scriptMunich October Fest becomes a royal wedding biggest celebration | ट्रैवलॉग अपनी दुनिया : म्यूनिख अक्टूबर फेस्ट एक शाही विवाह बन गया सबसे बड़ा लोकोत्सव | Patrika News

ट्रैवलॉग अपनी दुनिया : म्यूनिख अक्टूबर फेस्ट एक शाही विवाह बन गया सबसे बड़ा लोकोत्सव

इस उत्सव का दूसरा मशहूर नाम बीयर फेस्ट है तो स्पष्ट है कि बीयर इस उत्सव का खास पेय है। जैसे हमारे यहां ठंडाई और भांग को होली से जोड़ा जाता है। खाने के लिए भी बहुत कुछ है, पर आलू का सलाद मुझे आज भी याद है।

नई दिल्ली

Published: October 26, 2021 01:53:54 pm

तृप्ति पाण्डेय (पर्यटन एवं संस्कृति विशेषज्ञ)

मैंने सबसे पहले इस उत्सव के बारे में साल्जबर्ग में अपनी पढ़ाई के दौरान सुना था पर जाना बहुत सालों बाद हुआ। आज उस उत्सव की कहानी लिखते समय सहसा गीतकार गोपालदास नीरज का गीत अचानक याद आ गया- 'शोखियों में घोला जाए, फूलों का शबाब, उसमें फिर मिलाई जाए, थोड़ी-सी शराब, होगा यूं नशा जो तैयार, वो प्यार है!' यह गीत अक्टूबर फेस्ट की पूरी कहानी पर बिल्कुल सही बैठता है। मुझे मेरे मित्र स्व. रोलांद और उनका परिवार एक पूरे दिन के लिए ले गए क्योंकि मैंने रोलांद को पुष्कर का मेला दिखाया था!

ट्रैवलॉग अपनी दुनिया : म्यूनिख अक्टूबर फेस्ट एक शाही विवाह बन गया सबसे बड़ा लोकोत्सव
ट्रैवलॉग अपनी दुनिया : म्यूनिख अक्टूबर फेस्ट एक शाही विवाह बन गया सबसे बड़ा लोकोत्सव

हम बहुत सवेरे निकले और रात बहुत देर से लौटे पर वह एक दिन मुझे जर्मनी के जीवन के हर रंग से सराबोर कर गया! उमंग और उल्लास में डूबे लाखों लोग, उम्र की कोई सीमा नहीं। परिवार अपने बड़े-छोटे सदस्यों के साथ वहां दूर-दूर से आए थे। दुनियाभर के पर्यटकों के लिए सालों से यह एक बड़ा आकर्षण है। जहां तक नजर जाए बड़े-बड़े टेंट, अलग-अलग किस्म के झूले, दुकानें, करतब दिखाते कलाकार। दक्षिणी जर्मनी का यह छोर बवेरिया कहलाता है, जहां ग्रामीण लोक वेशभूषा में समूह में नाचते-गाते हैं, खचाखच भरे टेंटों में खाते-पीते हैं। उनका उत्साह ऐसे गूंजता है कि अपनी आवाज भी सुनाई नहीं देती। हजारों लोगों के बैठने के लिए बनाए जाने वाले इन टेंट में स्थान के लिए टिकट लेना होता है। उत्सव का दूसरा मशहूर नाम बीयर फेस्ट है तो स्पष्ट है कि बीयर इस उत्सव का खास पेय है। जैसे हमारे यहां ठंडाई और भांग को होली से जोड़ा जाता है। खाने के लिए भी बहुत कुछ है, पर आलू का सलाद मुझे आज भी याद है।

उत्सव का इतिहास आपको 12 अक्टूबर 1810 तक ले जाता है जब बवेरिया के राजकुमार लुडविग का विवाह हुआ था। उनके स्वागत के लिए आसपास के नागरिकों को शाही जश्न में सम्मिलित होने के लिए आमंत्रित किया गया था। भव्य परेड भी निकाली गई और हजारों घोड़ों की घुड़दौड़ भी हुई। लोगों को इतना आनंद आया कि राजपरिवार ने अगले साल भी उत्सव मनाने का निर्णय कर लिया। इस तरह यह वार्षिकोत्सव बन गया। कभी नेपोलियन, हिटलर, हैजा तो पिछले साल और इस साल कोरोना उत्सव के आयोजन में व्यवधान साबित हुए। इस साल तो उत्सव को दुबई ले जाए जाने की खबर भी फैली, जिस पर जर्मनी में विरोध प्रदर्शन भी हुए। स्पष्ट किया गया कि दुबई में माहौल जर्मनी वाला होगा और वह सिर्फ अक्टूबर फेस्ट ही कहलाएगा। अब तो भारत में भी कई होटल-रेस्त्रां अक्टूबर फेस्ट मनाते हैं।

एक और दिलचस्प बात यह कि म्यूनिख में इस उत्सव की घोषणा विधिपूर्वक की जाती है। बारह तोपों की सलामी के साथ म्यूनिख के मेयर लकड़ी के उस बड़े ढोल में, जिसमें उत्सव की बीयर भरी रहती है, के नल को लकड़ी के हथौड़े से ठोक कर खोलते हैं और पहला मग भर कर बवेरिया के मिनिस्टर-प्रेजिडेंट को परोसते हैं। आपको आने वाले सालों के अक्टूबर फेस्ट की तारीखें अभी इंटरनेट पर मिल जाएंगी। बस प्रार्थना कीजिए कि कोरोना का साया उत्सवों पर से हट जाए।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

देश में वैक्‍सीनेशन की रफ्तार हुई और तेज, आंकड़ा पहुंचा 160 करोड़ के पारपाकिस्तान के लाहौर में जोरदार बम धमाका, तीन की नौत, कई घायलजम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जहांगीर नाइकू आया गिरफ्त मेंCovid-19 Update: दिल्ली में बीते 24 घंटे के भीतर आए कोरोना के 12306 नए मामले, संक्रमण दर पहुंचा 21.48%घर खरीदारों को बड़ा झटका, साल 2022 में 30% बढ़ेंगे मकान-फ्लैट के दाम, जानिए क्या है वजहचुनावी तैयारी में भाजपा: पीएम मोदी 25 को पेज समिति सदस्यों में भरेंगे जोशखाताधारकों के अधूरे पतों ने डाक विभाग को उलझायाकोरोना महामारी का कहर गुजरात में अब एक्टिव मरीज एक लाख के पार, कुल केस 1000000 से अधिक
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.