scriptUniform Civil Code: Why Political, Social and Religious Basis of Law? | समान नागरिक संहिताः कानून का आधार राजनीतिक, सामाजिक और धार्मिक क्यों? | Patrika News

समान नागरिक संहिताः कानून का आधार राजनीतिक, सामाजिक और धार्मिक क्यों?

Published: Jun 29, 2023 10:12:26 pm

Submitted by:

Patrika Desk

समय की आवश्यकता और धर्मनिरपेक्षता की आधारशिला है समान नागरिक संहिता

समान नागरिक संहिताः कानून का आधार राजनीतिक, सामाजिक और धार्मिक क्यों?
समान नागरिक संहिताः कानून का आधार राजनीतिक, सामाजिक और धार्मिक क्यों?
डॉ. किरोड़ी लाल मीणा
लेखक राज्य सभा सदस्य हैं
.......................................

अपराधों, साक्ष्यों और अनुबंध के लिए लेक्स लॉसी रिपोर्ट के आधार पर वर्ष ब्रिटिश शासन के दौर में 1840 में एक समान कानून बनाया गया था। तब इसमें हिन्दुओं और मुस्लिमों के कुछ वैयक्तिक कानून छूट गए थे। जबकि दूसरी तरफ अंग्रेजी कानून के अधीन ब्रिटिश न्यायाधीशों द्वारा एक समान आवेदन की सुविधा प्रदान की गई थी। उस दौर में सती प्रथा और कई धार्मिक रीति-रिवाजों में महिलाओं से हो रहे भेदभाव के खिलाफ भी कई समाज सुधारक कानून बनाने को लेकर आवाज उठाने में जुटे थे। संविधान सभा में डॉ. बी.आर. आम्बेडकर समान नागरिक संहिता (यूसीसी) लागू करने के पक्ष में थे जबकि संविधान सभा के कुछ मुस्लिम प्रतिनिधि धार्मिक आधार पर वैयक्तिक कानूनों को बनाए रखने के पक्ष में थे।
Copyright © 2023 Patrika Group. All Rights Reserved.