नया राष्ट्रपति

नया राष्ट्रपति
opinion news

Shankar Sharma | Publish: May, 16 2017 11:29:00 PM (IST) विचार

मौजूदा राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का कार्यकाल समाप्त होने को है। अगले दो महीनों में देश को नया राष्ट्रपति मिल जाएगा। हर तरफ नए राष्ट्रपति के नाम की अटकलें जारी हैं

मौजूदा राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का कार्यकाल समाप्त होने को है। अगले दो महीनों में देश को नया राष्ट्रपति मिल जाएगा। हर तरफ नए राष्ट्रपति के नाम की अटकलें जारी हैं। उत्तर प्रदेश सहित पांच राज्यों के चुनावी नतीजों के बाद मोटे-मोटे यह स्पष्ट है कि राष्ट्रपति चुनाव में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी और एनडीए का पलड़ा ही भारी रहेगा। हालांकि तैयारी प्रतिपक्ष की ओर से भी तेज होने लग गई है। स्वयं कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी इस संबंध में विपक्ष के नेताओं से मिल रही हैं।  नए राष्ट्रपति के नाम पर भी और सहयोगियों पर भी बात हो रही है।

 उधर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सत्तारूढ़ एनडीए के घटक दलों के नेताओं से एक दौर की बात कर चुके हैं। दोनों ही पक्षों की ओर से गुपचुप तरीके से कई नाम चलाए जा रहे हैं। जाहिरा तौर पर अभी दो ही नाम हैं। एक वर्तमान राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का, जिसे सर्वानुमति के लिए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आगे बढ़ाया है।

दूसरा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के मुखिया मोहन भागवत का जिसे शिवसेना ने चलाया है। देश में जो राजनीतिक माहौल है और जिस तरह की राजनीति पक्ष-विपक्ष की ओर से हो रही है, उसमें लगता नहीं कि आज सर्वानुमति के लिए कोई जगह बची है। फिर भी यह लोकतंत्र का तकाजा और पद की गरिमा और प्रतिष्ठा का सवाल है कि सत्ता पक्ष पहल करके विपक्ष से इस बारे में बात करे।

यह भी सही है कि दोनों ही पक्षों  को करनी तो अपने मन की है, जो वे पिछले तीन सालों से कर भी रहे हैं फिर भी उम्मीदों पर दुनिया कायम है। क्या पता चर्चा में कोई ऐसा नाम निकलकर सामने आ जाए जिस पर सारे पक्ष -विपक्ष सब सहमत हों। बेशक आज तक ज्यादातर राष्ट्रपति चुनाव प्रक्रिया से ही बने हैं और वे सत्ताधारी दल की पसंद के राजनीतिज्ञ ही होते हैं लेकिन मिसाइल मैन एपीजे अब्दुल कलाम जैसे नाम भी हमारे सामने हैं जो न केवल राष्ट्रपति बने अपितु, सब की पसंद भी बने। खासतौर पर देश के नौजवानों की जो उनके राष्ट्रपति पद से अवकाश ग्रहण करने के बाद भी उन्हें सुनते रहे। उनका 'विजन-2020Ó तो आज भी देखा, सुना और पढ़ा जाता है। जनचर्चाओं को माने तो जनता को उम्मीद है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी कलाम जैसा ही कोई अनूठा नाम सामने लाएंगे। देखें कौन और किस प्रक्रिया से बनता है, नया राष्ट्रपति! बहुमत से या सर्वानुमति से।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned