scriptSrilankan crisis is an alarm for autocrats | Patrika Opinion: निरंकुश शासकों के लिए खतरे की घंटी | Patrika News

Patrika Opinion: निरंकुश शासकों के लिए खतरे की घंटी

इसमें कोई शक नहीं कि लिट्टे जैसे संगठनों का सफाया लोकतांत्रिक मर्यादाओं का ध्यान रखते हुए नहीं किया जा सकता। पर यह भी उतना ही सच है कि चुनी हुई सरकारों को जब मूल्यों-मर्यादाओं की अनदेखी करने की आदत पड़ जाती है तो उनका व्यवहार 'निरंकुश राजा' जैसा हो जाता है।

Published: May 13, 2022 08:34:02 pm

अपनी अपार लोकप्रियता के कारण सत्ता पक्ष का लोकतंत्र को हल्के में लेना और उसके मूल्यों के प्रति हिकारत का भाव रखना किसी देश को कहां पहुंचा सकता है, इसका ताजा उदाहरण है श्रीलंका। मौजूदा हालात में यह जानना-समझना सबसे ज्यादा महत्त्वपूर्ण है कि श्रीलंका आर्थिक बर्बादी की वर्तमान हालत तक कैसे पहुंच गया। दुनिया के सबसे खतरनाक आतंकी संगठनों में शामिल लिट्टे का सफाया करने के कारण वहां की बहुसंख्यक आबादी के बीच महिंदा राजपक्षे की लोकप्रियता सातवें आसमान पर पहुंच गई थी। उनकी सरकार ने लिट्टे आतंकियों को बड़ी बेरहमी से मारा था। ऐसा करते समय हर तरह के कानूनों और मर्यादाओं को नजरअंदाज किया गया था।
प्रतीकात्मक चित्र
प्रतीकात्मक चित्र
इसमें कोई शक नहीं कि लिट्टे जैसे संगठनों का सफाया लोकतांत्रिक मर्यादाओं का ध्यान रखते हुए नहीं किया जा सकता। पर यह भी उतना ही सच है कि चुनी हुई सरकारों को जब मूल्यों-मर्यादाओं की अनदेखी करने की आदत पड़ जाती है तो उनका व्यवहार 'निरंकुश राजा' जैसा हो जाता है। फिर उनका सफाया करने के लिए शांतिप्रिय जनता को ही सड़कों पर उतरना पड़ता है। राजपक्षे के मनमाने फैसलों, सत्ता में परिवार की अवांछित भागीदारी व भ्रष्टाचार की पराकाष्ठा ने श्रीलंका को अस्थिर कर भारत की चिंता भी बढ़ा दी है।
पिछले कुछ समय से दुनिया के कई देशों में लोकतंत्र के प्रति हिकारत का भाव बढ़ा है। क्योंकि, सुविधासंपन्न तबका तेजी से चीजों को बदलते हुए देखना चाहता है और नियमों और सिद्धांतों को इसमें अड़चन के रूप में देखने लगता है। विकास के वर्तमान प्रतिमानों की समीक्षा करें तो कहा जा सकता है कि इसका रास्ता भ्रष्टाचार से होकर ही गुजरता है। हम पाते हैं कि भ्रष्टाचार पर अंकुश लगते ही विकास की गति भी ठहरने लगती है। तेज विकास का आग्रह अक्सर इस बात की चिंता नहीं करने देता कि इसका लाभ किसे मिलेगा और कौन ठगा जाएगा। भ्रष्टाचार में आकंठ डूबी राजपक्षे सरकार को चीन के हर प्रस्ताव में देश का तेज विकास ही दिखा था। लेकिन अंतत: हुआ क्या?
किसी देश की अर्थव्यवस्था सत्ताधारी दल की लाभ-हानि से नहीं, कठोर सांख्यिकीय आंकड़ों से निर्देशित होती है। इसका सम्मान करते हुए ही कोई देश आगे बढ़ सकता है। इसीलिए लोकतंत्र की मजबूती के लिए स्थापित संस्थाओं का भी काफी महत्त्व है। भले ही उनका फायदा सीधे-सीधे नजर न आता हो। श्रीलंका के हालात उन सभी देशों के लिए खतरे की घंटी हैं, जो तेज विकास के आग्रह से संचालित हैं और पिछले कुछ समय से अपने यहां लोकतंत्र और इसकी संस्थाओं में ह्रास महसूस कर रहे हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंऐसा होगा यूपी का पहला कृत्रिम समुद्र, यहां देखें तस्वीरें, मुफ्त मनोरंजन और रोजगार भीबनना चाहते थे फौजी, किस्‍मत ने बनाया क्रिकेटर, ऐसी है Delhi Capitals के मैच विनर की कहानीरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मतबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करेंकई संपत्ति के मालिक होते हैं इन 3 तारीखों में जन्मे लोग, होते हैं किस्मत वालेइन 4 बर्थ डेट वाली लड़कियां बनती हैं अच्छी पत्नी, चमका देती हैं पति की तकदीरजबरदस्त डिमांड के चलते 17 महीनों तक पहुंचा Kia की इस 7-सीटर कार का वेटिंग! कम कीमत में Innova को देती है टक्कर

बड़ी खबरें

कटरा से जम्मू जा रही बस में लगी आग, 4 लोगों की मौत, 20 यात्री झुलसेInflation in States : पश्चिम बंगाल में सबसे अधिक महंगाई, राजस्थान भी देश के 10 सबसे महंगे राज्यों मेंपंजाब DGP ने खोला मोहाली हमले का राज, कनाडा में बैठे मास्टरमाइंड ने ISI की मदद से करवाया ब्लास्टतमिलनाडु के मंत्री का विवादित भाषण, 'हिंदी बोलने वाले कोयंबटूर में पानी पूरी बेचते हैं'Congress Chintan Shivir 2022 : सोनिया गांधी ने कहा, अपनी नाकामयाबियों से बेखबर नहीं हैं, पार्टी को उसी भूमिका में लाएंगे जो सदैव निभाई हैजेपी नड्डा का कांग्रेस पर करारा हमला, बोले- यह सिर्फ भाई-बहन की पार्टी, राजस्थान में रेप हो तो साध लेते है चुप्पीअरबाज के बाद सलमान खान के दूसरे भाई भी ले रहे तलाक, शादी के 24 साल बाद अलग होंगे सोहेल खान और सीमा सचदेव खानNFHS 5 Survey : औरतें ही नहीं हर 10वां पुरुष भी वैवाहिक हिंसा का शिकार, पत्नी ज्यादा पढ़ी तो हिंसा की आशंका ज्यादा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.