scriptTravelogue Salzburg Criskindl Market to celebrate Jesus arrival | ट्रैवलॉग: बालक यीशु के आगमन उत्सव का 'साल्जबर्ग क्रिसकिंडल मार्केट' | Patrika News

ट्रैवलॉग: बालक यीशु के आगमन उत्सव का 'साल्जबर्ग क्रिसकिंडल मार्केट'

ट्रैवलॉग: अपनी दुनिया - पिछले साल पहली बार साल्जबर्ग क्रिसकिंडल मार्केट नहीं लगा। इस बार शुरुआत हुई है, पर कई नियम-कायदों और इस शर्त के साथ कि नियम कभी भी बदल सकते हैं। साल्जबर्ग का मार्केट वियना से बहुत अलग है और छोटा भी, पर यही पूरे यूरोप की खासियत भी है।

नई दिल्ली

Published: December 07, 2021 01:42:39 pm

नई दिल्ली। नवम्बर के आखिर में मुझे यूरोप का क्रिसमस बहुत याद आता है। वहां का हर देश, उसके शहर-गांव अपने-अपने अंदाज में हफ्तों पहले क्रिसमस मनाने में जुट जाते हैं। मैंने पहली बार यूरोप के क्रिसमस को साल्जबर्ग में पढ़ाई के दौरान देखा था, पर हमारा इंस्टिट्यूट शहर से दूर था। कड़ाके की सर्दी में पुराने शहर में एक दो बार ही जा पाई थी, वो भी थोड़ी देर के लिए। हां, जो कुछ देखा था उसका असर इतना गहरा था कि तय कर लिया था एक बार जरूर न केवल साल्जबर्ग, बल्कि वियना और ऑस्ट्रिया के उन इलाकों की यात्रा जरूर करूंगी जहां के क्रिसमस के बाजार विश्वभर से पर्यटकों को आकर्षित कर रहे थे। उस सपने को साकार करने की योजना अभी कुछ सालों पहले मेरी तरह यात्रा का शौक रखने वाली अमरीका में रहने वाली बहन डॉक्टर दीपा के साथ बनाई। क्रिसमस नजदीक आते ही उस यात्रा का जिक्र बातों में आ ही जाता है।
685.jpg
इस बार भी शिकागो के मिशिगन स्क्वायर में क्रिसमस के बाजार में घूमते हुए मुझे फोन कर के कहा, 'बहुत सजा है, पर यूरोप की बात अलग है... फिर चलेंगे!'

यह भी पढ़ेंः Patrika Opinion : जरूरत के मुताबिक ही हो सेना पर निर्भरता

तब हम ज्यूरिख में मिले थे और शुरुआत साल्जबर्ग से की थी। हम पुराने शहर के करीब ठहरे थे ताकि पैदल घूम सकें। वो शहर जो विश्व धरोहर भी है और परीलोक-सा लगता है। एक-एक इमारत, तंग गलियां और उन तंग गलियों की हर दुकान पर लगा पुराने ढंग का उसके नाम का बोर्ड! शहर में आप पैदल, साइकल और घोडा गाड़ी से ही घूम सकते हैं। पुराना परकोटा जहां शुरू होता है, वहां तक आप गाड़ी या ट्राम से जा सकते हैं और वहां के लोग अपने शहर का ये रूप बनाए रखने में पूरा सहयोग देते हैं।
बालक यीशु के क्रिसकिंडल बाजार के बारे में बात करूं तो पुराने किले के नीचे चर्च के सामने डोम प्लात्स में लगने वाले इस बाजार का इतिहास पंद्रहवी शताब्दी में ले जाता है पर तब इसका नाम टाण्डल मार्केट था। बाजार में लोग हाथ से बनाए हुए सामान को बेच कर वैसे ही परिवार के साथ क्रिसमस मनाते हैं, जैसे भारत में कुछ लोग दिवाली मनाते हैं।
सत्रहवीं शताब्दी में इसका नाम निकोलाई मार्केट हो गया। संत निकोलस की मृत्यु 6 दिसम्बर को हुई थी। उससे दो रविवार पहले और दो रविवार आगे तक का समय यीशु के आगमन उत्सव या एडवेंट उत्सव के रूप में मनाया जाता है। क्रिसकिंडल मार्केट की स्थापना 1974 में हुई थी, पर आज यह दुनिया भर से लाखों लोगों को खींच लाता है।
बाजार में लकड़ी के झोंपड़ीनुमा ठेले बनाए जाते हैं, जिनमें हाथ की बनी चीजें बिकतीं हैं। हाथ से बने होने की मुहर भी लगाई जाती है। इनमें खिलौने, क्रिसमस की सजावट के सामान के साथ गरमागरम डबलरोटी, भुने हुए बादाम व मेवे भी रहते हैं।
यह भी पढ़ेँः आपकी बात, क्या कोरोना टीके को पेटेंट से मुक्त करना जरूरी है?

