आखिर कब तक बेबस रहेगी नारी ?

आखिर कब तक बेबस रहेगी नारी ?

Vikas Gupta | Publish: Sep, 02 2018 06:15:07 PM (IST) विचार

हर क्षेत्र में आसमा से जमीं तक नारी का वर्चस्व है राजनीति में उच्यस्थ पदों पर महिलाये विराजमान है पर ये कैसी विडम्बना हमारे देश व् समाज की कि नारी की आबरू व आत्मसम्मान तो आज भी सुरक्षित नहीं है !

भारत वर्ष में एक संस्था है परिवार और उसकी मुख्यपात्र है नारी,उसी धुरी के इर्द - गिर्द पूरा परिवार घूमता है! सृष्टि की सृजनहार है नारी ईश्वर को जब अपनी सृष्टि अकेले सभालना भारी पड़ गया तो उसने नारी को माँ बनाया, और सृष्टि संचालन का कार्यभार सौंपा ! जब आदिकाल में भारत में नारी को देवी का स्थान दिया गया वही नारी को हर युग में प्रताड़ित किया गया ! कभी सीता को कलंकित किया गया, तो कभी द्रोपती का चीर हरण हुवा कभी अहिल्या श्राप से शिला बन गई ! धीरे धीरे हम आदम युग से निकले नारी सशक्तिकरण का दावा किया जा रहा है ! हर क्षेत्र में आसमा से जमीं तक नारी का वर्चस्व है राजनीति में उच्यस्थ पदों पर महिलाये विराजमान है पर ये कैसी विडम्बना हमारे देश व् समाज की कि नारी की आबरू व आत्मसम्मान तो आज भी सुरक्षित नहीं है !

हमारा समाज सभ्य होता गया, पर नारी को प्रताडित करने की पुरुषो की मानसिकता नहीं बदल सका कन्या भ्रुण हत्या, यहाँ वहा पाये जाने वाले नवजात बालिकाओ के शव, खुली आखो से सपने देखती नवयुवतियां, परिवार को सवारती महिलाये किलकारी मारती मासूम बेटिया के साथ दुष्कर्म की घटनाएं हमें प्रतिपल उद्वेलित करती है ! मन मस्तिष्क को झकझोर के रख देती है , पर समाज मोन है!

जनवरी 2012 में दिल्ली कोर्ट की अतिरिक्त न्यायाधीश कामिनी लाऊ महिलाओ की इस पीड़ा को समझा व दुष्कर्म के आरोपियों को बन्ध्यीकरण(नपुसंक ) करने की भी कानून से अपील की ! केंद्र सरकार ने नाबालिक से दुष्कर्म करने पर फांसी की सजा का पृवधान किया ! फैसले हुए सजा दी गई पर अभी तक एक भी सजा पर क्रियान्वन नहीं हुआ, अगर सजा पर अमल होता तो जनता में अच्छा सन्देश जाता समाज में भय पैदा होता ! महिलाये कही भी सुरक्षित नहीं है पर वे निजी तोर पर हर वक्त सावधान रहे ! अगर आपके आस पास कोई जुडो कराटे का प्रशिक्षण केंद्र है तो ये प्रशिक्षण जरूर ले , ये हर स्थिति में सहायक होगा ! अगर कोई संदिग्ध व्यक्ति नजर आये तो पुलिस को सूचित करे अगर किसी से सामना हो जाये तो हिम्मत व हौसला बनाये रखे , अपना आत्मविश्वाश न खोये अपने विवेक पर आपका नियत्रण बना रहे !

अक्सर महिलाये परिचित व्यक्ति से दुष्कर्म का शिकार होती है तो रिश्तो में दूरी बनाए! तमाम सावधानी व सतर्कता के बावजूद ये हादसा आपके साथ में हो तो घबराये नहीं, पुलिस के पास जाए डरने व शर्मिंदा होने के बजाये कानून की सहयता ले, किसी भी तरह इन वहशी दरिंदो को सलाखों के पीछे पहुचाये ताकि ये किसी और का जीवन बर्बाद न कर सके! दुष्कर्म मात्र हादसा नहीं ये एक ऐसी त्रासदी है जो औरत आजीवन इस पीड़ा को भूल नहीं पाती है !

लता अग्रवाल

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned