scriptTurtuk village unmatched in beauty | खूबसूरती में बेमिसाल तुरतुक गांव | Patrika News

खूबसूरती में बेमिसाल तुरतुक गांव

वाकई तुरतुक अपने आप में कुदरत की सौगात है, वहां उसकी अपनी रूह के लिए पहुंचना चाहिए, ना कि स्विट्जरलैंड याद करने के लिए।

Published: June 28, 2022 07:56:16 pm

तृप्ति पांडेय
पर्यटन और संस्कृति विशेषज्ञ

मैंने कभी इस गांव के बारे में न पढ़ा था और न ही सुना था। अपनी लद्दाख की दूसरी यात्रा के दौरान नूब्रा में पड़ाव के दौरान मैंने अपने गाइड से कहा कि कोई ऐसी जगह ले जाए, जो उन जगहों में शामिल न हो, जहां आमतौर पर पर्यटक जाते हैं। गाइड बोला कि वह मुझे एक ऐसे गांव ले जा सकता है, जिसकी सुंदरता स्विट्जरलैंड को भी टक्कर देती है और वहां बहुत कम ही लोग जाते है और विदेशियों को तो वहां जाने के लिए अनुमति लेनी होती है। खैर, गाइड साहब ने तो स्विट्जरलैंड नहीं देखा था, पर उनका विश्वास गजब का था। यह जानने के बाद भी कि यात्रा में आठ घंटे आने-जाने में लगेंगे, मेरा यायावर मन वहां जाने का निर्णय ले चुका था। हम बहुत सवेरे ही निकल पड़े। रास्ता ऊबड़-खाबड़ भी था, पर बेहद खूबसूरत। जब हरियाली, बड़े पेड़ और नीचे तैरते बादल दूर से अचानक नजर आते, तो गाइड चुप्पी तोड़ कर पूछता, क्यों मैडम, है ना हमारा तुरतुक स्विट्जरलैंड से ज्यादा खूबसूरत? अचानक हरियाली से घिरा वह गांव भी आ जाता है।
इस छोटे से गांव का थोड़ा इधर, थोड़ा उधर होने का इतिहास हमें सन् उन्नीस सौ इकहत्तर के दिसम्बर महीने में ले जाता है, जब आठ से चौदह तारीख़ तक तुरतुक का वह युद्ध लड़ा गया था, जिसमें भारतीय सेना ने तुरतुक के इधर वाले हिस्से को अपने अधिकार में वापस ले लिया था, पर आधा हिस्सा अब भी पाक अधिकृत कश्मीर में है। तुरतुक बाल्टिस्तान क्षेत्र में है, जो कभी एक स्वतंत्र राज्य हुआ करता था। वहां अलग जनजातियों और वंशों ने राज किया, जिनमें से प्रमुख रहा यागबू जो मध्य एशिया से आया और लगभग एक हजार साल तक राज किया।
गौरतलब है कि एक समय में ये पूरा इलाका सिल्क रूट का महत्त्वपूर्ण हिस्सा और बौद्ध धर्म का प्रमुख केंद्र हुआ करता था। इस्लाम यहां ईरान के सूफी प्रचारक सैयद अली शाह हमदानी के साथ आया। आज भी यहां के कई लोग नूरबकशिया संप्रदाय से जुड़े हैं, जबकि शिया और सुन्नी विचारधारा के कारण परिवर्तन उन्नीसवीं सदी से हुआ। अठारह सौ चौंतीस मैं महाराजा गुलाब सिंह ने इसे अपने अधिकार में लिया।
इतना सब इतिहास कुछ गाइड से तो तुरतुक के राजा याबगोमोहम्मद खान काचो से जाना। राजा तो कभी हुआ करते थे, पर अब वो उस पूर्व राज परिवार के वशंज हैं, जिसने कभी शान-शौकत से भरपूर समय देखा था। उनका निवास जो नाम भर के लिए राजमहल कहलाता है और वही हाल उनके संग्रहालय का है। हां, उस तीन सौ के करीब घर और चार हजार की आबादी वाले गांव में उनका घर ऊंचाई पर है, बस उतनी से शान जो दिखती है। बाकी उनकी बोली और आंखों से झलकती है, जो गुजरे जमाने की दास्तां सुना रही थीं।
मैं वहां के छोटे बच्चों के गोरे चेहरे और उनकी भूरी आंखें अब भी नहीं भूल पाती। इन्हीं दिनों की बात थी, जब मैं वहां गई थी। चूंकि कुछ साल बीत गए और महामारी कोविड की मार भी रही, तो सोचा कि राजा जी के बारे में लिखने से पहले उनके हाल तो जान लूं। नेट पर बड़ी तलाश के बाद में जिसका नंबर हाथ में आया वह बोला कि 'मैडम राजा तो सोशल मीडिया ने बना रखा है, वैसे वे ठीक हैंÓ। जिस आदमी से बात हुई, उसका जन्म भारत के तुरतुक गांव में उन्नीस सौ चौरासी में हुआ था। इसलिए उसे यह सब कहानी लगती होगी, पर भले ही मीडिया ने ही बनाया हो, वह राजा तो हैं ही। वाकई तुरतुक अपने आप में कुदरत की सौगात है, वहां उसकी अपनी रूह के लिए पहुंचना चाहिए, ना कि स्विट्जरलैंड याद करने के लिए।
खूबसूरती में बेमिसाल तुरतुक गांव
खूबसूरती में बेमिसाल तुरतुक गांव

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

Bihar Cabinet Expansion Live Updates: विजय चौधरी, विजेंद्र यादव, तेज प्रताप सहित इन विधायकों ने ली मंत्री पद की शपथKejriwal Press Conference: केजरीवाल ने बताया कैसे बनेगा देश का हर गरीब अमीर, इन 4 बड़े कामों पर दिया जोरदलित वोट छिटकने का डर: डैमेज कंट्रोल में जुटे सत्ता-संगठन, आधा दर्जन मंत्रियों ने जालोर में डेरा डालाकौन होगा बिहार का नेता प्रतिपक्ष: जेपी नड्डा की मौजूदगी में दिल्ली में बैठक, इन मुद्दों पर भी होगी चर्चाFIFA ने भारतीय फुटबॉल महासंघ को किया सस्पेंड; महिला वर्ल्ड कप की मेजबानी भी छीनीमहागठबंधन सरकार बनते आनंद मोहन को मिली आजादी, पटना में परिजनों से मिले, जेल के बदले सर्किट हाउस में बिताई रातसीएम गहलोत का आज से तीन दिवसीय गुजरात दौरा, चुनावी तैयारियों पर पार्टी नेताओं के साथ होगा संवादतेज हवा और झमाझम बारिश से लखनऊ में ऐतिहासिक भूल भुलैया का गुम्बद गिरा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.