सर्दी में गर्माहट पाने के लिए कड़ाही के आकार के बर्तनों में वाइन को दालचीनी व कई मसाले मिला चाय की तरह उबाल कर जूते के आकार के कपों में पेश किया जाता है जो कि ग्लूवाइन कहलाती है। पहली बार पिछले साल ये बाजार नहीं लगा।
इस बार शुरुआत हुई है, पर कई नियम-कायदों और इस शर्त के साथ कि नियम कभी भी बदल सकते हैं। साल्जबर्ग का मार्केट वियना से बहुत अलग है और छोटा भी, पर यही पूरे यूरोप की खासियत भी है।
तृप्ति पाण्डेय
(पर्यटन एवं संस्कृति विशेषज्ञ)

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Video Weather News: कल से प्रदेश में पूरी तरह से सक्रिय होगा पश्चिमी विक्षोभ, होगी बारिशVIDEO: राजस्थान में 24 घंटे के भीतर बारिश का दौर शुरू, शनिवार को 16 जिलों में बारिश, 5 में ओलावृष्टिदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगश्री गणेश से जुड़ा उपाय : जो बनाता है धन लाभ का योग! बस ये एक कार्य करेगा आपकी रुकावटें दूर और दिलाएगा सफलता!पाकिस्तान से राजस्थान में हो रहा गंदा धंधाइन 4 राशि वाले लड़कों की सबसे ज्यादा दीवानी होती हैं लड़कियां, पत्नी के दिल पर करते हैं राजहार्दिक पांड्या ने चुनी ऑलटाइम IPL XI, रोहित शर्मा की जगह इसे बनाया कप्तानName Astrology: अपने लव पार्टनर के लिए बेहद लकी मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां

बड़ी खबरें

Mizoram Earthquake: मिजोरम में महसूस किए गए भूकंप के झटके, रिक्टर पैमाने पर रही 5.6 तीव्रताराष्ट्रीय युद्ध स्मारक में विलय की गई अमर जवान ज्योति की लौ; देखें VIDEO'हिजाब' पर कर्नाटक के शिक्षा मंत्री के बयान पर बवाल! जानिए क्या है पूरा मामलापंजाब विधानसभा चुनाव के लिए बीजेपी ने जारी की पहली लिस्ट, 34 उम्मीदवारों को दिया टिकटदिल्ली उपराज्यपाल ने आप सरकार के प्रस्ताव को किया खारिज, वीकेंड कर्फ्यू हाटने और प्रतिबंधों में ढील से इनकारBJP की दूसरी लिस्ट जारी: 85 प्रत्याशियों में 15 महिलाएं, अदिति सिंह रायबरेली, रामवीर उपाध्याय को सादाबाद से टिकट, IPS असीम को मिला कन्नौजकोरोना की रफ्तार से ऑफलाइन हो सकती है 12वीं-10वीं की बोर्ड परीक्षा! CGBSE ने की ये तैयारीBHU के रजत जयंती से जुड़ी गांधी की स्मृतियों को NSUI ने किया याद
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.