ट्रंप से उम्मीदें

तोडोनाल्ड ट्रम्प तोडोनाल्ड ट्रम्प आज की तारीख में दुनिया के सबसे ताकतवर माने जाने वाले अमरीका के

By: मुकेश शर्मा

Published: 09 Nov 2016, 11:31 PM IST

तोडोनाल्ड ट्रम्प आज की तारीख में दुनिया के सबसे ताकतवर माने जाने वाले अमरीका के राष्ट्रपति बन ही गए। दो साल लम्बे चुनाव अभियान में भारतीय चुनावों से भी ज्यादा गंदगी दिखने के बाद उनका हिलेरी क्लिंटन को परास्त करना, सपने जैसा नहीं तो उससे कम भी नहीं है। जिस व्यक्ति का सक्रिय राजनीति से दूर-दूर तक का कोई नाता न हो, जिसे रिपब्लिकन पार्टी का टिकट हासिल करने में खासी मुश्किलों का सामना करना पड़ा हो।


 जिसे चुनाव मैदान में डेमोक्रेटिक पार्टी की हिलेरी क्लिंटन जैसी उस ताकतवर उम्मीदवार से भिडऩा पड़ा हो जो पिछले कम से कम तीन दशकों से अमरीका की राजनीति पर छाई हुई थी। उसे हराना और वह भी तब जब तमाम नामी-गिरामी सर्वे ट्रंप को हरा रहे थे, वाकई आश्चर्यजनक बात है। चुनाव अभियान में क्या नहीं हुआ। दोनों उम्मीदवारों ने एक-दूसरे की फजीहत की। सबसे ज्यादा ट्रम्प की हुई, फिर भी ट्रम्प जीते हैं तो यह मानना चाहिए कि अमरीकी जनता राजनेताओं से, उनके चुनावी वादों से ऊब गई थी।


भले ट्रम्प पर चारित्रिक आरोप खूब लगे लेकिन जिस तरह से उनको समर्थन मिला है, उससे नहीं लगता कि वहां की आबादी में 51 प्रतिशत हिस्सेदारी रखने वाली महिलाओं पर उसका कोई असर हुआ।  वे तो ट्रंप के पक्ष में और ज्यादा लामबंद हो गई ।यही हाल युवाओं का भी लगा।


वे शायद मंदी के दौर में अपने लिए घटते रोजगार के अवसरों से दुखी थे। मुस्लिम आतंकवाद पर ट्रम्प का आक्रामक नजरिया तो अमरीकी ही नहीं, शांति पसंद करने वाले तमाम विश्व को अच्छा लग रहा था। चुनाव अभियान जैसा रहा हो, जीत के जुलूस में ट्रम्प ने जो कहा, वह सधे राजनेता की तरह था। उम्मीद की जानी चाहिए कि वह अमरीकियों ही नहीं, तमाम विश्व की अपेक्षाओं पर खरे उतरेंगे। भारत तो उनसे अपने मुद्दों पर समर्थन की अपेक्षा रखेगा ही वैसे ही जैसे ओबामा दे रहे थे।
मुकेश शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned