scriptLeaders should learn how to contain decision fatigue | Leadership: निर्णय लेने में होने वाली थकान को करें नियंत्रित | Patrika News

Leadership: निर्णय लेने में होने वाली थकान को करें नियंत्रित

निर्णय लेने की प्रक्रिया में एकाग्रता, आत्मनिरीक्षण और निर्णय के निवेश की आवश्यकता होती है और इसमें अत्यधिक मानसिक श्रम लगता है

Published: May 09, 2022 08:54:34 pm

प्रो. हिमांशु राय
निदेशक, आइआइएम इंदौर

हमने पिछले लेख में अंतर्ज्ञान (इंट्यूशन) और भावनात्मक बुद्धिमत्ता (इमोशनल इंटेलिजेंस) पर चर्चा की और जाना कि ये एक लीडर के सही निर्णय में इनका क्या महत्त्व हैं। हालांकि, एक और पहलू है आमतौर पर प्रबंधक निर्णय लेने में जिसे अनुभव करते हैं - निर्णय लेने में होने वाली थकान। इसे अंग्रेजी में 'डिसीजन फटीग' कहा जाता है। सामाजिक मनोवैज्ञानिक रॉय एफ. बॉमिस्टर और उनके सहयोगियों द्वारा अपने शोध में प्रमुख रूप से गढ़ी गई और अमरीकी पत्रकार जॉन जिमी द्वारा प्रचलित यह एक मनोवैज्ञानिक अवस्था है। इसमें एक व्यक्ति की आवश्यक उचित मात्रा में ध्यान देने की क्षमता, एक निर्णय पर विचार व प्रसंस्करण (गुणवत्ता तय करने के लिए जरूरी) की क्षमता क्षीण हो जाती है। यानी व्यक्ति किसी मुद्दे पर स्पष्ट निर्णय लेने के लिए अभिभूत, तनावग्रस्त या यहां तक कि विस्थापित महसूस करता है और इसका कारण मुख्यत: ऊर्जा की कमी या मानसिक/भावनात्मक थकावट होती है। ऐसे में व्यक्ति अक्सर तनाव या क्लान्ति अनुभव करता है। निर्णय लेने की प्रक्रिया में एकाग्रता, आत्मनिरीक्षण और निर्णय के निवेश की आवश्यकता होती है। इसमें अत्यधिक मानसिक श्रम लगता है। खासकर तब, जब किसी व्यक्ति को बहुत से ऐसे निर्णय लेने पड़ें जो आकलन और अनुमान की क्षमता पर आधारित हों। इन्हें रणनीतिक निर्णय कहा जाता है - और ये दैनिक और साधारण निर्णय नहीं होते।
प्रतीकात्मक चित्र
प्रतीकात्मक चित्र
सैद्धांतिक रूप से यह एक लक्षण है जिसका कारण आत्म-नियंत्रण या इच्छाशक्ति की कमी से है। इसे किसी व्यक्ति की आत्म-अवधारणा के मनोवैज्ञानिक अर्थ के रूप में समझा जाना चाहिए। इसमें व्यक्ति की जो मानसिक शक्ति (जो एक समय में सीमित है) का अत्यधिक उपभोग होता है और इसे आराम, नींद, या ध्यान के माध्यम से पुन: प्राप्त किया जा सकता है। हालांकि, इस सिद्धांत के स्थापित शोध प्रमाण अभी बाकीहैं। एक ओर मानसिक थकान संज्ञानात्मक कार्यों के लंबे समय तक प्रदर्शन, या विभिन्न प्रकार के संज्ञानात्मक कार्यों से उत्पन्न हो सकती है, दूसरी ओर निर्णय लेने की थकान, लंबे समय तक जोखिम भरे विकल्पों में से एक चुनने के कारण होती है। डिसीजन फटीग के लक्षण व्यावहारिक हो सकते हैं जैसे विलंब या निर्णय लेने से बचना, संज्ञानात्मक (जैसे आधे-अधूरे मूल्यांकन, या भ्रम या संज्ञानात्मक पूर्वाग्रहों के लिए रुझान अधिक होना), और यहां तक कि प्रकृति में शारीरिक (जैसे कम सहनशीलता, दर्द)। इनकी अनदेखी न केवल किए गए निर्णयों की गुणवत्ता खराब कर सकती है, बल्कि आवेगपूर्ण व्यय, संसाधनों के अपव्यय, निर्णयों से बचने या देरी करने, निर्णय विकल्पों के बीच लगातार दोलन करने और एक विकल्प पर अडिग रहने के लिए आत्मविश्वास न होने जैसी समस्याओं को भी जन्म दे सकती है। हालांकि, आत्म-प्रभावकारिता, आत्म-नियंत्रण जैसे कारक इसके प्रभावों को कम कर सकते हैं। शोध से यह भी पता चलता है कि कुछ संस्कृतियों के लोग तनाव में भी बेहतर प्रदर्शन कर सकते हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

पंजाब में शुरु हुई सेहत क्रांति की शुरुआत, 75 'आम आदमी क्लीनिक' बन कर तैयार, देश के 75वें वर्षगांठ पर हो जाएंगे जनता को समर्पितMaharashtra: सीएम शिंदे की ‘मिनी’ टीम में हुआ विभागों का बंटवारा, फडणवीस को मिला गृह और वित्त, जानें किसे मिली क्या जिम्मेदारीलाखों खर्च कर गुजराती युवक ने तिरंगे के रंग में रंगी कार, PM मोदी व अमित शाह से मिलने की इच्छा लिए पहुंचा दिल्लीशेयर मार्केट के बिगबुल राकेश झुनझुनवाला की मौत ऐसे हुई, डॉक्टर ने बताई वजहBJP ने देश विभाजन पर वीडियो जारी कर जवाहर लाल नेहरू पर साधा निशाना, कांग्रेस ने किया पलटवारIndependent Day पर देशभर के 1082 पुलिस जवानों को मिलेगा पदक, सबसे ज्यादा 125 जम्मू कश्मीर पुलिस कोहरियाणा में निकली 6600 फीट लंबी तिरंगा यात्रा, मनाया जा रहा आजादी के अमृत महोत्सव का जश्नIndependence Day 2022: लालकिला छावनी में तब्दील, जमीन से आसमान तक काउंटर-ड्रोन सिस्टम से निगरानी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.