जमा पूंजी : उत्तराधिकार और कानूनी प्रक्रिया

भविष्य में कोई परेशानी भुगतने से बेहतर है कि धैर्य रखें और प्रक्रिया पूर्ण करें

By: विकास गुप्ता

Updated: 05 May 2021, 10:04 AM IST

असीम त्रिवेदी

इस वक्त का सबसे जटिल काम साबित हो रहा है प्रोपराइटर के निधन के बाद उसके व्यवसाय को कानूनी उत्तराधिकारी को सौंपना। कल ही एक विद्यार्थी का फोन आया था, सर मुझे सीए करना छोडऩा पड़ रहा है क्योंकि पापा का 15 दिन पहले निधन हो गया है, अब व्यवसाय मैं सम्भालूंगा। घर में मां और एक छोटी बहन है। पर समझ नहीं आ रहा शुरुआत कहा से करूं। मैंने कहा पिताजी की कोई वसीयत थी - जवाब आया नहीं। मैंने कहा - बेटा अब बहुत धैर्य से काम लेना होगा, सबसे पहले एक मृत्यु प्रमाण पत्र बनवाओ, क्योंकि वो हर जगह लगेगा। अपनी मां और बहन से त्याग का विलेख बनवाओ कि उन्हें व्यवसाय को तुम्हें चलाने देने में कोई दिक्कत नहीं है।

मृत्यु प्रमाण पत्र और इस विलेख के साथ तुम्हें अब अपने क्षेत्र के कोर्ट में उत्तराधिकार प्रमाण पत्र के लिए याचिका लगानी होगी। याचिका पर न्यायालय विचार करेगा। इस बीच अखबार में जाहिर सूचना प्रकाशित होगी, इस पर अगर कोई आपत्ति नहीं आई तो तुम्हें उत्तराधिकार प्रमाण पत्र मिल जाएगा। इस प्रक्रिया में एक माह का समय मान कर चलो। इस प्रमाण पत्र को जीएसटी अधिकारियों को पेश कर नया जीएसटी पंजीकरण अपने नाम में करवाओ और पिता के व्यवसाय को नए जीएसटी नम्बर पर हस्तांतरित करवा लो ताकि पिता के पास जो क्रेडिट जीएसटी में पड़ी है वह तुम्हें मिल जाए। इसी तरह आयकर विभाग से व्यवसाय का उत्तराधिकार लेना होगा। जब बात लम्बी प्रक्रिया की आई तो विद्यार्थी पूछ बैठा, मैं सिर्फ पापा की दुकान का नाम रख लेता हूं और उसमें व्यवसाय करता हूं, पुराने हिसाब पुराने अकाउंट से चुका देता हूं और आगे बढ़ जाता हूं।

मैंने कहा - पहली बात, जो स्टॉक अभी है और तुम भविष्य में बेचोगे और जो सम्पत्तियां तुम्हारे पास आएंगी उन्हें कर कानून उत्तराधिकार नहीं मानेंगे, हस्तांतरण मानेंगे, सब पर प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष कर की देयता आएगी। दूसरी बात, भविष्य में किसी ने ये दावा किया कि पापा की गुडविल और व्यवसाय में वह भी हिस्सेदार था तो क्या करोगे। जरूरी है थोड़ा धैर्य रख कानूनी प्रक्रिया पूर्ण करें। बेहतर होगा यदि यह पूरी प्रक्रिया सरल और ऑनलाइन हो जाए, ताकि महामारी में आहत परिवारों को राहत मिले।

(लेखक सीए, ऑडिटिंग एंड अकाउंटिंग स्टैंडर्ड, कंपनी मामलों के जानकार हैं)

विकास गुप्ता
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned