scriptThis is just a turning point for Bollywood | Art and Culture: यह बस इक अंगड़ाई है, जीतनी बड़ी लड़ाई है | Patrika News

Art and Culture: यह बस इक अंगड़ाई है, जीतनी बड़ी लड़ाई है

आर्ट एंड कल्चर: बॉलीवुड फिसला है, संभला है मगर अब खेल संभलने का उतना आसान नहीं रह गया है

Published: March 05, 2022 01:11:00 pm

सुशील गोस्वामी
(सदस्य, सीबीएफसी)

एक है बॉलीवुड। एक सौ नौ सालों से जिंदगी की रगों में बहता हुआ। अपनी कथा-कहानियों से आम और खास को हंसाता-रुलाता, बहलाता, भिगोता, भटकाता, कहता हुआ। अपने संवादों से आमजन की अभिव्यक्तियों को आसानियां पहनाता हुआ। अपने नगमों से पर्व-तीज-त्योहारों पर, या यों ही-से दिनों पर परिचित-अनाम रंगों के मुलम्मे चढ़ाता हुआ।
कौन है जो बॉलीवुड के तिलिस्म में बंध थिएटर के अंधेरों में कभी फफक कर रोया न हो या ठठा कर हंसा न हो? अब अचानक, इसी बॉलीवुड पे नजरें तरेरी गई हैं, आंखें फेरी गई हैं। पाश्र्व में चलते साउथ को पलकों में बिठाया जा रहा। हर तरफ 'झुकेगा नईं' का एक अल्हड़ मौसम आया है जिसके बादल नभ से रीत नहीं रहे।
साउथ के विशुद्ध मसाले का देश से विदेशों तक ऐसा स्वाद चढ़ा है कि बॉलीवुड फीका बताया जाने लगा है। कहानियां घिसी लगने लगी हैं व बासी नायकों के मैनरिज्म चुक चुके मालूम होने लगे हैं। साउथ सिर चढ़ कर ऐन उस वक्त बोला है जब कोरोना-काल और लक्ष्मी बम, बेल बॉटम, गहराइयां सरीखे निहायत चलताऊ ओटीटी प्रदर्शनों ने मिलजुल कर बॉलीवुड के उत्साह व ऊर्जा को पस्त कर डाला है।
मगर रुकिए जरा। अभी-अभी, एक अच्छे-खासे वर्किंग डे की बीच दुपहर दिल्ली के कनॉट प्लेस स्थित एक सिनेमाघर को खचाखच भरा पाया गया है। जुनूनी दिग्दर्शक संजय लीला भंसाली अपने रंग, अपनी खुशबू अपने ही अलहदा आसमान में भरे लौटे हैं - बॉलीवुड की इज्जत लौटाते हुए, आस जगाते हुए, नई पेशकश 'गंगूबाई काठियावाड़ी' के साथ।
बॉलीवुड के वैभव, दमखम, जादू को वापसी के लिए मचलता देखना है, तो बड़े पर्दे हो आइए- संजय लीला के इस धूसर-सफेद रंगों के मेलोड्रामा को निहारने के लिए। जैसे अमिताभ बच्चन ने हमेशा, चाहे जैसा दृश्य हो, पूरी श्रद्धा व प्रतिबद्धता से निभाया है, संजय लीला भी तयशुदा स्क्रिप्ट पर पूरी प्रतिबद्धता उड़ेल देते हैं। सौ फीसदी आत्मविश्वास उनके दृश्य-दृश्य में नुमायां रहता है। आलिया की उम्र और जरूरत से अधिक परिपक्व अभिव्यक्ति का अंतर खलता है, नेहरू से बात करने का अंदाज अखरता है, उसके किरदार की बातों का हर दफा वन-साइडेड असर चुभता है, पर भंसाली का उजाला इतना चमकीला है कि तमाम अंधेरे ढंके से मालूम होते हैं।
भंसाली एक बहाना हैं। बॉलीवुड ने कच्ची गोलियां नहीं खेली हैं। वह फिसला है, वह संभला है। मगर अब खेल संभलने का उतना आसान नहीं रह गया है। सिनेमा के दायरे व दर्शक की उम्मीदों में बहुत-बहुत इजाफा हो चुका है। दर्शक तब ही सिनेमाघर की ओर खिंचेगा जब उसके ढाई घंटों, दो-चार सौ रुपयों का रिटर्न मंत्रमुग्ध, किंकत्र्तव्यविमूढ़ कर देने वाला होगा। हॉलीवुड या रीजनल सिनेमा हिंदी में अवतार लेते देर नहीं लगाता अब। भाषा, स्थान की दीवारें ध्वस्त हैं सो अब संभलने का अर्थ है चौतरफा दुरुस्ती। फिर सदी-भर पुरानी साख भी है। झुंड, पठान, जर्सी, विक्रम वेधा, लाल सिंह चड्ढा, टाइगर और बहुत कुछ है जो उम्मीद की लौ जलाए हुए है।
Art and Culture: यह बस इक अंगड़ाई है, जीतनी बड़ी लड़ाई है
Art and Culture: यह बस इक अंगड़ाई है, जीतनी बड़ी लड़ाई है

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

ज्ञानवापी सर्वे रिपोर्ट से मंदिर-मस्जिद के सबूतों का नया अध्याय, एक्सक्लूसिव रिपोर्ट सिर्फ पत्रिका के पास, जानें क्या है इन सर्वे रिपोर्ट में...Gyanvapi Masjid-Shringar Gauri Case: सुप्रीम कोर्ट में 20 मई और वाराणसी सिविल कोर्ट में 23 मई को होगी सुनवाईदिल्ली हाई कोर्ट से AAP सरकार को झटका, डोर स्टेप राशन डिलीवरी योजना पर लगाई रोकसुप्रीम कोर्ट का फैसला: रोड रेज केस में Navjot Singh Sidhu को एक साल जेल की सजा, जानें कांग्रेस नेता ने क्या दी प्रतिक्रियाGST पर सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, जीएसटी काउंसिल की सिफारिश मानने के लिए बाध्य नहीं सरकारेंIPL 2022 RCB vs GT live Updates: गुजरात ने टॉस जीतकर बल्लेबाजी करने का फैसलापंजाब कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सुनील जाखड़ BJP में शामिल, दिल्ली में जेपी नड्डा ने दिलाई पार्टी की सदस्यतासुप्रीम कोर्ट द्वारा साइरस मिस्त्री की पुनर्विचार याचिका खारिज पर रतन टाटा ने क्या कहा?
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.