scriptIndia-UK relations do not lose prospects | भारत-ब्रिटेन संबंधों में संभावनाएं कम नहीं | Patrika News

भारत-ब्रिटेन संबंधों में संभावनाएं कम नहीं

यूक्रेन पर रूस के हमले के बाद जॉनसन भारत आने वाले यूरोप के पहले राष्ट्राध्यक्ष हैं। उन्होंने हाल ही कहा था, 'कुछ निरंकुश देशों के कारण हमारी शांति और सुरक्षा पर खतरा मंडरा रहा है। ऐसे में बेहद जरूरी है कि लोकतांत्रिक और मित्र देश एकजुट रहें।'

Published: April 18, 2022 07:51:30 pm

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पहली ब्रिटेन यात्रा के सात साल बाद ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन पहली भारत यात्रा पर आ रहे हैं। दो दिन की यह यात्रा 21 अप्रेल को मोदी के गृह प्रदेश गुजरात से शुरू होगी। जॉनसन की यात्रा की शुरुआत के लिए गुजरात को शायद इसलिए चुना गया, क्योंकि ब्रिटेन में बसे भारतीयों में आधी आबादी गुजरात से है। जॉनसन की यात्रा इस लिहाज से भी महत्त्वपूर्ण है कि रूस-यूक्रेन युद्ध ने अंतरराष्ट्रीय समीकरण काफी बदल दिए हैं। अमरीका और यूरोप के कई सहयोगी देश रूस के खिलाफ लामबंद हैं, तो भारत ने तटस्थता की नीति अपना रखी है।
यूक्रेन पर रूस के हमले के बाद जॉनसन भारत आने वाले यूरोप के पहले राष्ट्राध्यक्ष हैं। उन्होंने हाल ही कहा था, 'कुछ निरंकुश देशों के कारण हमारी शांति और सुरक्षा पर खतरा मंडरा रहा है। ऐसे में बेहद जरूरी है कि लोकतांत्रिक और मित्र देश एकजुट रहें।' भारत यात्रा के दौरान जॉनसन भारतीय नेतृत्व के साथ इस एकजुटता पर चर्चा कर सकते हैं, पर यह उनका एक सूत्री एजेंडा नहीं होगा। उनका फोकस विभिन्न क्षेत्रों में परस्पर सहयोग बढ़ाने पर रहेगा। पिछले महीने ब्रिटेन की विदेश मंत्री लिज ट्रस की भारत यात्रा के दौरान भी रूस-यूक्रेन युद्ध की बजाय दोनों देशों के बीच व्यापार बढ़ाने पर ज्यादा फोकस रहा था। अमरीका की तरह ब्रिटेन भी बखूबी जानता है कि भारत दुनिया की तेजी से विकसित होती आर्थिक शक्ति है। इसकी राजनीतिक, सैन्य और सांस्कृतिक शक्ति भी सतत बढ़ रही है। कोई भी विकसित देश विकास और समृद्धि के मोर्चे पर भारत को नजरअंदाज नहीं कर सकता। भारत-ब्रिटेन के बीच ऐतिहासिक संबंधों को लेकर कभी जो कड़वाहट थी, काफी हद तक दूर हो चुकी है। दोनों देशों के आधुनिक कूटनीतिक संबंधों में प्रगाढ़ता और परिपक्वता उत्तरोत्तर विकसित हो रही है। इसीलिए अपनी पहली ब्रिटेन यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दोनों देशों के 'अपराजेय संयोजन' (अनबीटेबल कॉम्बिनेशन) को ज्यादा ताकत देने पर जोर दिया था। ब्रिटिश प्रधानमंत्री की भारत यात्रा इसी संयोजन में नए अध्याय जोड़ सकती है।
प्रवासी भारतीय न सिर्फ ब्रिटेन और भारत के बीच पुल का काम कर रहे हैं, बल्कि उन्होंने ब्रिटेन को भारत की संस्कृति से संपन्न भी किया है। ब्रिटेन के सकल घरेलू उत्पाद में यह आबादी 6 फीसदी का योगदान करती है। इसके बावजूद भारत-ब्रिटेन के बीच व्यापार काफी कम है। इसे बढ़ाने की जरूरत है। व्यापार के अलावा शिक्षा, ऊर्जा और सुरक्षा के क्षेत्र में आपसी सहयोग बढ़ाकर दोनों देश साझेदारी की वैश्विक मिसाल बन सकते हैं।
भारत-ब्रिटेन संबंधों में संभावनाएं कम नहीं
भारत-ब्रिटेन संबंधों में संभावनाएं कम नहीं

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

Thailand Open: PV Sindhu ने वर्ल्ड की नंबर 1 खिलाड़ी Akane Yamaguchi को हराकर सेमीफाइनल में बनाई जगहIPL 2022 RR vs CSK Live Updates: 12 ओवर के बाद राजस्थान 3 विकेट के नुकसान पर 80 रनों परसुप्रीम कोर्ट में अपने लास्ट डे पर बोले जस्टिस एलएन राव- 'जज साधु-संन्यासी नहीं होते, हम पर भी होता है काम का दबाव'ज्ञानवापी मस्जिद केसः सुप्रीम कोर्ट का सुझाव, मामला जिला जज के पास भेजा जाए, सभी पक्षों के हित सुरक्षित रखे जाएंशिक्षा मंत्री की बेटी को कलकत्ता हाई कोर्ट ने दिए बर्खास्त करने के निर्देश, लौटाना होगा 41 महीने का वेतनOla-Uber की मनमानी पर लगेगी लगाम! CCPA ने अनुचित व्यवहार के लिए भेजा नोटिस, 15 दिन में नहीं दिया जवाब तो हो सकती है कार्रवाईHyderabad Encounter Case: सुप्रीम कोर्ट के जांच आयोग ने हैदराबाद एनकाउंटर को बताया फर्जी, पुलिसकर्मी दोषी करारInflation Around World : महंगाई की मार, भारत से ज्यादा ब्रिटेन और अमरीका हैं लाचार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.