नेतृत्व : मनोवैज्ञानिक सुरक्षा और उत्तरदायित्व

कुछ प्रमुख नेतृत्व व्यवहारों पर चर्चा करते हैं जिन्हें मनोवैज्ञानिक सुरक्षा की संस्कृति के विकास की प्रक्रिया के लिए अपनाया जाना चाहिए:

By: विकास गुप्ता

Updated: 22 Jul 2021, 01:24 PM IST

प्रो. हिमांशु राय , निदेशक, आइआइएम इंदौर

कार्यस्थल पर मनोवैज्ञानिक सुरक्षा की अहमियत यह है कि यह संगठनात्मक संस्कृति में प्रामाणिकता, खुलेपन और समावेशिता की नींव बनाती है। अब हम कुछ प्रमुख नेतृत्व व्यवहारों पर चर्चा करते हैं जिन्हें मनोवैज्ञानिक सुरक्षा की संस्कृति के विकास की प्रक्रिया के लिए अपनाया जाना चाहिए:

1. खुले संचार को बढ़ावा देना : काम पर मुद्दों के बारे में अपनी भावनाओं और विचारों को खुले तौर पर संप्रेषित करने के लिए कर्मचारियों को प्रेरित और प्रोत्साहित करें। औपचारिकता के साथ-साथ व्यक्तिगत बातचीत को भी प्रोत्साहित करें।
2. चुनौतीपूर्ण कार्यों से सीखने की दें प्रेरणा : इससे यह धारणा बनेगी कि एक विशेष कार्य के लिए कर्मचारियों को अलग ढंग से सोचने और सुविधाओं और साधारण विचारों को छोडऩे की आवश्यकता है। प्रोत्साहन देते समय और अन्य सकारात्मक और प्रेरक प्रथाओं के दौरान टीम की सफलता का श्रेय टीम के सदस्यों की ज्ञान को प्रभावी ढंग से साझा करने की क्षमता को दें।
3. स्वीकार करें कि निष्पक्ष प्रतीत होने वाली और अच्छी तरह से स्थापित पुरानी प्रणालियां भी गलत हो सकती हैं, और दोषारोपण की राजनीति का समर्थन करने के बजाय टीम के सदस्यों के बीच गलतियों को स्वीकारने और साझा करने के लिए प्रोत्साहित करें।
4. इस तथ्य का संज्ञान लें कि गलतियां हमेशा खराब प्रदर्शन से संबंधित नहीं होती हैं। कई अन्य संबद्ध कारक सफलता या विफलता में शामिल होते हैं।
5. टीम के सदस्यों के बीच हर प्रयास के पीछे उद्देश्य और मनोबल को प्रतिबिंबित करने की आदत को बढ़ावा दें और उनमें जिज्ञासा का भाव लाएं।

हालांकि यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि मनोवैज्ञानिक सुरक्षा को बढ़ाना जवाबदेही, प्रासंगिकता, और विचारों को साझा करने या उनके परिणामों की वैधता पर समझौता करके नहीं किया जाना चाहिए। मनोवैज्ञानिक सुरक्षा और उत्तरदायित्व संबंधित हैं, और सदैव एक साथ, समान महत्त्व के साथ मौजूद होने चाहिए।

विकास गुप्ता
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned