scriptThe power to bind the whole country in one thread is only in Hindi | पूरे देश को एक सूत्र में बांधने की ताकत हिंदी में ही | Patrika News

पूरे देश को एक सूत्र में बांधने की ताकत हिंदी में ही

14 सितंबर: हिंदी दिवस विशेष
अनूदित ज्ञान मर्म को छू नहीं सकता, न ही हममें राष्ट्रीय स्वाभिमान की जोत जगा सकता है।

Published: September 14, 2022 09:10:12 pm

महीपाल सिंह राठौड़
एसोसिएट प्रोफेसर, हिन्दी विभाग, जयनारायण व्यास विश्वविद्यालय, जोधपुर
.......................................................................................................

विदेशी भाषा में शिक्षा पाने से हमारा स्वतंत्र चिंतन कुण्ठित हो गया है। समूचे राष्ट्र के सांस्कृतिक अभ्युत्थान के लिए आवश्यक है कि हम अपनी भाषाओं को समृद्ध करें। प्रेमचंद का विचार था कि हम भारतीय भाषा के विचार में भी अंग्रेजी के इतने दास हो गए हैं कि अन्य अति धनी तथा सुन्दर भाषाओं का हमें कभी ध्यान नहीं आता।
14 सितंबर: हिंदी दिवस विशेष
14 सितंबर: हिंदी दिवस विशेष
राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर हिंदी की प्रगति के पक्षधर थे। हिंदी भाषा का यह जागरण कोई आकस्मिक घटना नहीं है। इस जागरण का स्वप्न केशवचन्द्र और विवेकानन्द ने देखा था। यह जागरण दयानंद और तिलक की कल्पना में साकार हुआ था तथा उसकी सारी रूपरेखाएं महात्मा गांधी को ज्ञात थीं। जनता को उसकी भाषा नहीं मिली तो शासन इस देश पर जनता का नहीं, बल्कि उन मु_ी भर लोगों का चलता रहेगा जो आज भी अपने बच्चों को अंग्रेजी की अच्छी शिक्षा दिलवा सकते हैं और जो वोट जनता की भाषा में मांगते हैं और नोट अंग्रेजी में लिखते हैं।
गांधी हिंदी पढ़ाना इसलिए आवश्यक मानते थे क्योंकि अपनी भाषा के ज्ञान के बिना कोई सच्चा देशभक्त बन ही नहीं सकता। उनका मत था- मातृभाषा के ज्ञान के बिना हमारे विचार विकृत हो जाते हैं और हृदय से मातृभूमि का स्नेह जाता रहता है। भारत के साहित्य और धर्मों को विदेशी भाषा के माध्यम से कभी नहीं समझा जा सकता। उपनिवेश में उत्पन्न हुए अपने नव-युवकों की तीव्र बुद्धि की भूरि-भूरि प्रशंसा करते हुए भी हमें उनमें इस वस्तु की कमी दिखाई देती है कि उन्हें वास्तविक भारतीय विचार, इतिहास और साहित्य का ज्ञान नहीं होता।
यदि विज्ञान की शिक्षा केवल अंग्रेजी में दी जाएगी तो विज्ञान उन्हीं लोगों तक सीमित रह जाएगा जो उसका अध्ययन करेंगे। इसके विपरीत यदि विज्ञान हिंदी के माध्यम से पढ़ाया जाएगा तो विज्ञान के संस्कार सारी जनता में फैल जाएंगे। ‘प्रत्येक के लिए अपनी मातृभाषा और सबके लिए हिंदी’ इस नक्शे के साफ हो जाने से प्रत्येक भाषा क्षेत्र में आशा और उत्साह का संचार होने लगा है जो हमारे शुभोदय का संकेत है।
भारतीय संविधान में भी हिंदी के साथ-साथ प्रादेशिक भाषाओं को स्थान दिया गया है। संविधान का अनुच्छेद 345 राज्य की राजभाषा/राजभाषाएं (प्रादेशिक भाषाएं) व अनुच्छेद 350 भाषायी अल्पसंख्यकों की सुविधाओं पर ध्यान देता है। अनुच्छेद 350 में ही प्रावधान किया गया है कि प्रत्येक राज्य और राज्य के भीतर प्रत्येक स्थानीय प्राधिकारी भाषायी अल्पसंख्यक वर्गों के बालकों को शिक्षा के प्राथमिक स्तर पर मातृभाषा में शिक्षा की पर्याप्त सुविधाओं की व्यवस्था करने का प्रयास करेगा और राष्ट्रपति किसी राज्य को ऐसे निर्देश दे सकेगा जो वह ऐसी सुविधाओं का उपबंध सुनिश्चित कराने के लिए आवश्यक या उचित समझता है।
हमें इस बात को स्वीकारना चाहिए कि मातृभाषा का रिश्ता धरती से है। व्यक्ति जिस भौगोलिक परिवेश में पैदा होता है वही भूगोल मातृभाषा का आधार बनता है।
हिंदी में अध्ययन, अध्यापन व शोध होने से हमारा जुड़ाव जड़ों से होगा। अनूदित ज्ञान मर्म को छू नहीं सकता, न ही हममें राष्ट्रीय स्वाभिमान की जोत जगा सकता है। हिंदी हमारी संस्कृति, साहित्य, रीति-रिवाज, परम्पराओं व सदियों से चले आ रहे ज्ञान को प्रवाहित करने वाली अविरल धारा है। विदेशी भाषा से हमें परहेज नहीं है पर उनका हमारे मानस पर हावी होना हमारे लिए एक भाषायी हमले की तरह है।
किसी एक भाषा का रचनाकार समूचे राष्ट्र की धरोहर हो सकता है। गांधी, टैगोर और मोटुरि सत्यनारायण ने इस बात को समझा और उन्होंने हिंदी भाषा को महत्त्व दिया। हिंदी सारे देश की भाषा है। गांधी जब अंग्रेजी की जगह अपने देश की एक भाषा खोजने लगे, तो हिंदी की तरफ उनका ध्यान इसलिए गया क्योंकि हिंदी में उन्होंने जोडऩे की ताकत देखी। निज भाषा की उन्नति के बिना हमारी प्रगति संभव नहीं है। हिंदी के शब्दों को विश्व समुदाय ने भी स्वीकारा है। आज हिंदी विश्व की लोकप्रिय भाषाओं में से एक है।

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

Swachh Survekshan 2022: लगातार छठी बार देश का सबसे साफ शहर बना इंदौर, सूरत दूसरे तो मुंबई तीसरे स्थान परअब 2.5 रुपये/किलोमीटर से ज्यादा दीजिए सिर्फ रोड का टोल! नए रेट लागूकांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए KN त्रिपाठी का नामांकन पत्र रद्द, मल्लिकार्जुन खड़गे और शशि थरूर में मुकाबला41 साल के शख्स को 142 साल की जेल, केरल की अदालत ने इस अपराध में सुनाई यह सजाBihar News: बिहार में और सख्त होगी शराबबंदी, पहली बार शराब पीते पकड़े गए तो घर पर चस्पा होंगे पोस्टर, दूसरी और तीसरी बार में मिलेगी ये सजास्वच्छता अभियान 2022 शुरू, 100 लाख किलो प्लास्टिक जमा करने का लक्ष्यसैनिटरी पैड के लिए IAS से भिड़ने वाली बिहार की लड़की को मुफ्त मिलेगा पैड, पढ़ाई का खर्च भी शून्यएयरपोर्ट पर 'राम' को देख भावुक हो गई बुजुर्ग महिला, छूने लगी अरुण गोविल के पैर, आस्था देख छलके आंसू
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.