scriptStates should follow the footsteps of Center on fuel prices | Patrika Opinion: ईंधन पर केन्द्र के कदमों का अनुसरण करें राज्य | Patrika News

Patrika Opinion: ईंधन पर केन्द्र के कदमों का अनुसरण करें राज्य

दरअसल, पिछले साल नवंबर में जब केन्द्र ने पेट्रोल-डीजल पर उत्पाद शुल्क घटाया था, तब कुछ राज्यों ने अपनी वित्तीय हालत का हवाला देकर वैट घटाने में असमर्थता जताई थी। इसीलिए इस बार वित्त मंत्री को कहना पड़ा कि नवंबर 2021 में वैट नहीं घटाने वाले राज्यों को भी इस पर गंभीरता से विचार करना चाहिए।

Published: May 23, 2022 09:16:52 pm

आसमान छूती महंगाई के बीच पेट्रोल-डीजल पर उत्पाद शुल्क में कटौती कर केन्द्र सरकार ने जनता को बड़ी राहत दी है। मुद्रास्फीति की बढ़ती दर ने तमाम दुनिया को चिंता में डाल रखा है। ऐसे में ईंधन की कीमतों को नियंत्रित करने के लिए केन्द्र का यह फैसला कम महत्त्वपूर्ण नहीं है। इसके दूरगामी परिणाम होंगे। त्वरित परिणाम तो सामने आने भी लगे हैं। उत्पाद शुल्क में कटौती के केन्द्र के कदम का अनुसरण करते हुए केरल, राजस्थान और महाराष्ट्र ने पेट्रोल-डीजल पर वैट घटाने की घोषणा कर दी है। यानी इन राज्यों की जनता को ईंधन की कीमतों पर दोहरी राहत मिली है।
प्रतीकात्मक चित्र
प्रतीकात्मक चित्र
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने उत्पाद शुल्क में कटौती की घोषणा के बाद राज्यों से अपील की कि वे भी वैट घटाकर जनता को राहत दें। राज्यों के लिए वैट संवेदनशील मुद्दा है। इस पर राजनीति भी खूब होती रही है। कुछ अर्सा पहले मुख्यमंत्रियों के सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राज्यों को पेट्रोल-डीजल पर वैट घटाने की सलाह दी थी, तब भी राजनीति गरमाई थी। कुछ राज्यों ने वैट घटाने के बजाय केन्द्र से उत्पाद शुल्क घटाने की मांग उठाई थी। केन्द्र ने अब उत्पाद शुल्क घटाकर गेंद उनके पाले में डाल दी है।
दरअसल, पिछले साल नवंबर में जब केन्द्र ने पेट्रोल-डीजल पर उत्पाद शुल्क घटाया था, तब कुछ राज्यों ने अपनी वित्तीय हालत का हवाला देकर वैट घटाने में असमर्थता जताई थी। इसीलिए इस बार वित्त मंत्री को कहना पड़ा कि नवंबर 2021 में वैट नहीं घटाने वाले राज्यों को भी इस पर गंभीरता से विचार करना चाहिए। महंगाई के गणित में ईंधन की कीमतों की बड़ी भूमिका है। ईंधन की कीमतें बढऩे से ढुलाई महंगी हो जाती है, उत्पादन लागत पर सीधे असर पड़ता है। उपभोक्ता तक पहुंचते-पहुंचते चीजों के दाम कई गुना बढ़ जाते हैं।
ईंधन की कीमतों के कारण शहरों के मुकाबले ग्रामीण इलाकों में महंगाई ज्यादा तेजी से बढ़ी है, क्योंकि वहां पानी के पम्प, ट्रैक्टर आदि के लिए डीजल पर निर्भरता ज्यादा है। महंगे डीजल से कृषि उत्पादों की लागत भी बढ़ी है। ढुलाई के अलावा अनाज व सब्जियों की कीमतें बढ़ने का यह भी एक कारण है। ग्रामीण इलाकों को सस्ता डीजल मुहैया कराना सभी राज्यों की प्राथमिकता होनी चाहिए। ईंधन की कीमतों को नीचे लाना इसलिए भी जरूरी है कि कोरोना काल में कई लोग रोजगार गंवा चुके हैं। केन्द्र के मुताबिक, देश के 80 करोड़ लोगों को मुफ्त राशन मुहैया कराया जा रहा है। जाहिर है, इस आबादी के पास रोजगार के पर्याप्त साधन नहीं हैं। ऐसे में महंगाई पर अंकुश की किसी भी कोशिश में 'किंतु-परंतु' की गुंजाइश नहीं होनी चाहिए।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

PM Modi In Telangana: 6 महीने में तीसरी बार तेलंगाना के CM केसीआर ने एयरपोर्ट पर PM मोदी को नहीं किया रिसीवMaharashtra Politics: संजय राउत का बड़ा दावा, कहा-मुझे भी गुवाहाटी जाने का प्रस्ताव मिला था; बताया क्यों नहीं गएक्या कैप्टन अमरिंदर सिंह बीजेपी में होने वाले हैं शामिल?कानपुर में भी उदयपुर घटना जैसी धमकी, केंद्रीय मंत्री और साक्षी महाराज समेत इन साध्वी नेताओं पर निशानाउदयपुर हत्याकांड के दरिदों को लेकर आई चौंकाने वाली खबरपाकिस्तान में चुनावी पोस्टर में दिख रहीं सिद्धू मूसेवाला की तस्वीरें, जानिए क्या है पूरा मामला500 रुपए के नोट पर RBI ने बैंकों को दिए ये अहम निर्देश, जानिए क्या होता है फिट और अनफिट नोटनूपुर शर्मा के समर्थन में पोस्ट लिखने पर अमरावती में दुकान मालिक की हुई हत्या!
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.