scriptLakhimpur Kheri Case: Gulab Kothari Article individual or democracy | व्यक्ति बड़ा या लोकतंत्र | Patrika News

व्यक्ति बड़ा या लोकतंत्र

जांच कमेटी ने कह दिया कि लखीमपुर की घटना पूर्व नियोजित दुर्घटना-षड्यंत्र के रूप में थी। ऐसे में सरकार को अजय मिश्रा को निकाल बाहर करना चाहिए। किसी आचरणहीन व्यक्ति के दु:साहस को आश्रय देना लोकतंत्र का अपमान है। लखीमपुर घटना के बाद सियासत के स्याह सच से रूबरू कराता 'पत्रिका' समूह के प्रधान संपादक गुलाब कोठारी का यह अग्रलेख -

नई दिल्ली

Updated: December 19, 2021 11:21:52 am

एक व्यक्ति की हठधर्मिता से लोकसभा की कार्यवाही ठप होती जा रही है। लोकतंत्र का इससे बड़ा अपमान और क्या हो सकता है! एक व्यक्ति, एक सांसद, एक मंत्री या एक खलनायक? जांच कमेटी कहती है कि लखीमपुर की घटना पूर्व नियोजित दुर्घटना-षड्यंत्र के रूप में थी। क्या इसे राक्षसी आचरण नहीं कहा जाएगा? पिता सत्ताधीश (केन्द्रीय गृह राज्यमंत्री) हों तब क्या यह नहीं माना जाएगा कि पिता के पद व प्रभाव का यह बेजा इस्तेमाल हुआ है। लाल बहादुर शास्त्री रेलमंत्री थे। एक बड़ी रेल दुर्घटना के कारण त्यागपत्र दे दिया था। और अजय मिश्रा?

सरकार मौन, विपक्ष मुखर, लोकसभा स्थगित। पक्ष-विपक्ष आमने-सामने। यह तो वही दृश्य दोहराया जा रहा है जो किसान आन्दोलन के समय था। मूंछ की लड़ाई का। यह वास्तव में एक अपराधी को आश्रय देने का मुद्दा है। अपराधी का कोई रंग नहीं होता। सरकार को अजय मिश्रा को निकाल बाहर करना चाहिए। नहीं तो, सरकार की छवि पर काला टीका जड़ जाएगा। चुनाव सिर पर हैं। किसान आन्दोलन की कीमत पंजाब में चुकानी पड़ सकती है, लखीमपुर की घटना उत्तरप्रदेश में अपनी छाप छोड़कर रहेगी। ऐसा लगता है कि अजय मिश्रा को सरकार सोने की छुरी मानकर अपने ही पेट में घोंप रही है।

यह भी पढ़ें - सब ओर असमंजस

पिछले कुछ वर्षों में हमारा लोकतंत्र जड़ से उखड़ता दिखाई पड़ रहा। केन्द्र हो अथवा राज्य सरकार। दोनों ही अपनी मूल भूमिका को छोड़ रहे हैं। सरकारों की परिभाषा बदल रही है। जनता सरकार बनाने के लिए किसी एक दल को चुनती है। वह सरकार बनाकर अपने दल की प्रतिष्ठा कर देती है। केन्द्र में भाजपा की, राजस्थान में कांग्रेस की सरकार। क्या मतलब हुआ! क्या केन्द्र में भारत सरकार नहीं होगी और राज्य में राज्य सरकार नहीं होगी? क्या विपक्ष का प्रधानमंत्री/मुख्यमंत्री दूसरा कोई होगा? सरकार में बैठे हुए जनप्रतिनिधि के लिए पक्ष-विपक्ष दो हाथ हैं। पक्ष भी उसका, विपक्ष भी उसका।

आज तो सत्तापक्ष विपक्ष को शत्रु मानकर व्यवहार कर रहा है। दोनों पक्ष एक-दूसरे की आलोचना में व्यस्त हैं। पत्थरबाजी पर उतर आए हैं। सत्ता पक्ष को यह कहते सुना जा सकता है कि जनता विपक्षी दलों को वोट नहीं दे। पी.एम./सी.एम. तो विपक्षी दलों के भी ये ही हैं। यह कार्य इनके संगठनों का है, इनका नहीं हो सकता। संगठनों के अनुसार सरकार नहीं चलनी चाहिए। सारे निर्णय देशहित में कानून के अनुसार होने चाहिए। यह कहना उचित नहीं है कि सरकार किसी एक दल की है। सरकार बनने के बाद सदन की है, जनता की है।

व्यक्ति बड़ा या लोकतंत्र
व्यक्ति बड़ा या लोकतंत्र

यह भी पढ़ें - स्वर्णिम स्मृति

अजय मिश्रा मंत्री है, देश के मंत्री हैं। किसी दल के नहीं। यही आधार होना चाहिए निर्णय का। पक्ष-विपक्ष मिलकर ही सरकार चलाते हैं। विपक्ष का होना ही लोकतंत्र का प्रमाण है। दोनों मिलकर देशहित में निर्णय करें, यही लोकतंत्र है। अजय मिश्रा की भाषा स्वयं आपत्तिजनक है। लोकतंत्र को अपमानित करने की, एक बाहुबली द्वारा 130 करोड़ नागरिकों के सम्मान की अवहेलना करने वाली है। क्षमा मांगना तो शायद स्वभाव में नहीं है। ऐसे व्यक्ति को गृह विभाग जैसा दायित्व देना सरकार को मुसीबत में ही डालेगा। वैसे भी एक व्यक्ति यदि सपूर्ण राष्ट्र की भावनाओं को नकारता है और उसको बचाने के लिए यदि संसद ठप हो जाए, तो क्या यह लोकतंत्र का अपमान नहीं है? देश में जब कोई अपूरणीय क्षति होती है, तब संसद का सत्र रद्द हो, झण्डे झुकें तो समझ में आता है। किन्तु किसी आचरणहीन व्यक्ति के दु:साहस को आश्रय देने के लिए ऐसा होता है, तो यह तो अपने आप में ही राष्ट्रीय क्षति है।

यह भी पढ़ें - शरीर ही ब्रह्माण्ड : त्याग में देना नहीं, लेना है

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

ताजमहल के बंद 22 कमरों का खुल गया सीक्रेट, ASI ने फोटो जारी करते हुए बताई गंभीर बातेंकर्नाटक: हथियारों के साथ बजरंग दल कार्यकर्ताओं के ट्रेनिंग कैम्प की फोटोज वायरल, कांग्रेस ने उठाए सवालPM Modi Nepal Visit : नेपाल के बिना हमारे राम भी अधूरे हैं, नेपाल दौरे पर बोले पीएम मोदीमहबूबा मुफ्ती ने कहा इनको मस्जिद में ही मिलता है भगवानइलाहाबाद हाईकोर्ट: ज्ञानवापी में मिला बड़ा शिवलिंग, कोर्ट के आदेश पर स्थान सरंक्षित, 20 को होगी अगली सुनवाईIPL 2022 DC vs PBKS Live Updates : 12 ओवर के बाद दिल्ली 4 विकेट के नुकसान पर 107 रनBJP कार्यकर्ता अभिजीत सरकार की हत्या के मामले में CBI ने TMC विधायक को किया तलब49 डिग्री के हाई तापमान से दिल्ली बेहाल, अब धूलभरी आंधी के आसार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.