुलिस ने चार शिकारियों को मार गिराया, 2 गिरफ्तार, एक पुलिसकर्मी भी घायलCNG Price Hike: दिल्ली-NCR में फिर बढ़े CNG के दाम, जानें इस बार कितनी बढ़ी कीमत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.