scriptsemination of Hindi and bad face of politics | Patrika Opinion: हिंदी का प्रसार और खराब राजनीति | Patrika News

Patrika Opinion: हिंदी का प्रसार और खराब राजनीति

जब भी हिंदी को देश की संपर्क भाषा बनाने की बात होती है, दूसरी भारतीय भाषाओं पर कथित अदृश्य खतरा मंडराने लगता है। इसका लाभ अंग्रेजी को मिल जाता है।

Published: April 29, 2022 08:21:47 pm

किसी का महिमामंडन हमेशा दूसरे का मानमर्दन नहीं होता। लेकिन, राजनीति में ऐसा हो सकता है। देश में दुर्भाग्य से हिंदी के प्रचार-प्रसार के मामले में कुछ ऐसा ही हो रहा है। जब भी हिंदी को देश की संपर्क भाषा बनाने की बात होती है, दूसरी भारतीय भाषाओं पर कथित अदृश्य खतरा मंडराने लगता है। इसका लाभ अंग्रेजी को मिल जाता है। हिंदी के मुकाबले अंग्रेजी को तरजीह देने वाले परोक्ष रूप से क्या यही नहीं बताना चाहते कि यदि भारत अंग्रेजों का गुलाम नहीं होता, तो विभिन्न भाषा-भाषी वाले राज्य आपस में संवाद ही नहीं कर पाते। किसी भी देश में संपर्क की एक भाषा तो होनी ही चाहिए। निश्चित तौर पर वह विदेशी भाषा नहीं हो सकती।
प्रतीकात्मक चित्र
प्रतीकात्मक चित्र
यह विषय एक बार फिर चर्चा में तब आया जब कन्नड़ अभिनेता किच्चा सुदीप ने ट्वीट किया कि 'भाषा के आधार पर राज्यों का बंटवारा हुआ था, इसलिए क्षेत्रीय भाषाओं को महत्त्व मिलना ही चाहिए।... हिंदी हमारी राष्ट्रीय भाषा नहीं है।' इसका जवाब बॉलीवुड अभिनेता अजय देवगन ने यह कह कर दिया कि 'हिंदी हमारी राष्ट्रीय भाषा थी, है और हमेशा रहेगी।' अजय हिंदी फिल्म उद्योग का हिस्सा हैं, तो सुदीप कन्नड़ फिल्म उद्योग का। इसलिए उनकी बात को उनके व्यापार का हिस्सा माना जा सकता है। लेकिन, हद तो तब हो गई जब कर्नाटक के मुख्यमंत्री बासवराज एस. बोम्मई इस विवाद में कूद पड़े। उन्होंने कहा कि 'सुदीप सच कह रहे हैं और सभी को उसका सम्मान करना चाहिए।' मुख्यमंत्री को इस विवाद में कूदने की कोई जरूरत नहीं थी। खासकर तब जबकि वह जिस भाजपा का हिस्सा हैं, उसकी नीति इस मामले में हमेशा से साफ रही है। यदि भारतीय जनता पार्टी के नेता भी हिंदी को राष्ट्रभाषा के रूप में प्रतिष्ठित नहीं होने देना चाहेंगे, तो पार्टी को निश्चित रूप से उनके बारे में सोचना चाहिए।
राज्यों का गठन भाषा के आधार पर जरूर हुआ है, लेकिन सुदीप का यह कहना उचित नहीं है कि क्षेत्रीय भाषाओं को हिंदी के कारण महत्त्व नहीं मिल पाया। सच तो यह है कि यदि कोई भाषा सभी भारतीय भाषाओं पर हावी होती जा रही है तो वह अंग्रेजी है। यह भी ध्यान रखना होगा कि हिंदी का प्रचार-प्रसार हम अहंकारी तरीके से नहीं कर सकते। भाषाएं अपनी उपयोगिता और विकास के प्रतिमानों को पार करते हुए आगे बढ़ती हैं, थोपने से नहीं। इसमें दो राय नहीं कि पूरे देश में हिंदी की स्वीकार्यता बढ़ाने में बॉलीवुड, खासकर इसके गीत-संगीत, का बड़ा योगदान है। अच्छा साहित्य विभिन्न भाषा-भाषियों को करीब ला सकता है, लेकिन खराब राजनीति उन्हें दूर कर सकती है। दुर्भाग्य से इन दिनों खराब राजनीति कुलांचे भर रही है। खमियाजा तो भुगतना ही पड़ेगा।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान में 26 से फिर होगी झमाझम बारिश, यहां बरसेगी मेहरबुध ने रोहिणी नक्षत्र में किया प्रवेश, 4 राशि वालों के लिए धन और उन्नति मिलने के बने योगबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयपनीर, चिकन और मटन से भी महंगी बिक रही प्रोटीन से भरपूर ये सब्जी, बढ़ाती है इम्यूनिटीबेहद शार्प माइंड के होते हैं इन राशियों के बच्चे, सीखने की होती है अद्भुत क्षमतानोएडा में पूर्व IPS के घर इनकम टैक्स की छापेमारी, बेसमेंट में मिले 600 लॉकर से इतनी रकम बरामदझगड़ते हुए नहर पर पहुंचा परिवार, पहले पिता और उसके बाद बेटा नहर में कूदा3 हजार करोड़ रुपए से जबलपुर बनेगा महानगर, ये हो रही तैयारी

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: शिंदे खेमे में आ चुके हैं सरकार बनाने भर के विधायक! फिर क्यों बीजेपी नहीं खोल रही अपने पत्ते?Maharashtra Political Crisis: ‘मातोश्री’ में मंथन! सड़क पर शिवसैनिकों के उपद्रव का डर, हाई अलर्ट पर मुंबई समेत राज्य के सभी पुलिस थानेMaharashtra Political Crisis: 24 घंटे के अंदर ही अपने बयान से पलट गए एकनाथ शिंदे, बोले- हमारे संपर्क में नहीं है कोई नेशनल पार्टीBharat NCAP: कार में यात्रियों की सेफ़्टी को लेकर नितिन गडकरी ने कर दिया ये बड़ा काम, जानिए क्या होगा इससे फायदा2-3 जुलाई को हैदराबाद में BJP की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक, पास वालों को ही मिलेगी इंट्री, सुरक्षा के कड़े इंतजामMumbai News Live Updates: शिवसेना ने कल पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक बुलाई, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से जुड़ेंगे उद्धव ठाकरेनीति आयोग के नए CEO होंगे परमेश्वरन अय्यर, 30 जून को अमिताभ कांत का खत्म हो रहा है कार्यकालCBSE ने बदला सिलेबस: छात्र अब नहीं पढ़ेगे फैज की कविता, इस्लाम और मुगल साम्राज्य सहित कई चैप्टर हटाए
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.