scriptIs the country's economy being affected by religious disputes? | क्या धार्मिक विवादों से देश की अर्थव्यवस्था प्रभावित हो रही है? | Patrika News

क्या धार्मिक विवादों से देश की अर्थव्यवस्था प्रभावित हो रही है?

पत्रिकायन में सवाल पूछा गया था। पाठकों की मिलीजुली प्रतिक्रियाएं आईं, पेश हैं चुनिंदा प्रतिक्रियाएं।

Published: May 10, 2022 04:11:11 pm

निवेशक बना लेते हैं दूरी
इसमें कोई दो राय नहीं है कि धार्मिक विवादों के कारण देश में अशांति का वातावरण बनता है। इस माहौल में निवेशक निवेश करना उचित नहीं समझते और बगैर निवेश के अर्थव्यवस्था मे सुधार नहीं हो सकता.
-विवेक नंदवाना, कोटा
................
क्या धार्मिक विवादों से देश की अर्थव्यवस्था प्रभावित हो रही है?
क्या धार्मिक विवादों से देश की अर्थव्यवस्था प्रभावित हो रही है?
बाधक है धार्मिक कट्टरता
भारतीय संविधान की प्रस्तावना में धार्मिक स्वतंत्रता पर विशेष जोर दिया है। फिर भी आजकल देश धार्मिक कट्टरता देखने को मिलती है, यह चिंताजनक है। यह देश के विकास और अर्थव्यवस्था की मजबूती में बड़ी बाधा है।
-अनुश्री मिश्रा, मध्यप्रदेश
...................
नेता देते हैं विवादों को बढ़ावा
धार्मिक विवादों से देश के आम जन को नुकसान होता है। फिर भी नेता ऐसे विवादों को बढ़ावा देते हैं। प्रशासन को भी अपना महत्त्वपूर्ण समय इन विवादों को संभालने में ही बर्बाद करना पड़ता है। आपसी खींचतानी में अर्थव्यवस्था की सेहत का तो किसी को ध्यान ही नहीं रहता।
अनिल धानका, अलवर
...............
धार्मिक उन्माद
आजकल धार्मिक विवाद बहुत होते हैं। समाजकंटक आपत्तिजनक भाषा के उपयोग से अराजकता पैदा करते हैं और धार्मिक उन्माद फैला कर तोड़ फोड़ करते हैं। इससे देश की अर्थव्यवस्था को भी नुकसान पहुंचता है.
-हरिप्रसाद चौरसिया ,देवास, मध्यप्रदेश
..........
सता प्राप्ति के लिए पैदा करते हैं विवाद
धार्मिक विवादों से देश की अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुंचता है। वसुधैव कुटुम्बकम् का संदेश देने वाले ही यदि संकीर्णता अपनाने लगेंगे, तो दुनिया को सही मार्ग कौन दिखाएगा? सत्ता प्राप्ति के लिए धार्मिक विवादों को जन्म देना ठीक नहीं है।
- रणजीत सिंह भाटी, मंदसौर, मप्र
...........
अर्थव्यवस्था को हानि
धार्मिक विवादों से अर्थव्यवस्था को नुकसान होता है। धार्मिक विवाद के कारण दंगे फसाद होते हैं। सार्वजनिक व निजी संपत्ति को नुकसान पहुंचाया जाता है। कर्फ्यू भी लग जाता है। बाजार बंद करवा दिए जाते हैं। काम-धंधा चौपट हो जाता है। ऐसी हालत में अर्थव्यवस्था मजबूत कैसे हो सकती है?
लता अग्रवाल, चित्तौडग़ढ़
..............
जरूरी है सख्ती
धार्मिक विवादों से देश की अर्थव्यवस्था निश्चित ही प्रभावित होती है। तोड़फोड़, आगजनी और मारपीट की घटनाओं से हर कोई भयभीत रहता है। सरकार को सख्ती से पेश आते हुए क्षति की भरपाई दंगाइयों से करनी चाहिए।
- उमाकांत शर्मा, डग, झालावाड़
..............
बना रहे सौहार्द का माहौल
धार्मिक विवाद देश के आर्थिक विकास को प्रभावित कर रहे हैं । आर्थिक विकास को बढ़ावा देने के लिए नीति निर्माताओं को समाज में सौहार्द का माहौल बनाए रखना हेागा।
-अजिता शर्मा,उदयपुर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Maharashtra: गृहमंत्री शाह ने महाराष्ट्र के उमेश कोल्हे हत्याकांड की जांच NIA को सौंपी, नुपुर शर्मा के समर्थन में पोस्ट करने के बाद हुआ था मर्डरMaharashtra Politics: बीएमसी चुनाव में होगी शिंदे की असली परीक्षा, क्या उद्धव ठाकरे को दे पाएंगे शिकस्त?PM Modi In Telangana: 6 महीने में तीसरी बार तेलंगाना के CM केसीआर ने एयरपोर्ट पर PM मोदी को नहीं किया रिसीवSingle Use Plastic: तिरुपति मंदिर में भुट्टे से बनी थैली में बंट रहा प्रसाद, बाजार में मिलेंगे प्लास्टिक के विकल्पकेरल में दिल दहलाने वाली घटना, दो बच्चों समेत परिवार के पांच लोग फंदे पर लटके मिलेक्या कैप्टन अमरिंदर सिंह बीजेपी में होने वाले हैं शामिल?कानपुर में भी उदयपुर घटना जैसी धमकी, केंद्रीय मंत्री और साक्षी महाराज समेत इन साध्वी नेताओं पर निशाना500 रुपए के नोट पर RBI ने बैंकों को दिए ये अहम निर्देश, जानिए क्या होता है फिट और अनफिट नोट
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.