आत्म-दर्शन : क्रूरता है गर्भपात

हमारे समाज में लड़के-लड़कियों का लिंगानुपात बिगड़ रहा है। इसी कारण आज लड़कों की शादियां नहीं हो पा रही हैं।

By: विकास गुप्ता

Updated: 05 Apr 2021, 09:21 AM IST

मुनि प्रमाण सागर

गर्भपात एक बहुत क्रूर कर्म है, इसे कराने की बात तो दूर, सोचना भी नहीं चाहिए। इस कार्य को करने, कराने और सहयोग देने वाले पाप के भागी होते हैं। गर्भपात एक जीते-जागते जीव की हत्या है। अपने ही कलेजे के टुकड़े की हत्या है, अपने ही हिये के लाल की हत्या है। इसी का दुष्परिणाम है कि हमारे समाज में लड़के-लड़कियों का लिंगानुपात बिगड़ रहा है। इसी कारण आज लड़कों की शादियां नहीं हो पा रही हैं।

सोचने का विषय है कि जिस दिन समाज नारी विहीन हो जाएगा, उस दिन समाज ही खत्म हो जाएगा, जिस दिन नारी नहीं रहेगी पुरुष भी लुप्त हो जाएंगे। भारतीय संस्कृति में नारी ममता, करुणा, लक्ष्मी, क्षमा, दुर्गा और शक्ति का प्रतीक है। इसलिए उसकी पूजा होती है। जिस दिन नारी में करुणा, ममता, क्षमा, लक्ष्मी, दुर्गा और शक्ति के गुण खत्म हो जाएंगे समाज बहुत ज्यादा क्रूर और बर्बर हो जाएगा। ऐसा समाज बन जाएगा, जहां कोई सुरक्षित नहीं रहेगा।

विकास गुप्ता
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned