आत्म-दर्शन : जरूरी है धैर्य

- धैर्य हमारी कमजोरियों को दूर करने में मददगार है।

- जब सब खो जाए तो भी अपने अंदर की अच्छाई को बनाए रखें।

By: विकास गुप्ता

Published: 13 Feb 2021, 08:11 AM IST

पोप फ्रांसिस, ईसाई धर्म गुरु

धैर्य हमारी कमजोरियों को दूर करने में मददगार है। ईश्वर हमें खुद को बदलने के लिए समय देते हैं। ईश्वर, पूर्णता की मांग नहीं करते हैं, लेकिन वे हमारे लिए हमेशा नई संभावनाओं को खोलते हैं। जब हम गिरते हैं, तो वे हमें उठाते हैं। जब हम रास्ता भटकने के बाद ईश्वर के पास लौटते हैं, तो वे खुली बांहों से हमारा इंतजार करते हैं। उनके प्यार को नहीं तौला जा सकता, ईश्वर हमें नए सिरे से शुरुआत करने की हिम्मत देते हैं। धैर्य कमजोरी का संकेत नहीं है, जब सब खो जाए तो भी अपने अंदर की अच्छाई को बनाए रखें।

थकान और बेचैनी को दूर करते हुए आगे बढ़ते रहें। यह भी हो सकता है कि हमारे जीवन में आशा धीरे-धीरे घटती चली जाए। फिर भी हमें धैर्य रखना होगा और ईश्वर पर भरोसा रखना होगा, क्योंकि वे सबक ा ध्यान रखते हैं। अपने जीवन में हतोत्साहित होने की बजाय, इसे याद रखने से हमें अपने लक्ष्य के लिए डटे रहने और अपने सपनों को फिर से जीवित करने में मदद मिल सकती है। कोई भी निर्णय जल्दबाजी में नहीं किया जाना चाहिए। शांति को बनाए रखने के लिए और स्थितियों को सुलझाने के लिए बेहतर समय की प्रतीक्षा करने की आवश्यकता होती है। इसलिए हमेशा धैर्य को बनाएं रखें।

विकास गुप्ता
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned