scriptPresident should be such that he prevents from breaking the limits | राष्ट्रपति ऐसा हो जो सरकार को संविधान की सीमा तोडऩे से रोके: सिन्हा | Patrika News

राष्ट्रपति ऐसा हो जो सरकार को संविधान की सीमा तोडऩे से रोके: सिन्हा

विपक्ष के राष्ट्रपति उम्मीदवार यशवंत सिन्हा से 'पत्रिका' की बेबाक बातचीत। सिन्हा ने कहा कि देश में रबर स्टांप राष्ट्रपति भी हुए हैं। पेश है मुकेश केजरीवाल से बातचीत के अंश

Published: June 27, 2022 08:12:51 pm

आपका नाम पहले तय हुआ, लेकिन अब आपके खिलाफ आदिवासी महिला चुनाव में हैं..
-पिछली बार मीरा कुमार के रूप में एक दलित महिला भी उम्मीदवार बनी थीं तो क्या उनको लोगों ने इसलिए चुन कर भेज दिया? मैं कहां पैदा होऊंगा, यह क्या मैंने तय किया था? कौन किस कुल में पैदा हुआ, सिर्फ इस आधार पर न लाभ मिलना चाहिए और न नुकसान हो। इस पर आपका नियंत्रण नहीं है।
राष्ट्रपति ऐसा हो जो सरकार को संविधान की सीमा तोडऩे से रोके: सिन्हा
राष्ट्रपति ऐसा हो जो सरकार को संविधान की सीमा तोडऩे से रोके: सिन्हा
भारत में राष्ट्रपति की भूमिका जो रही है और इस समय है...
-बहुत ही प्रतिष्ठित और मर्यादा वाले लोग राष्ट्रपति बने हैं और उन्होंने अपनी संवैधानिक भूमिका निभाई है। कुछ रबर स्टांप भी बने हैं। दोनों तरह के राष्ट्रपति भारत के इतिहास में देखने को मिले हैं। मैं इतना ही कह सकता हूं कि मैं रबर स्टांप राष्ट्रपति नहीं बनने वाला हूं।
विपक्ष के आपके साथ लामबंद होने की एक बड़ी वजह यह नहीं कि आप मोदी-शाह की कमियों को खुल कर सामने लाते हैं?
-जब मैंने महसूस किया कि वर्तमान व्यवस्था और इस सरकार की नीतियां गलत हो रही हैं, तो मैंने उस बारे में अपनी बात रखना शुरू किया। मेरा भारतीय जनता पार्टी में किसी से भी व्यक्तिगत ईष्र्या या द्वेष नहीं है। सार्वजनिक तौर पर अक्सर कहा जाता है कि 2014 में मुझे चुनाव में टिकट नहीं मिला। मैं बता दूं कि तब मैंने खुद चुनाव लडऩे से मना कर दिया था। मैंने आलोचना इसलिए की, क्योंकि सरकार की नीतियों और कार्यशैली से मेरा मतभेद था।
राष्ट्रपति चुनाव में जीत को ले कर कितने आशान्वित हैं?
-पूरी तरह से आशान्वित हूं।


यह अप्रत्यक्ष चुनाव होता है, लेकिन भारत की जनता को क्या कहेंगे आपको राष्ट्रपति क्यों बनाया जाए?
-मेरा बहुत लंबा अनुभव है। कई मामलों का गंभीर जानकार हूं। साथ ही राष्ट्रपति भवन में ऐसे व्यक्ति की आवश्यकता है, जो सरकार को समय-समय पर सही मशविरा देता रहे और कार्यपालिका जब संवैधानिक सीमाओं का उल्लंघन करे, तो उसे ऐसा करने से रोके। संविधान के अनुसार यही भूमिका है राष्ट्रपति की। बाकी समय तो उन्हें मंत्रिपरिषद की सलाह पर चलना होगा। उनको सरकार को मशविरा देने का अधिकार है, यह कहने का अधिकार है कि संवैधानिक सीमा कहां समाप्त होती है। यह मैं बखूबी जानता हूं और इसको निभाऊंगा।
मायावती ने एनडीए उम्मीदवार का समर्थन किया है
-देखा मैंने। अभी से 18 जुलाई तक बहुत परिवर्तन होंगे।

क्या मायावती अपना फैसला बदल सकती हैं?
नहीं उस बारे में नहीं, लेकिन बहुत सी परिस्थितियां बदलेंगी 16-17 जुलाई तक।
क्या मौजूदा परिस्थितियों में राष्ट्रपति के लिए कुछ अतिरिक्त सजगता और सक्रियता जरूरी हो जाएगी?
-बिल्कुल जरूरी हो जाएगी।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

Maharashtra Cabinet Expansion: कल 15 मंत्री लेंगे शपथ, देवेंद्र फडणवीस को मिलेगा गृह विभाग? जानें शिंदे कैबिनेट के संभावित मंत्रियों के नामबिहारः कांग्रेस ने बुलाई विधायकों की बैठक, नीतीश कुमार के साथ जाने पर बन सकती है सहमति!Google ने दिल्ली हाई कोर्ट को दी जानकारी, हटाए केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी और उनकी बेटी के खिलाफ पोस्ट वेब लिंक'इनकी पुरानी आदत है पूरे सिस्टम पर हमला करने की', कपिल सिब्बल के बयान पर बोले कानून मंत्री किरेण रिजिजूअरविंद केजरीवाल ने कहा- देश की राजनीति में परिवारवाद और दोस्तवाद खत्म कर भारतवाद लाएंगेAmit Shah Visit To Odisha: अमित शाह बोले- ओडिशा में अच्छे दिन अनुभव कर रहे लोग, सीएम नवीन पटनायक की तारीफ भी कीAsia Cup 2022 के लिए टीम इंडिया का हुआ ऐलान, विराट कोहली-केएल राहुल की हुई वापसी'नीतीश BJP का साथ छोड़े तो हम गले लगाने को तैयार', बिहार में मचे सियासी घमासान पर बोले RJD नेता शिवानंद तिवारी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.